लोकसभा चुनाव 2019: बाड़मेर में कांग्रेस, बीजेपी के सामने बन सकती है बड़ी चुनौती

2018 में हुए विधानसभा चुनाव के दौरान राज्य की राजनीति खासकर मारवाड़ की राजनीति पर सबसे अधिक प्रभाव पड़ा. 

लोकसभा चुनाव 2019: बाड़मेर में कांग्रेस, बीजेपी के सामने बन सकती है बड़ी चुनौती
बाड़मेर में 1957 से हुए कुल 15 लोकसभा चुनाव में 9 बार कांग्रेस का कब्जा रहा है.

बाड़मेर: लोकसभा चुनाव 2019 को लेकर केंद्र और विपक्ष पूरी तरह से चुनावी मोड में आ गए हैं. लोकसभा चुनावों को लेकर एक ओर जहां केंद्र सत्ता पर काबिज रहने के लिए हर तरह का प्रयास कर रही है तो वहीं विपक्ष द्वारा भी केंद्र को सत्ता से हटाने के लिए पूरी तैयारी की जा रही है. इसी कड़ी में राजस्थान की बात करें तो आपको बता दें, राजस्थान में कुल 25 लोकसभा सीटे हैं. 2014 में हुए लोकसभा चुनाव में मोदी लहर के चलते बीजेपी को प्रदेश की सभी 25 सीटों पर जीत मिली थी. 

इसी बीच राजस्थान की बाड़मेर लोकसभा सीट की बात करें तो यहां से बीजेपी के सोनाराम चौधरी मौजूदा सांसद हैं. उन्होंने 2014 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के लख्खीराम लाल को इस क्षेत्र में मात दी थी. मनोज राजोरिया ने कुल 4,02,407 वोटों से यहां जीत हासिल की थी. वहीं कांग्रेस के लख्खीराम लाल 3,75,191 वोटों पर सिमट गए थे. 

हालांकि, 2018 में हुए विधानसभा चुनाव के दौरान राज्य की राजनीति खासकर मारवाड़ की राजनीति पर सबसे अधिक प्रभाव पड़ा. जब बीजेपी के संस्थापक सदस्य रहे पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह जासोल के बेटे मानवेंद्र सिंह ने बीजेपी से इस्तीफा दे दिया और कांग्रेस में शामिल हो गए. आपको बता दें, जासोल परिवार का मारवाड़ की राजनीति खासा दबदबा रहा है. लेकिन 2014 के लोकसभा चुनाव में बाड़मेर संसदीय सीट पर बीजेपी से टिकट न मिलने पर जसवंत सिंह निर्दलीय चुनाव लड़ने को मजबूर हुए तो वहीं पार्टी के टिकट पर कर्नल सोनाराम ने उन्हें पराजित कर दिया. मानवेंद्र सिंह बाड़मेर की शिव विधानसभा से विधायक थे लेकिन पार्टी में उचित सम्मान न मिलने का आरोप लगाते हुए उन्होंने इस्तीफा दे दिया.

बाड़मेर लोकसभा सीट पर 1957 से हुए कुल 15 लोकसभा चुनाव में 9 बार कांग्रेस का कब्जा रहा है. जबकि 2 बार बीजेपी, 1 बार निर्दलीय, 1 बार बीएलडी, 1 बार आरआरपी और 1 बार जनता दल ने इस सीट का पर जीत हासिल की है. कांग्रेस के टिकट पर कर्नल सोनाराम 1996-2004 तक लगातार तीन बार प्रतिनिधित्व कर चुके हैं. फिलहाल कर्नल सोनाराम चौधरी यहां से बीजेपी के सांसद हैं.

बाड़मेर लोकसभा क्षेत्र में कुल 8 विधानसभा क्षेत्र हैं. जिसमें शिव, बाड़मेर, वायतू, पचपदरा, सिवाना, गुढ़ामालानी चौहटन और जैसलमेर शामिल है. 

आपको बता दें, बाड़मेर संसदीय क्षेत्र सामान्य सीट है. इस लोकसभा में बाड़मेर की सात और जैसलमेर की एक विधानसभा शामिल हैं. साल 2011 की जनगणना के अनुसार यहां की आबादी 29,70,008 है. जिसका 91.67 प्रतिशत ग्रामीण और 8.33 प्रतिशत हिस्सा शहर में निवास करता है. जबकि कुल आबादी का 16.59 फीसदी अनुसूचित जाति और 6.77 फीसदी अनुसूचित जनजाति है.