close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

मात्र 6 मिनट में सुषमा स्वराज ने पहुंचाई थी मदद, कहानी बयां करते हुए छलके नेहा के आंसू

मुंबई की रहने वाली नेहा देढिया ने जुलाई 2016 में सोशल मीडिया पर ट्विटर के जरिए सुषमा स्वराज जी से अपने पति के लिए मदद मांगी थी.

मात्र 6 मिनट में सुषमा स्वराज ने पहुंचाई थी मदद, कहानी बयां करते हुए छलके नेहा के आंसू
पूर्व विदेशमंत्री सुषमा स्वराज. (फाइल फोटो)

मुंबई: दिवंगत सुषमा स्वराज विदेशों में फंसे भारतीयों के लिए संकटमोचन से कम नहीं थीं. पूर्व विदेशमंत्री अब हमारे बीच नहीं रहीं लेकिन स्मृतियों में हमेशा रहेंगी. एक ट्वीट पर लोगों की मदद करने के लिए जानी जाने वाली सुषमा स्वराज को बुधवार को लोगों ने नम आंखों से आखिरी विदाई दी. एक्टसर्टनल मिनिस्टर रहते हुए उन्होंने विदेश में फंसे कई लोगों की मदद की. ऐसे ही एक कहानी है मुंबई की रहने वाली नेहा देढिया की. सुषमा जी को याद कर नेहा की आंखें नम हो गईं. 

दरअसल, मुंबई की रहने वाली नेहा देढिया ने जुलाई 2016 में सोशल मीडिया पर ट्विटर के जरिए सुषमा स्वराज जी से अपने पति के लिए मदद मांगी थी. नेहा के पति हिमेश अपने व्यापार के सिलसिले में साउथ सूडान गए थे और वहां जंग के हालात में दूसरे भारतीयों के साथ फंस गए थे. हिमेश एक डायबिटिक मरीज हैं और उनके पास इंसुलिन खत्म हो गई थी. वक्त रहते उन्हें दवाई नहीं मिलती तो शायद उनकी जान भी जा सकती थी. मुंबई से नेहा ने सुषमा जी को टैग करते हुए ट्वीट कर मदद मांगी. महज 6 मिनट के भीतर ही सुषमा जी ने नेहा को जवाब देकर मदद भिजवाने का आश्वासन दिया. इसके बाद ना सिर्फ हिमेश तक दवाई पहुंचाई गई बल्कि केंद्र सरकार ने सूडान में फंसे भारतीयों को एयरलिफ्ट करने के लिए ऑपरेशन संकटमोचन भी लॉन्च किया. 

लाइव टीवी देखें

इस ऑपरेशन के तहत जनरल वीके सिंह दो विमान लेकर सूडान पहुंचे थे और तकरीबन 150 भारतीयों को एयर लिफ्ट कर सुरक्षित वापस भारत लाया गया था. सुषमा जी के निधन पर नेहा और हिमेश ने उन्हें नम आंखों से श्रद्धांजलि दी. उनका कहना है कि उन्होंने अपने परिवार के किसी सदस्य को खो दिया हो. सुषमा जी उनकी यादों में हमेशा जीवित रहेंगी.

सुषमा स्‍वराज ने दक्षिण सूडान में छिड़े गृह युद्ध के दौरान वहां फंसे भारतीयों की सुरक्षित वतन वापसी में बड़ी भूमिका निभाई. 'ऑपरेशन संकटमोचन' के जरिए सूडान से 150 भारतीयों को निकाला. इसमें 56 लोग केरल के रहने वाले थे. इसके बाद लीबिया में सरकार और विद्रोहियों के बीच छिड़ी जंग के दौरान 29 भारतीयों को वहां से सुरक्षित भारत लेकर आईं.