close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: PHED विभाग के खिलाफ इंजीनियर्स का हल्लाबोल, 30 सितंबर तक का दिया अल्टीमेटम

इंजीनियर्स के सड़क पर संग्राम से पहले पीएचईडी मंत्री बीडी कल्ला को ज्ञापन सौंपकर 30 सितंबर तक प्रमोशन करने की मांग की.

राजस्थान: PHED विभाग के खिलाफ इंजीनियर्स का हल्लाबोल, 30 सितंबर तक का दिया अल्टीमेटम
पेयजल योजनाओं को अमलीजामा पहनाने वाले इंजीनियर्स का दो साल से प्रमोशन अटका हुआ है.

जयपुर: जलदाय विभाग में सरकारी योजनाओं को अमलीजामा पहनाने वाले इंजीनियर्स का प्रमोशन नहीं हो रहा. दो साल से कार्मिक विभाग और पीएचईडी के बीच आपसी तालमेल के अभाव के चलते डीपीसी अटकी हुई है. जिसके चलते इंजीनियर्स का गुस्सा पीएचईडी मंत्री बीडी कल्ला के घर जा पहुंचा. ग्रैजुएट इंजीनियर एसोसिएशन ऑफ राजस्थान के बैनर तले एक बार फिर से प्रमोशन की मांग उठी और मंत्री को ज्ञापन सौंपा.

राजस्थान को शुद्ध और स्वच्छ पानी पिलाने वाले इंजीनियर्स का सब्र टूटता जा रहा है. पेयजल योजनाओं को अमलीजामा पहनाने वाले इंजीनियर्स का दो साल से प्रमोशन अटका हुआ है. हैरानी की बात ये है कि चीफ इंजीनियर्स से लेकर एसी तक डीपीसी हो रही है लेकिन बाकी इंजीनियर्स के प्रमोशन दो साल से अटके हुए हैं. जिसके चलते अब प्रदेश के तमाम इंजीनियर्स सड़क पर उतरने की तैयारी कर रहे हैं. 

इंजीनियर्स के सड़क पर संग्राम से पहले पीएचईडी मंत्री बीडी कल्ला को ज्ञापन सौंपकर 30 सितंबर तक प्रमोशन करने की मांग की. मांग पत्र मिलने के बाद मंत्री बीडी कल्ला का कहना था कि दो साल से पूरा मामला अटका हुआ है, हमारी सरकार अभी आई है. अब जल्द ही डीपीसी मंजूर होगी, उधर गीयर से जुडे इंजीनियर्स ने मंत्री के हाथों में गुलाब का फूल सौपकर अपना विरोध जताया है. 

शांतिपूर्ण तरीके से हुए विरोध के बाद इंजीनियर्स सोमवार को मुख्य सचिव से मुलाकात करेंगे. प्रदेश में 120 एईएन से एक्सईएन और 160 जेईएन से एईएन के पद पर प्रमोशन होना बाकी है. डीपीसी मामले में जलदाय विभाग,कार्मिक विभाग के लापरवाही सामने आ रही है. जिसके चलते प्रमोशन में लगातार देरी हो रही है. इसके अलावा जेइएन एसोसिएशन ने भी वेतन विसंगति दूर करने के साथ ही ग्रेड पे 3600 से बढाकर 4800 करने की मांग की है. ऐसे में यदि समय रहते हुए इंजीनियर्स के प्रमोशन की मांग को नहीं सुना गया, इंजीनियर्स सड़क पर आ जाएंगे. ऐसे में पेयजल विकास की योजनाएं पूरी तरह से ठप सकती है.

--सतेंद्र यादव, न्यूज डेस्क