close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: महिला दिवस पर लोकसभा और विधानसभा चुनाव में आरक्षण की उठी मांग

मंत्री ममता भूपेश ने कहा कि विधानसभा और लोकसभा में महिलाओं की गिनी चुनी सीटे है. हर क्षेत्र में महिलाओं की भागीदारी तो बढ़ गई

राजस्थान: महिला दिवस पर लोकसभा और विधानसभा चुनाव में आरक्षण की उठी मांग

जयपुर: राजीव गांधी के वक्त में महिलाओं को सशक्त और मजबूत बनाने के लिए पंचायतीराज चुनाव में आरक्षण मिला लेकिन अब तक लोकसभा और विधानसभा चुनाव में महिलाओं को इतनी सीटे नहीं मिल पाई. समय समय पर चुनावों में महिला आरक्षण की मांग तो उठी, लेकिन अब तक कामियाबी नहीं मिली. महिला दिवस पर महिलाओं के उत्थान के लिए एक बार फिर से महिला आरक्षण की मांग उठी. महिला बाल विकास मंत्री ममता भूपेश ने एक बार फिर से महिला आरक्षण पर जोर दिया और 33 फीसदी आरक्षण की बात कही. अंतराष्ट्रीय महिला दिवस पर जयपुर में राज्य स्तरीय कार्यक्रम हुआ, जिमसें मंत्री ममता भूपेश ने इस मांग को और तेज कर दिया.

मंत्री ममता भूपेश ने कहा कि विधानसभा और लोकसभा में महिलाओं की गिनी चुनी सीटे है. हर क्षेत्र में महिलाओं की भागीदारी तो बढ़ गई, लेकिन महिला आरक्षण कब लागू होगा. उनका कहना था कि राहुल गांधी समेत पूरी कांग्रेस पार्टी महिला आरक्षण के पक्ष में है. इसके अलावा उन्होंने आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को राजस्थान की ताकत बताया. उन्होंने कार्यकर्ताओं पर विश्वास जताया है कि एक साल के भीतर विभाग को नई पहचान मिलेगी. इसके अलावा स्किल डवलमवेंट भी लगातार इस ओर कार्य कर रहे हे. अंतराष्ट्रीय महिला दिवस के मौके पर राजस्थान सरकार ने खेल, शिक्षा, सामाजिक परिवेश में उत्कृष्ट कार्य करने वाली 8 महिलाओं को सम्मानित किया गया.

वहीं बाल विवाह जैसी कई सामाजिक कुरूतियों को रोकने के लिए सरकार ने बड़ा कदम उठाया है. यूनिसेफ के सहयोग से रेडियों कॉल के प्रति जागरूकता फैलाई जाएगी, जिसका नाम दिया गया है नौबत बाजा रेडियो. जिसके जरिए रेडिया कॉल पर मुफ्त में फोन करने के बाद 15 मिनट में मनोरंजन के साथ साथ महिला बाल विकास की योजनाओं की जानकारी दी जाएगी. अब राजस्थान की महिलाएं 7733959595 नंबर पर डायल कर विभाग की योजनाओं की जानकारी ले सकती हैं. 

महिला दिवस पर महिलाओं के सम्मान में सरकार का ये कदम कारगर साबित होगा,इसके साथ ऐसी महिलाओं को ताकत मिलेगी,जो सामाजिक बेडियों में बंधे है.