close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जयपुर रेलवे स्टेशन पर खुलेआम नियमों को तोड़ रही जनता, सुरक्षा बल बेफिक्र

रेलवे सुरक्षा बल सुरक्षा के सभी दावों के बावजूद धरातल पर सुरक्षा नहीं लापरवाही दिखाई देती है. ऐसे नजारे एक बार नहीं बार-बार स्टेशन पर देखने को मिलते है. 

जयपुर रेलवे स्टेशन पर खुलेआम नियमों को तोड़ रही जनता, सुरक्षा बल बेफिक्र
स्टेशन पर मौजूद रेलवे सुरक्षा बल और रेलवे प्रशासन आंखे मूंदे बैठा है.

दामोदर प्रसाद/जयपुर: राजधानी जयपुर के रेलवे स्टेशन पर सुरक्षा के लिए तैनात रेलवे सुरक्षा बल लापरवाही की राह पर दिनों दिन आगे बढ़ रहा है. रेलवे सुरक्षा बल के सामने ही जनता रेल पटरियों पर बैठे रहते हैं लेकिन आरपीएफ और रेलवे प्रशासन इन पर कार्रवाई तो दूर इन लोगों को यहां पर न बैठने को लेकर कोई आदेश देने की जहमत भी नहीं उठाता है. अब बड़ा सवाल यह है कि इसके बाद अगर कोई बडा हादसा हो जाता है तो कौन जिम्मेदार होगा?

हालात ऐसे हो गए हैं कि आरपीएफ और रेलवे प्रशासन के अनदेखी को करण ना ही यात्रियों को नियमों की परवाह, ना ही अपनी मौत की परवाह. जिसका परिणाम यह है कि लोग बिना परवाह किए बिना ही रेल पटरियों पर बैठकर ट्रेन आने का इंतजार करते नजर आ जाते है. इतने बड़ी लापरवाही के लिए जिम्मेदार कौन होगा, यात्री या फिर रेलवे प्रशासन. वैसे रेलवे प्रशासन सुरक्षा को लेकर बड़े बड़े दावे तो करता है लेकिन सुरक्षा की जिम्मेदारी को लेकर कोई कोशिश दिखाई नहीं देती.

रेलवे सुरक्षा बल सुरक्षा के सभी दावों के बावजूद धरातल पर सुरक्षा नहीं लापरवाही दिखाई देती है. ऐसे नजारे एक बार नहीं बार-बार स्टेशन पर देखने को मिलते है. राजधानी जयपुर के बडे रेलवे स्टेशन कहे जाने वालों में गांधीनगर रेलवे स्टेशन, दुर्गापुरा स्टेशन और कनकपुरा रेलवे स्टेशन पर लापरवाही देखी जा रही है. जब राजधानी में इतने बुरे हाल है तो प्रदेश भर के स्टेशनों पर क्या हाल होंगे.

देश का पहला, बड़ी लाइन का महिला रेलवे स्टेशन जिन्हें रेल मंत्री की इच्छा पर गांधीनगर महिला रेलवे स्टेशन बनाया गया था. इस स्टेशन पर रेलवे प्रशासन और रेलवे सुरक्षा बल स्टाप में सभी महिला ही कार्यरत है, लेकिन कितनी गंभीर है महिला स्टाप गांधीनगर रेलवे स्टेशन पर देखी जा सकती है. लापरवाही की हदे ही पार हो रही है. लोग ट्रेन आने के लिए प्लेट फार्म को छोडकर रेल पटरियों पर बैठकर इंतजार करते है. एक नहीं दो नहीं बडी संख्या में लोग रेल पटरियों पर बैठकर उलघंन कर रहे है. लेकिन स्टेशन पर मौजूद रेलवे सुरक्षा बल और रेलवे प्रशासन आंखे मूंदे बैठा है.

कई बार गांधीनगर रेलवे स्टेशन पर तैनात महिला स्टाप द्वारा यात्रियों को बेवजह परेशान किया जाता है. इसके लिए रेलवे जयपुर मंडल के अधिकारियों तक कई बार मौखिक तौर पर शिकायत की जा चुकी है, लेकिन रेलवे के उच्चाधिकारी स्टेशन पर मौजूद रेलवे स्टाप का पक्ष लेते हुए मामले को दबा देते है. वहीं स्टेशनों पर इतनी बडी लापरवाही के लिए भी रेलवे के उच्चाधिकारी कोई एक्शन लेते हुए नजग नहीं आते.