राजस्थान: MLA ने बढ़ाया मदद हाथ, कहा- 'किसी को सोने नहीं दे सकता भूखा'

बाड़मेर से विधायक मेवाराम इन दिनों लगातार सुबह से शाम तक गरीब और मजदूरों के लिए खाने-पीने की व्यवस्था के साथ जिला प्रशासन संग कंधे से कंधा मिलाकर चल रहे हैं.

राजस्थान: MLA ने बढ़ाया मदद हाथ, कहा- 'किसी को सोने नहीं दे सकता भूखा'
मेवाराम जैन ने कहा कि 15 से ज्यादा भोजनशाला बाड़मेर में चल रही हैं

भूपेश आचार्य/ बाड़मेर: वैश्विक महामारी बन चुके कोरोना वायरस (Coronavirus) से निपटने के लिए पूरा विश्व चिंतित है. इसको लेकर विभिन्न स्तर पर कई एहतियातन कदम भी उठाए जा रहे हैं. इसी क्रम में, राजस्थान के बाड़मेर जिले में इस महामारी से निपटने के लिए मेडिकल स्टाफ, प्रशासन और पुलिस दिन-रात लगे हुए हैं.

वहीं, एक तरफ जहां राजस्थान में इन दिनों कई नेता अपने घर पर बैठे हैं, ऐसे में बाड़मेर से विधायक मेवाराम इन दिनों लगातार सुबह से शाम तक गरीब और मजदूरों के लिए खाने-पीने की व्यवस्था के साथ जिला प्रशासन संग कंधे से कंधा मिलाकर चल रहे हैं.

इसी के कारण अब बाड़मेर में जिला मुख्यालय पर हमेशा 10 हजार से ज्यादा लोगों तक खाने-पीने की सामग्री पहुंच रही है. जानकारी के अनुसार, ऐसी करीब 15 से ज्यादा भोजनशाला बाड़मेर में चल रही हैं, जो रोज सुबह सैकड़ों की तादाद में टिफिन बनाकर गरीब और भूखों में बांटने का काम कर रही है. यह सबकुछ बाड़मेर विधायक मेवाराम जैन के कहने पर स्थानीय लोग द्वारा किया जा रहा है.

बाड़मेर विधायक मेवाराम जैन ने कहा कि जिस तरीके से यह विपदा है, इससे निपटने के लिए मुख्यमंत्री के निर्देश पर मैं अपने जिले में किसी भी गरीब या मजदूर को भूखा नहीं सोने दे सकता हूं इसीलिए सुबह से शाम तक भामाशाह की मदद से गरीबों के भोजन की व्यवस्था की गई है.
 
विधायक ने आगे कहा कि कोरोना वायरस बहुत ही खतरनाक है, इस वायरस से पूरा विश्व ग्रस्ति है. हालांकि, बाड़मेर जिले के लिए सुखद बात यह है की अभी तक यहां एक भी कोरोना पॉजिटिव मरीज नहीं मिला है. उन्होंने कहा कि मेरी आज ही मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) से बात हुई है, वह जिले का फीडबैक लगातार ले रहे है. साथ ही, सीएम प्रदेश की जनता के लिए चिंतित है.
 
मेवाराम जैन ने कहा कि राजस्थान में कोरोना को लेकर लॉकडाउन सहित जो भी फैसले लिए गए हैं, उसके बाद पूरे देश में लागू हुए हैं. जिले में भामाशाह प्रतिदिन सामने आ रहे हैं और मैं भी अपील करना करता हूं कि अपने धन का इस महामारी में सदुपयोग करें.