close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान यूनिवर्सिटी छात्रसंघ चुनाव: NSUI ने जारी किया 13 सूत्री चुनावी घोषणा पत्र

घोषणा पत्र में 24 घंटे लाइब्रेरी, एम्बुलेंस, डिस्पेंसरी की सुविधाए दिलाने का वादा किया गया है.

राजस्थान यूनिवर्सिटी छात्रसंघ चुनाव: NSUI ने जारी किया 13 सूत्री चुनावी घोषणा पत्र
27 अगस्त को छात्र संघ चुनाव होने वाले हैं. (फाइल फोटो)

जयपुर: राजस्थान यूनिवर्सिटी छात्रसंघ चुनाव 2019 को लेकर रविवार को एनएसयूआई ने अपना 13 सूत्री चुनावी वादों का घोषणा पत्र जारी किया. घोषणा पत्र में 24 घंटे लाइब्रेरी, एम्बुलेंस, डिस्पेंसरी की सुविधा का वादा किया गया है.

इसके अलावा विश्वविद्यालय को कम्प्यूटरीकृत करने के अलावा, जेएलएन मार्ग को परिवहन की सुविधा से जोड़ने, विवि के सामने ओवरब्रिज बनाने सहित 13 वादों को चुनावी घोषणा पत्र में शामिल किया गया. घोषणा पत्र में एनएसयूआई के प्रदेश अध्यक्ष ने छात्र हित का ख्याल रखने का दावा किया है.

LIVE TV देखें

एनएसयूआई प्रदेशाध्यक्ष अभिमन्यू पूनियां ने बताया कि विश्वविद्यालय में लंबे समय से एनएसयूआई छात्र हित के लिए संघर्ष कर रही है. पूनियां का कहना है कि अगर एनएसयूआई इस चुनाव में जीत हासिल करती है तो इन सभी वादों को पूरा करेगी.

 

छात्र संघ चुनाव के दौरान बागियों को लेकर पूनियां ने कहा कि पार्टी आलाकमान ने बागियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए हैं. उन्होंने कहा कि 28 अगस्त को इन बागियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करते हुए 6 साल के लिए संगठन से निष्कासित किया जाएगा.

उच्च शिक्षा मंत्री भंवर सिंह भाटी के सोशल मीडिया पर एनएसयूआई के पैलन को जिताने की अपील पर भी उन्होंने अपनी राय रखी. उन्होंने कहा कि कहा कि भंवर सिंह भाटी एनएसयूआई के कार्यकर्ता रहे हैं और इसी वजह से उन्होंने अपील की है. इस दौरान पूनियां ने बीजेपी पर भी आरोप लगाए. उन्होंने कहा कि बीजेपी सरकार के भी कई मंत्री एबीवीपी को जिताने के लिए अपील कर चुके हैं. तब तो ये सवाल नहीं उठाए गए.

इस दौरान एनएसयूआई की ओर से अध्यक्ष पद प्रत्याशी उत्तम चौधरी ने कहा की समस्याओं के समाधान को लेकर पूरे साल संघर्ष किया है और अगर छात्र मतदाता समर्थन देकर जीत दिलाते हैं तो एनएसयूआई की ओर से सभी वादों को पूरा किया जाएगा. उन्होंने यह भी कहा की बागी भी हालांकि संगठन के ही हिस्से हैं. लेकिन इस चुनाव में बागियों से कोई फर्क नहीं पड़ने जा रहा है.