परिवार पर कन्या भ्रूण हत्या का बनाया था दबाव, बेटियों ने IAS अफसर बन रूढ़िवादियों को दिया जवाब

 बरेली में चंद्र सेन सागर को पांच बेटियां होने पर कन्या भ्रूण हत्या की सलाह दी गई थी. लेकिन उन्होंने किसी की सलाह को नहीं माना और बेटियों को इस काबिल बनाया कि तीन ने आईएएस ऑफिसर और दो ने फैशन डिजाइनर बन परिवार का मान बढ़ाया है.

परिवार पर कन्या भ्रूण हत्या का बनाया था दबाव, बेटियों ने IAS अफसर बन रूढ़िवादियों को दिया जवाब
बेटियों ने बढ़ाया परिवार का मान

बरेली: रूढ़िवादी सोच रखने वाले लोग बेटियों को बोझ समझते हैं और कन्या भ्रूण जैसी घिनौनी वारदात को अंजाम देते हैं. उत्तर प्रदेश के बरेली में भी चंद्र सेन सागर को पांच बेटियां होने पर कन्या भ्रूण हत्या की सलाह दी गई थी. लेकिन उन्होंने किसी की सलाह को नहीं माना और बेटियों को इस काबिल बनाया कि तीन ने आईएएस ऑफिसर और दो ने फैशन डिजाइनर बन परिवार का मान बढ़ाया है, साथ ही पुरानी सोच रखने वालों को करारा जवाब दिया है.

बरेली के पूर्व ब्लॉक प्रमुख चंद्रसेन सागर की तीन बेटियां अर्जित,अर्पित और आकृत IAS हैं. बेटियों की कामयाबी की वजह से क्षेत्र में पूरे परिवार का नाम रौशन हो रहा है. जिससे पिता चंद्रसेन सागर बेहद खुश हैं, उन्होंने कहा कि जब लगातार पांच बेटियां हुईं तो, कुछ लोग अल्ट्रासाउंड की सलाह देकर कहने लगे कि अबॉर्शन करा दो, बेटियों का बोझ सहा नहीं जाएगा. लेकिन हमने किसी की बात नहीं मानी. हम ने सोच लिया था कि बेटा हो या बेटी. हमें सिर्फ उसे आगे बढ़ाना है.

पूर्व ब्लॉक प्रमुख चंद्रसेन सागर ने कहा कि जिन बेटियों के अबॉर्शन की लोग सलाह देते थे,  आज उन लोगों के मुंह पर मेरी बेटियों ने तमाचा मारा है और मेरे अधूरे सपने को पूरा किया है. उन्होंने कहा कि आज मेरा सिर गर्व से ऊंचा है. एक पिता के लिए इससे बड़ी सफलता और खुशी की क्या बात हो सकती है.