close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जयपुर: यातायात पुलिस ने शराबी वाहन चालकों के खिलाफ चलाया विशेष अभियान

पुलिस ने दुर्घटनाओं को कम करने के लिए रात के समय शराबी वाहन चालकों पर नकेल कसने के लिए अभियान की शुरुआत की है.

जयपुर: यातायात पुलिस ने शराबी वाहन चालकों के खिलाफ चलाया विशेष अभियान
ट्रैफिक पुलिस की 13 टीमें रात 10 बजे से डेढ़ बजे तक सड़कों पर कार्रवाईयों को अंजाम देती है.

शरद पुरोहित/जयपुर: राजस्थान की राजधानी में सड़क दुर्घटनाओं को रोकने के लिए यातायात पुलिस अब सख्त हो गयी है. शहर में होने वाली अधिकत्तर सड़क दुर्घटनाओं का कारण शराब पीकर वाहन चलाना माना जा रहा है. जिसके चलते अब जयपुर पुलिस शहर में शराबी वाहन चालकों के खिलाफ विशेष अभियान चला रही है, जिसके सकारात्मक परिणाम भी देखने को मिल रहे है.

शहर में आये दिन ऐसे दुर्घटनाओं के मामले देखने को मिल रहे है, जिनमें कई लोगों की मौत हो रही है. जेडीए सर्किल और त्रिमुर्ति सर्किल पर हुई दुर्घटनाओं के तो सीसीटीवी फूटेज में सामने आये जिनमे 6 लोगों की मौत हो गई. दोनों दुर्घटनाओं में आरोपी चालक शराब पीकर वाहन चला रहे थे. पुलिस ने इन दुर्घटनाओं को कम करने के लिए रात के समय शराबी वाहन चालकों पर नकेल कसने के लिए अभियान की शुरुआत की है. इस अभियान में शाम 7 बजे से रात 10 बजे तक पुलिस की करीब 20 टीमें शराबी वाहन चालकों के खिलाफ कार्रवाई कर रही है. जयपुर में देर रात तक कई पब और बार खूले रहते है, जिनसे निकलने वाले युवक युवतियां भी रात को शराब पीकर वाहन चलाते है. 

ऐसे में यूथ को रोकने के लिए भी शहर में ट्रैफिक पुलिस की 13 टीमें रात 10 बजे से डेढ़ बजे तक सड़कों पर कार्रवाईयों को अंजाम देती है. शराब पीकर वाहन चलाने वाले वाहन चालको की चैकिंग के लिए यातायात पुलिस के 1 उप निरीक्षक, 5 हैड कांस्टेबल व कांस्टेबल को नियुक्त किया गया. प्रत्येक टीम ब्रेथ एनालाईजर , बॉडीवार्न कैमरा, रिफ्लेक्टिव जैकिट, रिफ्लेक्टिव टॉर्च जैसे सामानों से लैस होकर नाकाबंदी पाईन्टो पर कार्रवाई करते नजर आ रहे है.

अभियान के तहत रात में शराब पीकर वाहन चलाने वाले वाहन चालको की चैकिंग की जाकर धारा 185 एम.वी.एक्ट के तहत पुलिस ने 3 दिन के अभियान में करीब 1400 वाहन जब्त किये है. इसके अलावा पुलिस अब रात में रोजाना अभियान चलाकर करीब 100 से डेढ सो वाहनों के खिलाफ कार्रवाई कर रही है. इतना ही नही पुलिस अब सख्ती दिखाते हुए वाहन चालकों के लाइसेंस भी निलंबित भी करवा रही है. सुप्रिम कोर्ट के निर्देशानुसार पुलिस की ओर से लाइसेंस निलम्बन के लिए परिवहन विभाग को भिजवाए जा रहे है. 

पुलिस की ओर से की गयी कार्रवाईयों के बाद में कई वाहन चालकों की ओर से लाइसेंस नहीं बना होने एक शपथ पत्र पेश किया जा रहा है. जिसके बाद पुलिस की ओर से धारा 5/180 एमवीएक्ट के तहत 1000 रुपये का चालाना काटा जा रहा है. कई वाहन चालकों की ओर से लाइसेंस गुमशुदगी की रिपोर्ट भी पेश की जा रही है. डीसीपी राहुल प्रकाश ने कहा कि ऐसे वाहन चालकों पर निगरानी भी रखी जा रही है कि इनकी ओर से झूठे तथ्य पेश नही किये जाये। डीसीपी का कहना है कि भविष्य में फिर से गलती दोहराये जाने पर शराबी वाहन चालकों के खिलाफ आईपीसी की धारा के तहत मुकदमा दर्ज करवाया जाएगा.

शहर में पुलिस की ओर से की गयी सख्ती के बाद अब सकारात्मक परिणाम सामने आने लगे है. गाड़ी जब्त होने और लाइसेंस निलंबित होने के डर से लोग शराब पीकर वाहन चलाने से कतराते हुए नजर आ रहे है. उम्मीद है कि ट्रैफिक पुलिस की ओर से शहर में सख्ती के साथ ये अभियान इसी तरह से जारी रहेंगे जिससे कि दुर्घटनाओं को कम किया जा सके.