close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

अयोध्या मामले पर केंद्रीय मंत्री नकवी बोले, 'न जीत का जश्न हो और न हार का हंगामा'

केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले का सभी को सम्मान करना चाहिए.

अयोध्या मामले पर केंद्रीय मंत्री नकवी बोले, 'न जीत का जश्न हो और न हार का हंगामा'
उन्होंने लोगों को जीत के जुनूनी जश्न और हार के हाहाकारी हंगामे से दूर रहने की नसीहत दी. (फाइल फोटो)

प्रयागराज: केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने अयोध्या मामले पर जल्द आने फैसले को लेकर बड़ा बयान दिया है. मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि अयोध्या मामले पर फैसला आने वाला है. मैं इसकी कोई भविष्यवाणी नहीं कर सकता हूं क्योंकि, मैं कोई भविष्यवक्ता नहीं हूं. केंद्रीय मंत्री नकवी ने कहा कि ऐसे संवेदनशील मौकों पर जीत का जश्न नहीं होना चाहिए. साथ ही हार का हाहाकारी हंगामा भी नहीं होना चाहिए. उन्होंने लोगों को जीत के जुनूनी जश्न और हार के हाहाकारी हंगामे से दूर रहने की नसीहत दी. नकवी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले का सभी को सम्मान करना चाहिए.

प्रयागराज में दस्तकारों, शिल्पकारों के स्वदेशी हुनर को बाजार की जरूरतों के हिसाब से तराशने एवं प्रोत्साहित करने के लिए 'हुनर हब' का उद्घाटन करने पहुंचे केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने ये बात कही. बता दें कि प्रयागराज में चल रहा हुनर हब 1 से 10 नवंबर के बीच सांस्कृतिक केंद्र में आयोजित किया जा रहा है. उद्घाटन पर मुख़्तार अब्बास नक़वी ने कहा कि मोदी सरकार 2.0 के पहले 100 दिनों में ही अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय ने देश के अलग-अलग हिस्सों में 100 हुनर हब स्वीकृत किये. इन हुनर हब में दस्तकारों, शिल्पकारों, पारंपरिक खानसामों को वर्तमान जरूरतों के हिसाब से ट्रेनिंग दी जाएगी. उनके हुनर को और निखारा जायेगा.

उन्होंने कहा कि अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय सभी राज्यों में हुनर हब की स्थापना करेगा और इस दिशा में तेजी से काम हो रहा है. सरकार की हुनर हाट जैसी रोजगारपरक योजनाओं से बड़ी संख्या में अल्पसंख्यक वर्ग के पारंपरिक दस्तकारों, शिल्पकारों का आर्थिक सशक्तिकरण सुनिश्चित हुआ है. हुनर हॉट देश के कोने-कोने के पारंपरिक हुनर के उस्तादों को रोजगार और रोजगार के मौके मुहैया कराने का एक बेहद सफल अभियान साबित हुआ है. उन्होंने कहा कि पिछले 3 सालों में देश के प्रसिद्ध आर्थिक केंद्रों में आयोजित एक दर्जन से ज्यादा हुनर हाट के जरिये 2 लाख 50 हजार से ज्यादा कारीगरों, शिल्पकारों, दस्तकारों, खानसामों और उनसे जुड़े हुए लोगों को रोजगार और रोजगार मुहैया कराए गए.

उन्होंने कहा कि अगले 5 सालों में अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय देश के विभिन्न क्षेत्रों में लगभग 100 हुनर हाट का आयोजन करेगा. आने वाले दिनों में हुनर हाट का आयोजन दिल्ली, गुरुग्राम, मुंबई, बेंगलुरु, चेन्नई, कोलकाता, लखनऊ आदि में किया जाएगा. अगला हुनर हाट दिल्ली के प्रगति मैदान में 14 से 27 नवम्बर और मुंबई में 20 से 31 दिसंबर के बीच होगा.