close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

श्रद्धालुओं के लिए शनिवार को खुलेगा हेमकुंड साहिब

सर्दियों में भारी बर्फवारी और भीषण ठंड की चपेट में रहने के कारण हेमकुंड साहिब गुरुद्वाराे को श्रद्धालुओं के लिए बंद कर दिया जाता है जो जून में दोबारा खोल दिया जाता है . 

श्रद्धालुओं के लिए शनिवार को खुलेगा हेमकुंड साहिब
हेमकुंड साहिब गुरुद्वारा समुद्र तल से 15000 फीट की उंचाई पर एक झील के किनारे स्थित है . (फाइल फोटो)

गोपेश्वर: उच्च गढ़वाल हिमालय में स्थित विश्वप्रसिद्ध सिख तीर्थस्थल हेमकुंड साहिब के कपाट शीतकालीन अवकाश के बाद शनिवार से फिर श्रद्धालुओं के लिए खोल दिए जायेंगे .

मंदिर के प्रबंधन ट्रस्ट के वरिष्ठ प्रबंधक सरदार सेवा सिंह ने बताया कि गढ़वाल आयुक्त बीवीआरसी पुरूषोत्तम ने 8000 श्रद्धालुओं के पहले जत्थे को शुक्रवार को गोविंदघाट गुरुद्वारा में अखंड पाठ के बाद वहां से हेमकुंड साहिब के लिए रवाना किया .

15000 फीट की उंचाई पर एक झील के किनारे स्थित है गुरुद्वारा
गोविंदघाट से 21 किलोमीटर दूर हेमकुंड साहिब गुरुद्वारा समुद्र तल से 15000 फीट की उंचाई पर एक झील के किनारे स्थित है . ऐसी मान्यता है कि सिखों के दसवें गुरू गोविंद सिंह ने यहां एक झील के किनारे तपस्या की थी .

सर्दियों में भारी बर्फवारी और भीषण ठंड की चपेट में रहने के कारण उसे श्रद्धालुओं के लिए बंद कर दिया जाता है जो जून में दोबारा खोल दिया जाता है . खुले रहने की अवधि के दौरान देश—विदेश से लाखों श्रद्धालु यहां आते हैं .

इस गुरूद्वारे तक पहुंचने के लिये श्रद्धालुओं को पुलना से करीब 18 किलोमीटर की खडी चढाई वाला रास्ता तय करना पडता है .