close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

चित्तौड़गढ़: जौहर की फोटो हटाने का राजपूतों ने किया विरोध, प्रदर्शन की तैयारी

बैठक के दौरान रविवार को सरकार के इस निर्णय पर रोष व्यक्त किया गया.

चित्तौड़गढ़: जौहर की फोटो हटाने का राजपूतों ने किया विरोध, प्रदर्शन की तैयारी
राजनीतिक कारणों के होने वाले बदलाव को गलत बताया गया. (फाइल फोटो)

चित्तौड़गढ़: राज्य में सत्ता परिवर्तन के बाद गहलोत सरकार का पाठ्य पुस्तकों में भारतीय संस्कृति से जुड़े महापुरुषों की कहानी हटाए जाने के निर्णय का काफी विरोध हो रहा है. राज्य की माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की एक पुस्तक के मुख्य पृष्ठ से जौहर का चित्र हटाने के निर्णय के बाद चित्तौड़गढ़ में जौहर स्मृति संस्थान ने रविवार को एक बैठक कर इस तरह के बदलाव को गलत बताया.

शहर के जौहर भवन में संभाग के पदाधिकारियों की एक बैठक हुई. बैठक के दौरान रविवार को सरकार के इस निर्णय पर रोष व्यक्त किया गया. इसके साथ ही इसके खिलाफ विरोध की आगामी रणनीति तैयार की गई.

सरकार को ज्ञापन देने की तैयारी
जौहर स्मृति संस्थान के अध्यक्ष तखत सिंह ने बताया कि अगले दो दिन में उदयपुर संभाग सहित अन्य जिला मुख्यालय पर सर्व समाज राज्य सरकार को इस मुद्दे पर ज्ञापन देने जा रहा है. जिसके बाद अगर तय समय सीमा के भीतर उनकी मांग नहीं मानी जाती है तो फिर महाराणा प्रताप जयंती पर चित्तौड़ से उग्र आंदोलन की शुरूआत होगी.

राजनीतिक कारण से बदलाव गलत
बैठक के दौरान शिक्षा मंत्री गोपाल सिंह डोटासर द्वारा पाठ्य पुस्तकों और किसी भी जाति समाज के इतिहास के साथ राजनीतिक कारणों के होने वाले बदलाव को गलत बताया गया. इस दौरान मौजूद लोगों ने कहा कि चित्तौड़गढ़ में ही तीन मुख्य जौहर हुए थे. जो देश के इतिहास के गौरव से जुड़ी गाथा है.