विद्युत दुर्घटनाओं से बचाव के लिए सुरक्षा योजना बनाएगी Rajasthan सरकार: अशोक गहलोत

सीएम ने वीसीआर के संबंध में शिकायतों पर कार्रवाई के लिए ऊर्जा मंत्री बीडी कल्ला की अध्यक्षता में एक समिति गठित करने के निर्देश भी दिए.

विद्युत दुर्घटनाओं से बचाव के लिए सुरक्षा योजना बनाएगी Rajasthan सरकार: अशोक गहलोत
राजस्थान के मुख्यमंत्री हैं अशोक गहलोत. (फाइल फोटो)

जयपुर: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने विद्युत दुर्घटनाओं से बचाव के लिए मुख्य सचिव को सुरक्षा योजना बनाने के निर्देश दिए हैं. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बीते दिनों अचरोल एवं जालोर में हुई विद्युत दुर्घटनाओं पर चिंता व्यक्त करते हुए मुख्य सचिव को सुरक्षा से संबंधित सभी उपाय सुनिश्चित करने के लिए शीघ्र योजना तैयार करने को कहा है. 

सीएम ने कहा है कि इसके लिए ऊर्जा एवं सभी संबंधित विभागों की जल्द बैठक बुलाई जाए. सीएम ने वीसीआर के संबंध में शिकायतों पर कार्रवाई के लिए ऊर्जा मंत्री बीडी कल्ला (BD Kalla) की अध्यक्षता में एक समिति गठित करने के निर्देश भी दिए.

मुख्यमंत्री निवास पर ऊर्जा विभाग की समीक्षा बैठक में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने कहा कि जिला कलेक्टर एवं उपखंड अधिकारी स्तर पर होने वाली साप्ताहिक समीक्षा बैठकों में विद्युत सुरक्षा संबंधी शिकायतों की निगरानी एवं निस्तारण को एजेंडा में शामिल किया जाए. साथ ही विद्युत निगमों की सुरक्षा ऑडिट में जनसहभागिता सुनिश्चित करने के लिए प्रक्रिया निर्धारित की जाए.

बैठक में मुख्यमंत्री ने वीसीआर के संबंध में शिकायतों पर कार्रवाई के लिए ऊर्जा मंत्री बीडी कल्ला की अध्यक्षता में एक समिति गठित करने के निर्देश भी दिए. उन्होंने कहा कि यह समिति सतर्कता जांच की शिकायतों पर कार्रवाई एवं सतर्कता जांच प्रकरणों के निस्तारण की प्रक्रिया संबंधी मुददों पर विचार कर अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत करे.

अशोक गहलोत ने ऊर्जा विभाग को यह भी निर्देश दिए हैं कि सतर्कता जांच की वीसीआर से संबंधित जो राजस्व निर्धारण चाहते हैं अथवा राजस्व निर्धारण राशि की समीक्षा करवाना चाहते हैं, उनके लिए जिला स्तर पर अधीक्षण अभियंता कार्यालय में सुनवाई के लिए निर्धारण राशि की 25 प्रतिशत राशि जमा करवाकर आवेदन प्रस्तुत करने पर समिति के समक्ष सुनवाई के लिए ले लिया जाए. कृषि कनेक्शनों के लिए यह राशि 20 प्रतिशत ही जमा करवानी होगी. 

ये भी पढ़ें-CWC की बैठक में भड़के CM Ashok Gehlot कहा - पार्टी नेतृत्व पर करना होगा भरोसा !