राजस्थान: दो साल बाद इंजीनियर्स के हुए प्रमोशन तो अब अटकीं नियुक्तियां

राजस्थान को शुद्ध और स्वच्छ पानी पिलाने वाले इंजीनियर्स का सब्र टूटता जा रहा है.

राजस्थान: दो साल बाद इंजीनियर्स के हुए प्रमोशन तो अब अटकीं नियुक्तियां
राजस्थान को शुद्ध और स्वच्छ पानी पिलाने वाले इंजीनियर्स का सब्र टूटता जा रहा है.

जयपुर: जलदाय विभाग में सरकारी योजनाओं को अमलीजामा पहनाने वाले इंजीनियर्स का प्रमोशन तो दो साल बाद हो गया लेकिन अब तक नियुक्तियां नहीं दी. 

दो महीने पहले पदोन्नति के आदेश तो विभाग ने जारी कर दिए, लेकिन जलदाय विभाग इंजीनियर्स को नियुक्तियां देना ही भूल गया. दो साल से कार्मिक विभाग और पीएचईडी के बीच आपसी तालमेल के अभाव के चलते डीपीसी अटकी हुई थी, जैसे तैसे डीपीसी हुई तो अब नियुक्तियां अटक गईं.

यह भी पढ़ें- जयपुर: PHED में सरकारी खजाने की बर्बादी, करोड़ों के क्लोरीनेशन प्लांट्स को लगी जंग

टूट रहा है सब्र का बांध
राजस्थान को शुद्ध और स्वच्छ पानी पिलाने वाले इंजीनियर्स का सब्र टूटता जा रहा है. पेयजल योजनाओं को अमलीजामा पहनाने वाले इंजीनियर्स का दो साल बाद प्रमोशन तो हो गया लेकिन नियुक्तियां नहीं मिली. लंबे आंदोलन के बाद 16 जून को प्रमोशन के आदेश जारी हुए थे लेकिन अभी नियुक्त्यिां की फाइल आगे नहीं बढ़ी. प्रदेश में 160 जेईएन से एईएन के पद पर प्रमोशन हो गया लेकिन नियुक्तियां अभी भी बाकी हैं.

यह भी पढ़ें- PHED में 3 करोड़ की टंकी से बह रहा भष्ट्राचार, दोबारा बनाने के आदेश पर उठे सवाल

 

हर महीने हो रहा आर्थिक नुकसान
समय से प्रमोशन नहीं होने से प्रमोदी एईएन को हर महीने आर्थिक नुकसान हो रहा है. इंजीनियर सरकार से मांग कर रहे हैं कि जल्द से जल्द निुयक्तियां दी जाएं ताकि उन्हें आर्थिक लाभ मिल सके. इससे पहले भी पीएचईडी ने प्रमोशन के आदेश में देरी की थी, जिस कारण इंजीनियर्स ने आंदोलन किया था.

आंदोलन की राह पर जा सकते इंजीनियर्स
ऐसे में यदि समय रहते हुए इंजीनियर्स की नियुक्तियां नहीं हुईं तो वे आंदोलन की राह पर जा सकते हैं. इसलिए पीएचईडी विभाग से इंजीनियर मांग कर रहे हैं कि जल्द से जल्द उन्हें नियुक्तियां दी जाएं.