राजस्थान: CISF ने 50 साल किए पूरे, गोल्डन जुबली समारोह में जवानों ने किया रक्तदान

CISF के गोल्डन जुबली कार्यक्रम में कई तरह के कार्यक्रम आयोजित किए गए. CISF के 100 से अधिक जवानों ने इस मौके पर रक्तदान किया

राजस्थान: CISF ने 50 साल किए पूरे, गोल्डन जुबली समारोह में जवानों ने किया रक्तदान
CISF की शुरूआत 3 हजार की संख्या के साथ 1996 में हुई थी

दामोदर प्रसाद/जयपुर: जयपुर एयरपोर्ट ट्रर्मिनल 2 पर रविवार को सीआईएसएफ ने गोल्डन जुबली के साथ 50 साल पूरे करने का भव्य समारोह आयोजन किया. आज देशभर के विभिन्न जगहों पर सीआईएसएफ की ओर से गोल्डन जुबली कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है. इस कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप महात्मा गांधी अस्पताल चेयरमैन बीएल स्वर्णकार, एयरपोर्ट निदेशक जेएस बलहारा. विशिष्ट अतिथि पूर्व सीआईएसएफ कमांडेंट इंद्रराज सिंह सहित एयरपोर्ट तैनात सीआईएसएफ के आलाधिकारी भी मौजूद रहे. कार्यक्रम दीप प्रज्जवलन के साथ शुभारंभ हुआ. इस दौरान एयरपोर्ट पर बडी संख्या में यात्रियों ने भी सीआईएसएफ के जवानों ने करतब देखे.

CISF के गोल्डन जुबली कार्यक्रम में कई तरह के कार्यक्रम आयोजित किए गए. CISF के 100 से अधिक जवानों ने इस मौके पर रक्तदान किया. स्टूडेंट एसोसिएशन के 50 नौजवानों के साथ-साथ सभी एयरलाइंस कंपनियों के कर्मचारियों ने भी खुलकर रक्तदान किया. रक्तदान शिविर में एकत्रित रक्त को गरीब बेहसहारा लोगों के जीवन बचाने के लिए काम लिया जाएगा. 

बता दें कि CISF समय-समय पर रक्तदान करने के लिए शिविर का आयोजन करती रहती है. देश के हर नागरिक को हर साल एक या दो बार रक्तदान करना चाहिए जिससे देश में कोई भी व्यक्ति रक्त के बिना जान नहीं गवां सके. महात्मा गांधी अस्पताल चेयरमैन ने बताया देश के एयरपोर्टों में सबसे पहले जयपुर एयरपोर्ट पर ही CISF बटालियन की सुरक्षा के लिए तैनात की गई थी. 

रविवार को देशभर के सभी औधोगिक क्षेत्रों और एयरपोर्टों पर CISF की सुरक्षा बल सुरक्षा दे रहा है. वहीं एयरपोर्ट CISF कमांडेट ने बताया की 3 हजार की संख्या के साथ 1996 में शुरूआत हुई थी जो आज बढकर 1.54 लाख की संख्या जवानों की हो गई है. जबकि भारत सरकार की ओर से 1.80 की संख्या बढाने की अनुमति मिली हुई है.

जयपुर एयरपोर्ट निदेशक जेएस बलहारा ने बताया की CISF बेखूबी से 50 साल होने पर गोल्डन जुबली मना रही है. इसके लिए जयपुर एयरपोर्ट की ओर से भी सभी प्रकार का सहयोग दिया गया है. CISF और जयपुर एयरपोर्ट ऑथॉरिटी आपस मिलकर समय-समय पर मिलकर कार्य करती है. CISF गोल्डन जुबली पर इस प्रकार के कार्यक्रम में जवानों ने जो डेमोस्टेशन किया मौजूद यात्रियों ने भी देखकर देश के जवानों की तारीफ की इन जवानों की वजह से ही देश के लोग आज सुरक्षित है. इन जवानों की जंबाजीं को सलाम करते है.

CISF के गोल्डन जुबली कार्यक्रम में सबसे पहले केक काटकर सेलिब्रेट किया गया. एक दूसरे का मुहं मिठा कर CISF के 50 साल पूरे होने की बधाई दी. इस दौरान बताया गया की CISF देश की पैरा मिलिट्री फोर्स है. देश के सरकारी संस्थाओं से लेकर न्यूक्लियर पावर प्लांट तक की सुरक्षा का जिम्मा CISF संभाल रही है. देश में जब ही भरोसमंद अर्धसैनिक बलों को जिम्मेदारी सौपी जाती है तो सबसे पहले CISF का नाम पहले आता है. सुरक्षा के मामले में समझौता उनके अनुशासन में नहीं है.