झालावाड़: पैरा कमांडो राजेंद्र के परिजनों ने पार्थिव शरीर घर ले जाने से किया इंकार, ये है वजह

झालावाड़ जिले के बाघेर कस्बे के हरीगढ़ चौराहे के समीप रविवार को खानपुर की ओर से आ रही एक तेज रफ्तार कार ने झालावाड़ से अपने गांव लडानियां लौट रहे बाइक सवार सेना के पैरा कमांडो राजेंद्र मीणा और उनके भाई को जोरदार टक्कर मार दी थी.

झालावाड़: पैरा कमांडो राजेंद्र के परिजनों ने पार्थिव शरीर घर ले जाने से किया इंकार, ये है वजह
हादसा इतना भीषण था कि बाइक सवार दोनों भाइयों की मौके पर ही मौत हो गई थी.

महेश परिहार, झालावाड़: जिले के खानपुर थाना क्षेत्र में झालावाड़-बारां मेगा हाईवे पर रविवार शाम एक सड़क हादसे में सेना के पैरा कमांडो राजेंद्र मीणा की उनके भाई के साथ मौत हो गई थी. 

आज यानी सोमवार को शव के पोस्टमार्टम के बाद उनके परिजनों और ग्रामीणों ने मृतक को सैन्य सम्मान दिए जाने और पूरे राजकीय सम्मान के साथ शव को गांव ले जाने की मांग को लेकर काफी देर तक शव नहीं लिया. बाद में मौके पर पहुंचे प्रशासनिक अधिकारियों और सेना के अधिकारियों की समझाईश और राजकीय सम्मान के साथ अंत्येष्टि किए जाने के आश्वासन के बाद ग्रामीण शव लेने पर राजी हुए.

गौरतलब है कि झालावाड़ जिले के बाघेर कस्बे के हरीगढ़ चौराहे के समीप रविवार को खानपुर की ओर से आ रही एक तेज रफ्तार कार ने झालावाड़ से अपने गांव लडानियां लौट रहे बाइक सवार सेना के पैरा कमांडो राजेंद्र मीणा और उनके भाई को जोरदार टक्कर मार दी थी. हादसा इतना भीषण था कि बाइक सवार दोनों भाइयों की मौके पर ही मौत हो गई थी. 

घटना के बाद कार चालक कार को मौके पर ही छोड़कर भाग निकला. मृतक राजेंद्र मीणा सेना में कमांडो थे और फिलहाल जयपुर से छुट्टी लेकर अपने घर आए थे. मृतक के पोस्टमार्टम के वक्त जिला चिकित्सालय की मोर्चरी के बाहर सैंकड़ों ग्रामीणों की भीड़ इकट्ठा हो गई. 
बाद में सेना के जवान सेना का ट्रक लेकर जिला अस्पताल पहुंचे, जहां से उनके पार्थिव शरीर को उनके गांव ले जाया गया. वहीं दो सगे भाइयों की दर्दनाक मौत के बाद लडानियां गांव में मातम पसर गया है.