close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

तंबाकू निषेध मामले में राजस्थान अव्वल, WHO देगा अन्तर्राष्ट्रीय पुरस्कार

डब्ल्यूएचओ विश्व तंबाकू निषेध दिवस पर राजस्थान का सम्मान करेगा. तंबाकू निषेध की दिशा में राजस्थान ने देश का मान बढ़ा दिया है.

तंबाकू निषेध मामले में राजस्थान अव्वल, WHO देगा अन्तर्राष्ट्रीय पुरस्कार
यह सम्मान 31 मई को दिल्ली के निजी होटल में समारोह में दिया जाएगा.

जयपुर: डब्ल्यूएचओ विश्व तंबाकू निषेध दिवस पर राजस्थान का सम्मान करेगा. तंबाकू निषेध की दिशा में राजस्थान ने देश का मान बढ़ा दिया है. विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा विश्व तंबाकू निषेध दिवस-2019 के मौके पर प्रदेश में तंबाकू निषेध के क्षेत्र में किए गए विशिष्ट कार्यों के लिए राजस्थान को अन्तरराष्ट्रीय पुरस्कार के लिए चुना गया है. चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने इस उपलब्धि के लिए राज्य तंबाकू नियंत्रण इकाई के प्रभारी डॉ. एस.एन.धौलपुरिया और चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी तथा कर्मचारियों की भविष्य में इसी तरह काम करने के लिए उत्साह वर्धन किया.

इस मौके पर चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा ने दी टीम को बधाई दी. साथ ही  डॉ रघु शर्मा ने नोडल अधिकारी टोबेको कंट्रोल डॉ एसएन धौलपुरिया को भी बधाई दी. डॉ शर्मा ने कहा कि राजस्थान में तंबाकू निषेध की दिशा में हो रहा काम उल्लेखनीय और सराहनीए है. इस गौरवपूर्ण उपलब्धि के लिए विभाग की पूरी टीम को बधाई. यह सम्मान 31 मई को दिल्ली के निजी होटल में समारोह में दिया जाएगा.

नई दिल्ली में 31 मई को आयोजित होने वाले समारोह में यह पुरस्कार अतिरिक्त मुख्य सचिव रोहित कुमार सिंह ग्रहण करेंगे. हैल्थ मिनिस्टर डॉ शर्मा ने बताया कि विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा वर्ष 2019 के लिए विश्व की कुल 33 संस्थाओं को इस पुरस्कार के लिए चुना है.  इनमें देश को कुल दो पुरस्कार मिले हैं, इनमें राजस्थान एवं दिल्ली की अन्य संस्था शामिल है.

स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि 30 जनवरी, 2019 को सर्वोदय दिवस के अवसर पर प्रदेश में आयोजित विशाल तंबाकू मुक्ति अभियान में 1 करोड़, 13 लाख, 98 हजार युवाओं एवं आमजन के द्वारा तम्बाकू उत्पाद एवं नशे का उपभोग नहीं करने की शपथ ली थी. डॉ. शर्मा ने बताया कि चिकित्सा विभाग द्वारा अन्य सम्बंधित विभागों के समन्वय से शैक्षणिक संस्थाओं, चिकित्सा संस्थानों एवं आंगनबाड़ी केन्द्रों को तम्बाकू मुक्त क्षेत्र के रूप में विकसित कर इन संस्थाओं के 100 गज के दायरे में तम्बाकू उत्पादों की बिक्री के प्रतिबंध की तुलना में सुनिश्चित करवाने के निर्देश दिए गए हैं.