सुषमा स्वराज ने दिया विमान हादसे में मारे गए भारतीयों के परिवार को सहायता का भरोसा

इथोपियन एयरलाइंस का विमान रविवार को अदीस अबाबा से नैरोबी के लिए उड़ान भरने के बाद दुर्घटनाग्रस्त हो गया. इस हादसे में मारे गए 157 लोगों में चार भारतीय हैं

सुषमा स्वराज ने दिया विमान हादसे में मारे गए भारतीयों के परिवार को सहायता का भरोसा
बोइंग 737 ने रविवार सुबह नैरोबी जाने के लिए अदीस अबाबा से उड़ान भरी थी

नयी दिल्ली: विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने इथोपिया एयरलाइंस विमान दुर्घटना में मारे गये चार भारतीयों के परिवारों की पूरी मदद किए जाने का सोमवार को भरोसा दिया और इथोपिया एवं केन्या में भारतीय दूतावासों को उनके लिए हर संभव सहायता सुनिश्चित करने का निर्देश दिया.

इथोपियन एयरलाइंस का विमान रविवार को अदीस अबाबा से नैरोबी के लिए उड़ान भरने के बाद दुर्घटनाग्रस्त हो गया. इस हादसे में मारे गए 157 लोगों में चार भारतीय हैं. इन भारतीयों में से एक पर्यावरण से सम्बद्ध यूएनडीपी की महिला सलाहकार थीं. मृतक भारतीय नागरिकों की सूची में पर्यावरण मंत्रालय से सम्बद्ध यूएनडीपी की एक सलाहकार शिखा गर्ग के अलावा पन्नागेश भास्कर वैद्य, हंसिनी पन्नगेश वैद्य, नुकवरापू मनीषा के नाम शामिल हैं.

वैद्य परिवार के एक रिश्तेदार को जवाबी संदेश में सुषमा स्वराज ने कहा, 'मैंने टोरंटो में वैद्य के बेटे से बातचीत की है. मैं दुखी हूं कि हवाई दुर्घटना में आपने अपने परिवार के छह सदस्यों को खोया. मेरी हार्दिक संवेदना. मैंने केन्या और इथोपिया में भारतीय दूतावास से आपसे तत्काल संपर्क करने को कहा है. वे आपके परिवार के सभी सदस्यों को मदद और सहायता मुहैया कराएंगे.' 

एन मनीषा के एक रिश्तेदार के एक ट्वीट पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए मंत्री ने कहा कि उन्होंने नैरोबी में भारतीय उच्चायुक्त राहुल छाबड़ा को उन्हें सभी मदद और सहायता मुहैया कराने को कहा है. सुषमा ने कहा कि वह शिखा गर्ग के परिवार से संपर्क करने का प्रयास कर रही हैं. उन्होंने कहा है, 'मैंने उनके (मनीषा के) पति के नंबर पर कई बार संपर्क करने का प्रयास किया. उनके परिवार से संपर्क करने में कृप्या मेरी मदद करें.'

बोइंग 737 ने रविवार सुबह नैरोबी जाने के लिए अदीस अबाबा से उड़ान भरी लेकिन इसके कुछ मिनट बाद ही विमान हादसे का शिकार हो गया. विमान में सवार 149 यात्रियों और चालक दल के आठ सदस्यों की मौत हो गई. इनमें सैलानी, कारोबारी और भारतीय पर्यावरण मंत्रालय से सम्बद्ध संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (यूएनडीपी) की सलाहकार शिखा गर्ग भी शामिल थीं, जो संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (यूएनईपी) की बैठक में हिस्सा लेने जा रही थी.

(इनपुट-भाषा)