राजस्थान: सिरोही में मिग-27 फाइटर प्लेन हुआ क्रैश, पायलट सुरक्षित

सिरोही के गोडाणा गांव के बांध क्षेत्र में यह दुर्घटना हुई है.

राजस्थान: सिरोही में मिग-27 फाइटर प्लेन हुआ क्रैश, पायलट सुरक्षित
सिरोही जिले के शिवगंज में गिरा फाइटर प्लेन का हिस्सा.

नई दिल्ली: राजस्थान के सिरोही जिले के शिवगंज से बड़ी खबर आ रही है. यहां भारतीय वायुसेना का मिग-27 फाइटर प्लेन क्रैश हो गया है. सिरोही के गोडाणा गांव के बांध क्षेत्र में फाइटर प्लेन क्रैश हो कर गिरा है. बताया जा रहा है कि सिरोही जिले के आला अधिकारी मौके पर पहुंच चुके हैं.

एएनआई की ट्वीट के अनुसार, रविवार सुबह मिग-27 यूपीजी एयरक्राफ्ट जोधपुर से अपने रूटीन उड़ान के दौरान क्रैश हुआ है. विमान के क्रैश होने के साथ ही उसमें आग लग गई. मिल रही जानकारी के अनुसार, विमान का अवशेष दुर्घटना स्थल पर बिखरा पड़ा है. वहीं, फाइटर प्लैन का पायलट सुरक्षित बच गया है. जिसकी पुष्टि राजस्थान पुलिस के आईजी ने की है. वहीं, हादसे के कारणों की जांच के लिए कोर्ट ऑफ इंक्वायरी (Court Of Inquiry) का आदेश दिया जा चुका है.

आपको बता दें कि, रविवार को इस फाइटर प्लैन 11.45 में उतरलाई एयर फोर्स बेस से उड़ान भरा था. जिसके बाद इंजन में तकनीकी समस्या आने के कारण जोधपुर से 120 किलोमीटर दक्षिण में यह क्रैश हो गया. प्रारंभिक जांच में बताया जा रहा है कि अब तक कोई जानमाल के नुकसान की खबर नहीं है. हालांकि जांच के बाद दुर्घटना की सच्चाई सामने आएगी.

बताया जा रहा है कि प्लेन क्रैश होने के बाद पायलट ने पैराशूट से कूदकर अपनी जान बचाई. घटना की जानकारी मिलते ही जिला कलेक्टर सुरेन्द्रकुमार सोलंकी व पुलिस अधीक्षक कल्याणमल मीना सहित जिले के तमाम अधिकारी मौके पर पहुंचे और घटना की जानकारी ली. इसके बाद सेना के अधिकारी भी मौके पर पहुंचे.

घटना के बारे में प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि विमान में आग लगने के बाद यह पेड़ो से टकराते हुए करीब 200 से 300 मीटर तक घसीटते हुए बांध में यह बांध क्षेत्र में जा गिरा और तेज आवाज के साथ धमाका भी हुआ. घटना के बाद  जगह जगह विमान के टुकडे मलबे के रूप में बिखर गए.

इससे पहले भी फरवरी में राजस्थान के जैसलमेर जिले में एक मिग-27 ग्राउंड अटैक एयरक्राफ्ट क्रैश हो गया था. हादसा वायुशक्ति अभ्यास प्रदर्शन के दौरान हुआ था. मिग 27 का प्लेन खेतोलाई गांव के पास फील्ड फायरिंग रेंज में उड़ते वक्त जमीन पर आ गिरा. घटना 98 परमाणु परीक्षण स्थल से एक किलोमीटर दूर हाईवे की तरफ तरफ हुई थी, जो फील्ड फायरिंग रेंज के अंदर का इलाका है.

वहीं, 28 जनवरी को उत्‍तर प्रदेश के कुशीनगर में भारतीय वायुसेना का जगुआर लड़ाकू विमान क्रैश हुआ था. पायलट के विमान को आबादी क्षेत्र से दूर ले जाने के कारण बड़ा हादसा टल गया. जिसके बाद लड़ाकू विमान क्रैश होकर खेत में गिरा, उसमें आग लग गई थी.

वहीं, राजस्थान के बीकानेर में वायु सेना का मिग 21 8 मार्च को दुर्घटनाग्रस्त हो गया था. यह हादसा पक्षी के सामने आने से हुआ था. हादसे के दौरान पायलट ने कूदकर अपनी जान बचाई थी. बॉर्डर पर चल रहे तनाव के कारण बीकानेर में रोज की तरह अभ्यास के लिए निकला था. यह हादसा बीकानेर के पास शोभासर इलाके के एक रिहायशी इलाके में हुआ था. जिसके बाद जमीन पर पायलट बेहोशी की हालात में मिला था. इस दौरान फाइटर जेट पुरी तरह से जलकर खाख हो चुका था.

ऐसा पहली बार नहीं जब मिग 21 इस तरह से दुर्घटनाग्रस्त हुआ है. पहले भी बीकानेर के नाल वायु सेना से उड़े मिग 21 ऐसे जमीन पर आ चुके हैं. वहीं इस बार हुई घटना की जांच वायु सेना ने शुरू कर दी है.

(इनपुट: साकेत गोयल, जी मीडिया संवाददाता, सिरोही)