श्री राम की नगरी इस दीपोत्सव कुछ यूं वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाएगी, 5 लाख 51 हजार दीपों से जगमगाएगी

दिवाली के मौके पर रामलला के अस्थाई मंदिर में विशेष पूजा अर्चना होगी. इस बार भी राम की पैड़ी में नया रिकॉर्ड बनाने की तैयारी है और इसके लिए पूरे अयोध्या में 5 लाख 51 हजार दीये जलाए जाएंगे.

श्री राम की नगरी इस दीपोत्सव कुछ यूं वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाएगी, 5 लाख 51 हजार दीपों से जगमगाएगी

लखनऊ: 14 नवंबर को दीपावली के दिन रामनगरी अयोध्या एक बार फिर कुछ यूं जगमग होगी कि पूरा विश्व उसकी भव्यता देखेगा. उत्तर प्रदेश सरकार और अयोध्या प्रशासन दीपावली की तैयारियों में पहले से ही जुटा हुआ है. इस बार भी अयोध्या की त्रेतायुग वाली दीपावली दुनिया भर की सुर्खियों में होगी क्योंकि इरादा एक बार फिर विश्व रिकॉर्ड कायम करने का है. दीपोत्सव पर रामनगरी अयोध्या 5 लाख 51 हजार दीपों से जगमगाएगी और गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में अयोध्या अपना नाम दर्ज कराएगा. 

12-16 नवंबर तक मनेगा दीपोत्सव
इसके लिए पर्यटन मंत्री नीलकंठ तिवारी ने आयोजन से जुड़ी तैयारियों की बीते गुरुवार समीक्षा की है. पर्यटन विभाग, संस्कृति विभाग और जिला प्रशासन द्वारा संयुक्त रूप से बीते तीन सालों से भव्य दीपोत्सव का आयोजन किया जा रहा है. इस साल दीपावली का आयोजन 12 से 16 नवंबर तक किया जाएगा. 

ये भी पढ़ें: आ गया आपके फोन को 5G डेटा देने वाला ड्रोन, अब जगह-जगह टावर लगाने की नहीं पड़ेगी जरूरत  

मुख्यमंत्री की है ये उम्मीद
सीएम योगी की अपेक्षा है कि इस साल दीपावली का आयोजन और बड़े स्चर पर किया जाए और 5 लाख 51 हजार दीप जलाकर गिनिज बुक आफ व‌र्ल्ड रिकार्ड में अपना नाम दर्ज किया जाए. 

अस्थाई मंदिर में होगी विशेष पूजा अर्चना
दिवाली के मौके पर रामलला के अस्थाई मंदिर में विशेष पूजा अर्चना होगी. इस बार भी राम की पैड़ी में नया रिकॉर्ड बनाने की तैयारी है और इसके लिए पूरे अयोध्या में 5 लाख 51 हजार दीये जलाए जाएंगे. इस मौके पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ 13 नवंबर को अयोध्या में मौजूद रहेंगे.

ये भी पढ़ें: पौड़ी के शिक्षक जगत में कोरोना विस्फोट! एक साथ 80 टीचर पाए गए कोविड पॉजिटिव  

इस बार दिखेगी त्रेता युग के दिवाली की झलक
रामलला के मुख्य पुजारी आचार्य सत्येंद्र दास ने कहा, 'इस बार दीपावली रामलला परिसर में मनाई जाएगी, यह अद्वितीय और अद्भुत है. बहुत सी ऐसे घटनाएं हुई, जिससे प्रभु श्रीराम रामलला को 28 वर्षों तक तिरपाल में रहना पड़ा. इस बार त्रेता युग में अयोध्या में जैसे दीपावली मनाई गई, उसकी झलक दिखाई देगी.

महामारी के चलते नहीं शामिल होंगे आम लोग 
कोरोना महामारी के चलते इस बार दीपोत्सव में आम लोग शामिल नहीं हो सकेंगे. सरयू आरती में सिर्फ 30 लोग शामिल होंगे, जबकि राम राज्याभिषेक में 200 लोगों को शामिल होने की अनुमति दी गई है. किसी भी कार्यक्रम में अधिक संख्या में लोगों के शामिल होने की मनाही होगी. कोरोना महामारी के चलते त्यौहार के दौरान लोगों से एहतियात बरतने की अपील की गई है. अयोध्या दीपोत्सव की तैयारी को लेकर हुई बैठक में कमिश्नर एम पी अग्रवाल , जिलाधिकारी अनुज झा , एसएसपी दीपक कुमार समेत पर्यटन , संस्कृति , पीडब्लूडी , जलनिगम , नगरनिगम  और अवध विश्वविद्यालय के अधिकारी बैठक शामिल हुए और उन्होंने इसके लिए जिलास्तर पर दिशानिर्देश तैयार किए हैं. 

WATCH LIVE TV