RTO इंस्पेक्टर और साथी दलालों के खिलाफ ACB कोर्ट में चालान पेश, 7 आरोपी जेल में

झालावाड़ जिले (Jhalawar) में मध्य प्रदेश की सीमा के नजदीक तीन धार चौराहे के पहले ट्रक चालकों से अवैध वसूली के मामले में भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (Rajasthan ACB) कोटा ग्रामीण की टीम ने एसीबी कोर्ट (ACB Court) में चालान पेश किया है. 

RTO इंस्पेक्टर और साथी दलालों के खिलाफ ACB कोर्ट में चालान पेश, 7 आरोपी जेल में
फाइल फोटो

कोटा: झालावाड़ जिले (Jhalawar) में मध्य प्रदेश की सीमा के नजदीक तीन धार चौराहे के पहले ट्रक चालकों से अवैध वसूली के मामले में भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (Rajasthan ACB) कोटा ग्रामीण की टीम ने एसीबी कोर्ट (ACB Court) में चालान पेश किया है. इस मामले में एसीबी ने अपनी जांच में 7 आरोपियों को दोषी माना है. जिनमें परिवहन निरीक्षक (RTO Inspector) विक्रम सिंह गिल, संविदा कर्मी बृजराज सिंह और तेजकरण ही अवैध वसूली का नेटवर्क संचालित कर रहे थे. 

एसीबी के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक प्रेरणा शेखावत ने बताया कि परिवहन विभाग ने निजी सुरक्षा गार्डों को नहीं लगाने के लिए साफ तौर पर निर्देश जारी किए हुए हैं. इसके लिए बाकायदा विभाग ने एक सर्कुलर भी जारी किया था. इसके बावजूद परिवहन निरीक्षक विक्रम सिंह गिल ने निजी सुरक्षा गार्ड लगाकर ट्रक चालकों से अवैध वसूली कर रहे थे, यह उनकी जांच में सामने आया है.

साथ ही उन्होंने बताया कि इस मामले में नागौर निवासी बनवारी ने 2017 फरवरी में सिटी चौकी में परिवाद दिया था. जिसमें रिश्वत के इस मामले का जिक्र किया था. साथ ही उसने जनवरी 2017 से अक्टूबर 2017 के बीच की पूरी रिकॉर्डिंग भी एसीबी को उपलब्ध करवाई थी. जिसमें 500 रुपए लेकर ही ट्रक को जाने दिया जाता था. इसके बाद एसीबी ने कार्रवाई करते हुए 4 सुरक्षा गाड्डों को अक्टूबर 2017 में रिश्वत लेते हुए ट्रैप कर लिया था. 

इस मामले में चारों सुरक्षा गार्ड आरटीओ के अधिकारियों ने वसूली के लिए लगा रखे थे. कार्रवाई के बाद इस मामले की जांच एसीबी ग्रामीण को सौंप दी गई थी. इसके जांच में सामने आया है कि परिवहन निरीक्षक विक्रम सिंह गिल, संविदा कार्मिक बृजराज और तेजकरण भी दोषी है. उन्हें गिरपतार कर कोर्ट में पेश किया था जिसके बाद आरोप पत्र दाखिल किया है.

ये भी पढ़ें: PCC बैठक में Ajay Maken ने नेताओं को दिया Task, Cabinet विस्तार को लेकर कही ये बड़ी बात...