महाशिवरात्रि को घोषित होगी केदारनाथ धाम के कपाट खुलने की तारीख, समिति पदाधिकारी और धर्माचार्य रहेंगे मौजूद

पंचकेदार शीतकालीन गद्दीस्थल ओंकारेश्वर मंदिर ऊखीमठ में सुबह 9 बजे से धार्मिक समारोह आयोजित किया जाएगा.

महाशिवरात्रि को घोषित होगी केदारनाथ धाम के कपाट खुलने की तारीख, समिति पदाधिकारी और धर्माचार्य रहेंगे मौजूद
फाइल फोटो

रुद्रप्रयाग: विश्व प्रसिद्ध ग्यारहवें ज्योतिर्लिंग केदारनाथ धाम के कपाट खुलने की तिथि 21 फरवरी महा शिवरात्रि पर तय की जायेगी. पंचकेदार शीतकालीन गद्दीस्थल ओंकारेश्वर मंदिर ऊखीमठ में सुबह 9 बजे से धार्मिक समारोह आयोजित किया जाएगा, जिसमें मंदिर समिति पदाधिकारियों और धर्माचार्यों की उपस्थिति में कपाट खुलने की तिथि की घोषणा की जायेगी. इसी दिन केदारनाथ की पंचमुखी डोली के केदारनाथ धाम प्रस्थान का कार्यक्रम भी तय किया जायेगा.

भगवान ओंकारेश्वर मंदिर में नित्य प्रति अभिषेक एवं विशेष पूजा अर्चना के बाद कपाट खुलने की तिथि निर्धारण के लिए समारोह शुरू हो जायेगा. समारोह में रावल भीमाशंकर लिंग, मंदिर समिति अध्यक्ष मोहन प्रसाद थपलियाल सहित समिति पदाधिकारियों, धर्माचार्यों, हक हकूकधारियों, पंचगाई, वैदिक ब्राह्मण खोली के आचार्यगण एवं श्रद्धालुगण शामिल रहेंगे.

इस दौरान हवन-यज्ञ सहित भजन-कीर्तन, स्कूली बच्चों के सांस्कृतिक कार्यक्रम एवं भंडारा आयोजित किया जायेगा. बता दें कि बदरीनाथ धाम के कपाट इस यात्रा वर्ष 30 अप्रैल को खुल रहे हैं, जबकि गंगोत्री एवं यमुनोत्री धाम के कपाट परंपरागत रुप से अक्षय तृतीया को खुलते हैं. इस वर्ष अक्षय तृतीया 26 अप्रैल को है. अक्षय तृतीया से चारधाम यात्रा की शुरुआत होगी.

जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने बताया कि केदारनाथ धाम में बर्फबारी से धाम में काफी नुकसान हुआ है. धाम में पेयजल, विद्युत, दूर संचार सहित अन्य व्यवस्थाओं को दुरूस्त किया जाना है, जिसके लिए 15 फरवरी को प्रशासन की टीम केदारनाथ जायेगी और नुकसान का जायजा लेगी. साथ ही केदारनाथ मंदिर मार्ग से बर्फ हटाई जायेगी. उन्होंने बताया कि भारी बर्फबारी के चलते केदार धाम में पुनर्निर्माण कार्य भी ठप पड़े हुए हैं. बाबा केदानाथ के कपाट खुलने से पहले ही धाम में व्यवस्थाओं को दुरूस्त कर लिया जायेगा.