close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कोटा: एमबीएस अस्पताल में ठेका श्रमिकों की हड़ताल जारी, मरीजों की बढ़ी परेशानी

एमबीएस में ठेका श्रमिको के वेतन में गबन का मामला लगातार तूल पकड़ा जा रहा है. पिछले एक सप्ताह से ठेका श्रमिक आंदोलन कर रहे हैं.

कोटा: एमबीएस अस्पताल में ठेका श्रमिकों की हड़ताल जारी, मरीजों की बढ़ी परेशानी
ठेका श्रमिकों व अस्पताल प्रशासन के बीच हुई बैठक भी बेनतीजा रही.

कोटा: प्रदेश के कोटा के एमबीएस अस्पताल में ठेका श्रमिकों का 2 घण्टे का कार्य बहिष्कार मरीजो व तीमारदारों पर भारी पड़ रहा है. उसके बाद भी अस्पताल प्रशासन समस्या समाधान को लेकर गम्भीर नहीं है. आज भी अस्पताल में ऐसी तस्वीरें दिखाई दी जिन्होंने इंसानियत को झकझोर कर रख दिया.

एमबीएस में ठेका श्रमिको के वेतन में गबन का मामला लगातार तूल पकड़ा जा रहा है. पिछले एक सप्ताह से ठेका श्रमिक आंदोलन कर रहे हैं. परिणाम स्वरूप अस्पताल प्रशासन की लापरवाही मरीज व तीमारदारों पर भारी पड़ रही है. अस्पताल में मरीज व तीमारदार पेरेशान हैं. ठेका श्रमिक के आज दूसरे दिन भी दो घण्टे के कार्य बहिष्कार से अस्पताल की व्यवस्था चरमरा गई. मृतक के शव को ले जाने के लिए ट्रॉली व ट्रॉली बाय तक नहीं मिला. मजबूर परिजन एम्बुलेन्स के स्ट्रेचर पर शव को ले जाना पड़ा. 

दूसरे मामले में एक तीमारदार, मरीज को अपने कंधे पर लाद कर इधर उधर भटकता रहा. तीसरी तस्वीर में भी ट्रॉली के अभाव में एक बुजुर्ग महिला को दो लोग सहारा देकर अस्पताल में ला रहे थे. कमोबेश ऐसी ही तस्वीरें दो घण्टे के कार्य बहिष्कार के दौरान अस्पताल में देखने को मिली. जो व्यवस्था पर प्रश्न चिन्ह लगाते हुए अपने आप में शर्मसार करने वाली है. इसके इतर अस्पताल प्रबंधन केवल वार्ताकर व कमेटी गठित कर मामले से से इति श्री कर रहा है.

अस्पताल प्रशासन से ठेकेदार के खिलाफ कार्रवाई की मांग पर अड़ी है और वेतन भुगतान में गबन की राशि वापस लौटाने की मांग कर रहे है. इधर ठेकेदार के अपने तर्क है. उनका कहना है कि दो साल से मेन पावर सप्लाई में कभी दिक्कत नहीं हुई. ठेका श्रमिको की सहमति से प्रति सदस्य 150 रुपये काटे जा रहे थे. गबन के आरोप बेबुनियाद है. फिर कमेटी जो निर्णय लेगी उसकी पालना की जाएगी.

इधर ठेका श्रमिकों. के 2 घण्टे कार्य बहिष्कार से पर्ची काउंटर,रसीद काउंटर, सेंट्रल लेब व वार्डो में कार्य प्रभावित हुआ. ठेका श्रमिकों व अस्पताल प्रशासन के बीच हुई बैठक आज भी बेनतीजा रही है. एक बार फिर अस्पताल प्रशासन ने गबन की जांच के लिए 4 सदस्य कमेटी गठित कर दी है जो 3 दिन में अपनी रिपोर्ट पेश करेगी.