close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जयपुर: आखिरकार भारत के दिल में बसीं पाकिस्तान की सुमैरा, जानिए पूरी कहानी

जानकारी के अनुसार पाकिस्तान के कराची में रहने वाली सुमैरा से वर्ष 2007 में जोधपुर के शास्त्री नगर निवासी मोहम्मद अकरम ने निकाह किया था.

जयपुर: आखिरकार भारत के दिल में बसीं पाकिस्तान की सुमैरा, जानिए पूरी कहानी

जयपुर: पाकिस्तानी मूल की निवासी सुमैरा, गुरूवार से भारतीय हो गई हैं. सुमैरा को गुरुवार को विधिवत रूप से भारतीय नागरिकता मिल गई. सचिवालय में सुमैरा के ससुर अब्दुल सत्तार को सुमैरा का नागरिकता संबंधी प्रमाण पत्र सौंपा गया है.

कौन हैं सुमैरा
जानकारी के अनुसार पाकिस्तान के कराची में रहने वाली सुमैरा से वर्ष 2007 में जोधपुर के शास्त्री नगर निवासी मोहम्मद अकरम ने निकाह किया था. निकाह के बाद अकरम सुमैरा को जोधपुर ले आए थे. लेकिन निकाह के बाद भी सुमैरा को भारतीय नागरिक को मिलने वाली सुविधाएं नहीं मिल पा रही थी. लेकिन जब वर्ष 2015 में गृह मंत्रालय की ओर जोधपुर में पाक विस्थापितों के लिए नागिरकता शिविर लगाए गए. उस दौरान सुमैरा की नागरिकता के लिए आवेदन किया था. जिसके चलते गुरूवार को सचिवालय में गृह विभाग के वरिष्ठ उप सचिव भवानी शंकर ने सुमैरा के ससुर अब्दुल सत्तार को भारतीय नागरिका का प्रमाण पत्र सौंपा है. 

दरअसल, 2007 में पाकिस्तान से हिंदुस्तान आने के बाद सुमैरा यहीं की होकर रह गई. सुमैरा केवल एक बार वर्ष 2011 में अपने परिजनों से मिलने पाकिस्तान कराची गई थीं. आठ साल से वह अपने परिजनों से नहीं मिली. अब तक नागरिकता प्रमाण पत्र न मिलने के के कारण सुमैरा तमाम सुविधाओं से मंचित थीं. लेकिन भारतीय नागरिकता मिलने के बाद  पासपोर्ट व अन्य दस्तावेज बनने के कारण सुमैरा न केवल अपने परिजनों से मिलने जा सकेंगी, बल्कि दूसरे लोगों के समान उसे आवश्यक सुविधाएं भी मिलेगी.