close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: लोकसभा चुनाव के लिए टिकट की जुगत में लगे गुर्जर समाज के नेता

आरक्षण की आग में उलझे हुए कर्नल किरोड़ी सिंह बैसला एक बार फिर से चुनावी मैदान में उतरकर अपनी दावेदारी ठोक रहे है

राजस्थान: लोकसभा चुनाव के लिए टिकट की जुगत में लगे गुर्जर समाज के नेता
इससे पहले भी किरोडी सिंह बैंसला चुनाव लड चुके है

जयपुर: लोकसभा चुनाव का सियासी रंग अब जातियों पर भी चढ़ने लगा है. यह पहली बार नहीं है जब समाज के नेता चुनाव आते आते सक्रिय हो जाते है, बल्कि इससे पहले भी हर चुनाव में समाज के नेता राजनीति में नेतागिरी करने की कोई कसर नहीं छोडते. जब नेतागिरी की बात आ ही गई तो गुर्जर आरक्षण आंदोलन के मुखिया किरोडी बैसला को ही ले लीजिए. अब चुनाव की तारीखे नजदीक आने के साथ साथ वह भी सक्रिय हो गए है.

वैसे तो अभी तो सभी पर होली का रंग चढा हुआ है, लेकिन राजनीति के सियासी रंग इन सभी रंगों पर भारी पड़ रहे है. आरक्षण की आग में उलझे हुए कर्नल किरोड़ी सिंह बैसला एक बार फिर से चुनावी मैदान में उतरकर अपनी दावेदारी ठोक रहे है. चर्चा यह भी है कि कर्नल साहब का यह रास्ता पटरियों से होता हुआ तय हो रहा है. विधानसभा चुनाव में भी कर्नल बैसला सिर पर खूब सियासी रंग चढा था, लेकिन उनका ये सियासी रंग पार्टियों पर बेरंग साबित हुआ.

अब चुनाव नजदीक आए है तो कर्नल साहब पर फिर से चुनावी रंगों को सुरूर चढने लगा है. चर्चा ये भी है कि पटरी बॉय इस बार अपने बॉय विजय बैंसला की टिकट की जुबत में भी जुटे हुए है. कर्नल किरोडी बैंसला ने ये साफ कर दिया है कि चुनाव लड़ना सबका अधिकार है तो ऐसे में उनके इस बयान को ये समझा जाए कि कोई राजनीतिक पार्टी उन्हे या उनके बेटे को टिकट दे रही है.

ये पहली बार नहीं है जब कर्नल किरोडी बैंसला चुनावी मैदान में उतरकर अपनी ताकत झोंक रहे है, बल्कि इससे पहले भी वह चुनाव लड़ चुके है. किरोडी सिंह बैंसला 2009 में बीजेपी से लोकसभा का चुनाव लड़ चुके है. हालांकि इसमें उन्हें करारी हार झेलनी पड़ी थी, इससे पहले भी वे जिला परिषद सदस्य का चुनाव लड़ चुके है. इसलिए वह इस बार भी लगातार पार्टियों से संपर्क में है, ऐसे में क्या ये माना जा सकता है कि कर्नल बैसला इस बार चुनाव लडेंगे. हालांकि उन्होने इस बात से ये साफ इंकार कर दिया है कि वे किसी भी पार्टी से संपर्क में नहीं है. वहीं इस बात के भी आसार है कि सवाईमाधोपुर से पार्टियां गुर्जर चेहरा मैदान में उतार सकती है.

गौरतलब है कि, इस बार के लोकसभा चुनाव 7 चरणों में संपन्‍न होंगे और 23 मई को मतगणना होगी. राजस्थान की बात करें तो प्रदेश के 25 लोकसभा सीटों के लिए मतदान दो चरणों में होंगे. प्रदेश में मतदान की प्रक्रिया चौथे और पांचवें चरण के अंतर्गत 29 अप्रैल और 6 मई को होगी. पहले चरण में 13 सीटों पर और दूसरे चरण में 12 पर मतदान किए जाएंगे.