close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: ग्लोबल वार्मिंग के कारण रेतीले इलाकों में भी हो रहे बाढ़ जैसे हालात

ग्लोबल वार्मिंग का असर पूरी दुनिया के साथ ही भारत में भी देखने को मिल रहा है. राजस्थान के कई ऐसे रेतीले इलाके जहां सालों से औसत से भी कम बारिश हो रही थी वहां अब बाढ़ के हालात बन रहे हैं. 

राजस्थान: ग्लोबल वार्मिंग के कारण रेतीले इलाकों में भी हो रहे बाढ़ जैसे हालात
भारत के कई इलाकों में भूमिगत जलस्तर बहुत नीचे जा चुका है.

जयपुर: ग्लोबल वार्मिंग इस समय पूरी दुनिया के लिए एक समस्या बनी हुई है. ग्लोबल वार्मिंग की वजह से जहां मौसम में लगातार बदलाव देखने को मिल रहा है, वहीं गर्मी, सर्दी और मानसून के समय में भी काफी अंदर देखने को मिल रहा है. बीते 20 सालों की अगर बात की जाए तो मौसम में ये अनियमित बदलाव लगातार सामने आता जा रहा है. 

ग्लोबल वार्मिंग को लेकर मौसम विशेषज्ञ एचएस शर्मा से बात की तो कई चौंकाने वाली बाते सामने आई. एचएस शर्मा ने बताया की उनके द्वारा लिखी गई पुस्तक में बताया गया है कि पिछले 112 सालों के मौसम को लेकर को केस स्टडी की गई है वो चौंकाने वाली है. ग्लोबल वार्मिंग का असर पूरी दुनिया के साथ ही भारत में भी देखने को मिल रहा है. राजस्थान के कई ऐसे रेतीले इलाके जहां सालों से औसत से भी कम बारिश हो रही थी वहां अब बाढ़ के हालात बन रहे हैं. दूसरी ओर जहां पानी की सबसे ज्यादा अधिकत्ता थी वहां आज आकाल के हालात बनते जा रहे हैं.

यहां तक कि भारत के कई इलाकों में भूमिगत जलस्तर की बात करें तो वह भी बहुत नीचे जा चुका है. वहीं राजस्थान की बात करें तो नोतपा की शुरूआत के साथ ही प्रदेश में भीषण गर्मी और उमस का प्रकोप शुरू हो चुका है. अमूमन मई और जून की गर्मी सताने वाली रहती है, लेकिन नोतपा के दौरान जब सूर्य रोहिणी नक्षत्र में प्रवेश करता है तो इस दौरान 9 दिनों तक सूर्य पृथ्वी के करीब आ जाता है. जिसके चलते दिन और रात के तापमान में लगातार बढ़ोतरी दर्ज की जाती है. पिछले 48 घंटों की अगर बात की जाए तो इस दौरान दिन के तापमान में जहां करीब 2 से 3 डिग्री तक बढ़ोतरी दर्ज की जा चुकी है. वहीं रात के तापमान में करीब 3 से 4 डिग्री तक बढ़ोतरी होने से लोगों के पसीने छूट गए हैं.

कहा जाता है नोतपा यह तय करता है कि देश और प्रदेश में आगामी मानसून कैसा रहेगा. पिछले तीन सालों से नोतपा के दौरान हो रही बारिश और तूफान के चलते मानसून औसत ही रहा, लेकिन इस साल नोतपा की शुरूआत के साथ ही गर्मी ने अपने तीखे तेवर दिखाना शुरू कर दिया है. नोतपा की शुरूआत हुए अभी दो दिन का समय ही हुआ है, लेकिन इन दो दिनो में भी दिन और रात के तापमान में भारी बढ़ोतरी दर्ज की गई है. इस दौरान दिन का तापमान करीब 2 से 3 डिग्री तक बढ़ गया है.