राजस्थान: PHED के चेहतों को अनुबंध तोड़कर दिया जा रहा कॉन्ट्रैक्ट, XCN को मिला नोटिस

राजेश कुमार एंड कंस्ट्रक्शन कंपनी का अनुबंध जून महीने में खत्म होना था. लेकिन पेयजल सप्लाई में मरम्मत और लीकेज का ठेका अप्रैल में ही सैनी मैसर्स को दे दिया.  

राजस्थान: PHED के चेहतों को अनुबंध तोड़कर दिया जा रहा कॉन्ट्रैक्ट, XCN को मिला नोटिस
फर्जीवाड़े और मनमानी का ये खेल नगर खंड 4 में चल रहा है.

जयपुर: पीएचईडी (PHED) में अनुबंध तोड़कर चहेतो को कॉन्ट्रैक्ट देने का बड़ा खेल सामने आया है. फर्जीवाड़े और मनमानी का ये खेल नगर खंड 4 में चल रहा है. एक्सईएन केशव श्रीवास्तव ने 1 साल के अनुबंध को तोड़ते हुए समयावधि से पहले ही दूसरे कॉस्ट्रैक्टर को कॉन्ट्रैक्ट दे दिया. जिसके बाद में कनिष्ठ लेखाकार राजेंद्र भागवानी ने एक्सईन केशव श्रीवास्तव को कारण बताओं नोटिस थमाया है.

2 महीने पहले ही दूसरी कंपनी को दिया ठेका
जानकारी के अनुसार, एक्सईएन केशव श्रीवास्तव ने दो महीने पहले ही दूसरी कंपनी मैसर्स सैनी कंपनी को ठेका दे दिया. ठेकेदार राजेश कुमार एंड कंस्ट्रक्शन से एक साल पहले पेयजल सप्लाई में मरम्मत और लीकेज का ठेका पिछले वर्ष यानी, एक साल पहले अनुबंध किया था. लेकिन एक्सईएन केशव श्रीवास्तव ने नियमों को ताक पर रखते हुए दो महीने पहले ही अनुबंध तोड़कर मैसर्स सैनी कंपनी को कॉन्ट्रैक्ट दे दिया. राजेश कुमार एंड कंस्ट्रक्शन कंपनी का अनुबंध जून महीने में खत्म होना था. लेकिन पेयजल सप्लाई में मरम्मत और लीकेज का ठेका अप्रैल में ही सैनी मैसर्स को दे दिया.

16 मई को खत्म होना था ठेका
सप्लाई की मरम्मत और लीकेज सुधारने के लिए पिछले साल 16 मई को राजेश कुमार कॉन्ट्रैकर से अनुबंध किया गया था. यह कॉन्ट्रैक्ट सालभर के हिसाब से इस साल 16 मई तक चलना था. लेकिन 27 अप्रैल को ही नया कॉन्ट्रैक्ट सैनी मैसर्स को दे दिया गया.

प्रमुख सचिव तक पहुंचा मामला
पीड़ित कॉन्ट्रैक्टर राजेश कुमार ने इस मामले में प्रमुख सचिव राजेश यादव को शिकायत की है. इसके अलावा पीएचईडी चीफ इंजीनियर को भी इस मामले से अवगत करवाया है और निष्पक्ष जांच की मांग की है. कॉन्ट्रैक्टर राजेश कुमार का कहना है कि, अनुबंध तोड़कर दूसरी कंपनी को ठेका देना, नियमों के खिलाफ है,इसलिए मैने शिकायत की.

'नियमों के तहत हुआ अनुबंध'
इस पूरे मामले की शिकायत प्रमुख सचिव तक पहुंचने के बाद, अब उच्च अधिकारियों पर निर्भर करेगा कि, जांच होगी या नहीं. एक्सईएन केशव श्रीवास्तव ने ये दावा किया है कि, नया अनुबंध नियमों के तहत किया गया है. 60 फीसदी काम पूरा होने के बाद अनुबंध को तोड़ा गया है.

लेखाकार ही जानकारी के बिना कर दिया अनुबंध
वहीं, लेखाकार राजेंद्र भागवानी ने मुख्य अभियंता,अतिरिक्त मुख्य अभियंता और अधीक्षण अभियंता को पत्र लिखा है. पत्र में लेखाकार की जानकारी के बिना ही अनुबंध की तारीख बदलने और बिना सूचना के अनुबंध करने की शिकायत की है. एक्सईएन ने अनुबंध में लिखी तारीख में भी ओवर राईटिंग की और नया अनुबंध अधिक दरों पर कार्य किया जा रहा है.

शराब पार्टी कर APO हुए थे 'साहब'
गांधीनगर पंप हाउस परिसर में शराब पार्टी मामले में एक्सईएन केशव श्रीवास्तव एपीओ हुए थे. 2017 में सेंट्रल लेबोरेट्री के चीफ कैमिस्ट राकेश माथुर और एक्सईएन केशव शराब पार्टी में शामिल हुए थे.