Sharad Pawar के साथ विपक्षी नेताओं की बड़ी बैठक, PM Narendra Modi के खिलाफ मोर्चे की तैयारी?

ममता बनर्जी से जुड़े दो लोगों की शरद पवार से मुलाकात कोई सामान्य घटना तो नहीं हो सकती. वैसे एनसीपी के नेता इस मुलाकात को 2024 की तैयारी से जोड़ने से इनकार कर रहे हैं, लेकिन संकेत भी दे रहे हैं कि मोदी सरकार के खिलाफ बड़ी रणनीतिक तैयारी हो रही है. 

Sharad Pawar के साथ विपक्षी नेताओं की बड़ी बैठक, PM Narendra Modi के खिलाफ मोर्चे की तैयारी?
जी मीडिया

नई दिल्ली: साल 2024 के लोकसभा चुनाव (2024 Lok Sabha Polls) में अभी करीब 3 साल का वक्त बाकी है, लेकिन लगता है विपक्षी दल अभी से 2024 की रणनीति बनाने की कोशिश में जुट गए हैं. ऐसा इसीलिए क्योंकि दिल्ली में आज एक बड़ी राजनीतिक बैठक होने जा रही है. ये बैठक एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार (Sharad Pawar) के साथ होगी और इसमें टीएमसी के उपाध्यक्ष यशवंत सिन्हा (Yashwant Sinha) भी शामिल होंगे.

तीसरे मोर्चे का चेहरा कौन?

इस मीटिंग को मोदी विरोधी मोर्चा के गठन से जोड़कर देखा जा रहा है. इससे पहले शरद पवार चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर (Prashant Kishor) से भी मुलाक़ात कर चुके हैं. वहीं सोनिया गांधी ने भी केंद्र सरकार को घेरने के लिए 24 जून को एक अहम बैठक बुलाई है. आज होने वाली बैठक में मोदी विरोधी मोर्चे का चेहरा कौन होगा, इसे लेकर भी चर्चा हो सकती है. 

एनसीपी पहले ही साफ कर चुकी है कि पार्टी सुप्रीमो शरद पवार विपक्ष को एकजुट करने पर काम कर रहे हैं. उधर, पश्चिम बंगाल में तीसरी बार मुख्यमंत्री बनने के बाद से ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) में आत्मविश्वास गजब का बढ़ गया है. अब ममता बनर्जी बंगाल की राजनीति से बाहर दिल्ली तक अपनी राजनीतिक ताकत को बढ़ाना चाहती हैं.

राष्ट्र मंच से तैयार होगा 2024 का मंच?

ममता के अलावा टीएमसी के उपाध्यक्ष और पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा भी खुलकर मोदी सरकार की खिलाफत करते रहे हैं. आज की बैठक से पहले उन्होंने कहा कि राष्ट्र मंच कोई राजनीतिक मंच नहीं है लेकिन भविष्य में इसके माध्यम से किसी तीसरे विकल्प की संभावना से इनकार भी नहीं किया जा सकता. बीजेपी के पूर्व नेता ने 2018 में राष्ट्र मंच बनाया था और इसने मोदी सरकार की नीतियों को निशाना बनाया है.

ये भी पढ़ें: देश में धर्मांतरण जेहाद पर बड़ा खुलासा, समझिए कैसे चलता है ये रैकेट

यशवंत सिन्हा की मुलाकात से एक दिन पहले ही विधानसभा चुनाव में ममता बनर्जी के रणनीतिकार रहे प्रशांत किशोर ने भी शरद पवार से मुलाकात की थी. प्रशांत किशोर इससे पहले भी शरद पवार से एक बार मिल चुके हैं. कहा तो ये भी जा रहा है कि यशवंत सिन्हा और प्रशांत किशोर, ममता बनर्जी को तीसरे मोर्चे का चेहरा बनाने की कोशिश कर रहे हैं. 

ममता को आगे करने की रणनीति!

बीते कुछ दिनों में ममता बनर्जी से जुड़े दो लोगों की शरद पवार से मुलाकात कोई सामान्य घटना तो नहीं हो सकती. वैसे एनसीपी के नेता इस मुलाकात को 2024 की तैयारी से जोड़ने से इनकार कर रहे हैं, लेकिन संकेत भी दे रहे हैं कि मोदी सरकार के खिलाफ बड़ी रणनीतिक तैयारी हो रही है. 

एनसीपी नेता और महाराष्ट्र सरकार में मंत्री नवाब मलिक कहा है कि पवार मुख्य नेताओं और प्रख्यात लोगों के साथ बैठक की मेजबानी करेंगे. मलिक ने कहा कि देश में मौजूदा परिदृश्य पर चर्चा करने के लिए बैठक बुलाई गई है और इसमें नेशनल कांफ्रेंस के नेता एवं जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला, टीएमसी नेता यशवंत सिन्हा, आम आदमी पार्टी के संजय सिंह और भाकपा के डी राजा शामिल होंगे.

बैठक में ये लोग होंगे शामिल

ममता बनर्जी के तीसरी बार बंगाल की मुख्यमंत्री बनने के बाद उनका केंद्र से विवाद पहले के मुकाबले बढ़ गया है. कई मौकों पर ममता बनर्जी खुलेआम ऐलान कर चुकी हैं कि वो 2024 में प्रधानमंत्री मोदी को रोकने की तैयारी में जुटेंगी. अब सवाल है कि आज शरद पवार के घर होने वाली बैठक क्या ममता बनर्जी की मोदी सरकार के खिलाफ 2024 वाली तैयारी का ही हिस्सा है? और क्या शरद पवार तीसरा मोर्चा के संयोजक की भूमिका में होंगे.

ये भी पढ़ें: क्या 2024 में BJP को चुनौती दे पाएगा थर्ड फ्रंट? प्रशांत किशोर का बड़ा खुलासा

आज की बैठक में सिन्हा और फारूक अब्दुल्ला के अलावा संजय सिंह, पवन वर्मा और सुधींद्र कुलकर्णी भी बैठक में मौजूद रहेंगे. इसके साथ ही विभिन्न क्षेत्रों की जानी -मानी हस्तियां भी मंगलवार की बैठक में शरीक होंगी. इनमें वरिष्ठ अधिवक्ता केटीएस तुलसी, पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त एस वाई कुरैशी, पूर्व राजदूत के सी सिंह, गीतकार जावेद अख्तर, फिल्म निर्माता प्रीतिश नंदी, अधिवक्ता कॉलिन गोंजालवेस, वरिष्ठ पत्रकार करण थापर और आशुतोष भी शामिल हैं.

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.