close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

भैंस चोर को भीड़ ने लाठी-डंडो से पीट-पीटकर किया था अधमरा, दो हफ्ते बाद तोड़ा दम

मृतक के भाई निजाकत अली की तहरीर पर पुलिस ने भैंस मालिक सहित चार के खिलाफ मारपीट व जान से मारने की धमकी का मुकदमा दर्ज कर करवाया था, जिसके आधार पर पुलिस ने कार्रवाई शुरू की. 

भैंस चोर को भीड़ ने लाठी-डंडो से पीट-पीटकर किया था अधमरा, दो हफ्ते बाद तोड़ा दम
पुलिस ने इस मामले में चार लोगों को गिरफ्तार किया है.

बरेली: उत्तर प्रदेश में इन दिनों मॉब लिंचिंग की घटनाएं बढ़ती जा रही हैं. मामला बरेली के भोजीपुरा का है. जहां, रंगेहाथों पकड़े गए भैंस चोर को भीड़ ने लाठी-डंडो से पीट-पीटकर अधमरा कर दिया. घटना करीब दो हफ्ते पुरानी बताई जा रही है. गंभीर रूप से घायल आरोपी ने बुधवार को इलाज के दौरान दम तोड़ दिया है. 

दरअसल, भोजीपुरा थाना क्षेत्र के गांव पैगा निवासी भूपराम दो हफ्ते पहले अपनी भैंस जंगल में कब्रिस्तान के पास ही चरने के लिए बांध दी थी. कुछ घंटों के बाद जब वह जानवरों को पानी पिलाने के लिए पहुंचा, तो मौके पर भैंस नहीं थी.

भैंस के पैरों के निशान को देख भूपराम और उसके परिवार के लोग पीछे-पीछे गये. तभी नवाबगंज के गांव मुझैना के ईंट भट्ठा के पास तीन चोर भैंस को लेकर जा रहे थे. भूपराम और उसके परिवार को देख दो चोर भाग गए, जबकि एक आरोपी को भूपराम के परिजनों ने पकड़ लिया. आरोपी भोजीपुरा का ही था. घटना की जानकारी के बाद गांव के कई लोग मौके पर पहुंचे और आरोपी की पिटाई शुरू कर दी.

लाइव टीवी देखें

गंभीर हालत मे ग्रामीणों ने भोजीपुरा सीएचसी पर भर्ती कराया. हालत नाजुक होने पर डाक्टरों ने जिला अस्पताल को रेफर कर दिया था. जब जिला अस्पताल मे हालत गंभीर हुई तो वहां से 16 अगस्त को एसआरएमएस के लिए रेफर कर दिया गया. यहां तत्कालीन एसएसपी के आदेश पर भोजीपुरा पुलिस अपने खर्चे पर उपचार करवा रही थी. तभी से वह कोमा में था. बुधवार रात आरोपी की मौत हो गई.

मृतक के भाई निजाकत अली की तहरीर पर पुलिस ने भैंस मालिक सहित चार के खिलाफ मारपीट व जान से मारने की धमकी का मुकदमा दर्ज कर करवाया था. आरोपी की मौत के बाद इस मामले में पुलिस ने गैर इरादतन हत्या व धारा 308 और बढ़ा दी है. पुलिस ने नामजद आरोपी भूपराम, कमलेश कुमार, जमुना प्रसाद और धर्मपाल को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया.