Dausa में पानी का टोटा, 5-7 दिन में एक बार होती है सप्लाई

गर्मी का मौसम शुरू होते ही दौसा में पानी (Dausa News) के लिए कोहराम मचने लगा है. 

Dausa में पानी का टोटा, 5-7 दिन में एक बार होती है सप्लाई
पानी की समस्या जस की तस बनी हुई है.

Dausa : गर्मी का मौसम शुरू होते ही दौसा में पानी (Dausa News) के लिए कोहराम मचने लगा है. दौसा में पानी की किल्लत नई नहीं है, सदियों पुरानी पानी की इस समस्या को लेकर आज तक कोई ठोस कदम नहीं उठाए गए. जिससे आज भी पानी की समस्या जस की तस बनी हुई है.   

यह भी पढ़ें : Dausa में शराब ठेके के लिए लगी इतनी बड़ी रकम की बोली, Computer भी खो बैठा होश

मरुधरा में पानी की किलल्त ( Water Problem in Dausa) हमेशा से रही है. सूबे की जनता पानी की एक-एक बूंद के लिए तरसती है. तो दौसा में पानी की किल्लत किसी से छिपी नहीं है. दौसा में पानी की किलल्त को दूर करने के लिए कोई बड़ा कदम नहीं उठाया गया. आज भी दौसा के लोग पानी की एक एक बूंद के लिए खुद से जंग लड़ते हैं. कस्बों, गांवों और ढाणियों में पानी की भारी समस्याएं पैदा हो रही हैं. 

दौसा जलदाय विभाग के अधीक्षण अभियंता रामनिवास मीणा का कहना है कि दौसा शहर (Water Suppy in Dausa ) की आबादी सवा लाख है और पानी की उपलब्धता प्रतिदिन चालीस लाख लीटर है ऐसे में दौसा शहर में पांच से 7 दिन में एक बार नलों में पानी की सप्लाई होती है. वहीं, जहां पर नल नहीं आते हैं वहां पर टैंकरों से पानी की सप्लाई की जाती है. साथ ही हैंडपंप और एकल पॉइंट के जरिए से भी लोगों तक पानी पहुंचाया जाता है.

दौसा विधायक मुरारी लाल मीणा का कहना है कि सरकार से पानी के लिए बजट (Water Budget) लाकर दौसा की जनता की पानी की समस्या दूर करेंगे. वहीं, मुरारी लाल मीणा ने कहा कि यह प्राकृतिक अभाव के कारण है कि यहां पानी की उपलब्धता नहीं है जिसके चलते पानी का संकट गहराया हुआ है.

दौसा पहले जयपुर जिले का हिस्सा हुआ करता था, लेकिन 10 अप्रैल 1991 को जयपुर से हटाकर दौसा को अलग जिला बना दिया गया. जिसके चलते यहां की आबादी में दिन-प्रतिदिन बढ़ोतरी होती गई और पानी की कमी आती गई, लेकिन पानी की समस्या का समाधान हो इस पर अभी तक कोई बड़ा काम नहीं हुआ. जिसके चलते दौसा जिला बनने से पहले भी पानी की समस्या से ग्रस्त था. 

आज जिला बनने के के बाद भी पानी के लिए तरस रहा है. पानी की किल्लत को लेकर पूरा दौसा जिला डार्क जोन में चला गया था. दौसा जिले के जनप्रतिनिधि पानी की समस्या का स्थाई समाधान हो इसके लिए ईसरदा बांध को विकल्प बता रहे हैं और 2023 तक बांध से पानी मिलने का भरोसा भी दे रहे हैं, लेकिन सवाल ये है कि तकतक जनता पीयेगी क्या और बिन पानी के जीवन कैसे चलेगा. 

Report : लक्ष्मी अवतार

यह भी पढ़ें : Dausa: बैंकों से निकलकर RBI पहुंची 100 की 42 नकली नोट, FIR दर्ज