close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पिथौरागढ़ उपचुनाव के लिए मयूख महर की ना के बाद कांग्रेस ने अंजू लुंठी को बनाया प्रत्याशी

पिथौरागढ़ विधानसभा के उपचुनाव को लेकर बिगुल बज चुका है. एक बार फिर सत्ताधारी भाजपा और कांग्रेस पार्टी के प्रत्याशी आमने-सामने है. मगर इस बार कांग्रेस पार्टी को चुनावी मैदान में प्रत्याशी उतारने के लिए अंतिम क्षणों तक काफी मशक्कत करनी पड़ी है

पिथौरागढ़ उपचुनाव के लिए मयूख महर की ना के बाद कांग्रेस ने अंजू लुंठी को बनाया प्रत्याशी
कांग्रेस ने पिथौरागढ़ उपचुनाव के लिए अंजू लुंठी को प्रत्याशी बनया है. (फोटो साभार: Facebook)

राम अनुज, पिथौरागढ़ः पिथौरागढ़ विधानसभा के उपचुनाव को लेकर बिगुल बज चुका है. एक बार फिर सत्ताधारी भाजपा और कांग्रेस पार्टी के प्रत्याशी आमने-सामने है. मगर इस बार कांग्रेस पार्टी को चुनावी मैदान में प्रत्याशी उतारने के लिए अंतिम क्षणों तक काफी मशक्कत करनी पड़ी है. पिथौरागढ़ उपचुनाव (Pithoragarh By-Elections) को लेकर दोनों पार्टियां अपने-अपने प्रत्याशियों के जीत का दावा कर रही हैं.

पूर्व कैबिनेट मंत्री प्रकाश पंत के निधन से पिथौरागढ़ विधानसभा सीट खाली हुई है.  2017 के विधानसभा चुनाव में पूर्व कैबिनेट मंत्री स्वर्गीय प्रकाश पंत 2648 मतों  से विजयी हुए थे. 2017 में उन्होंने कांग्रेस पार्टी के प्रत्याशी मयूख महर को शिकस्त दी थी. फिलहाल इस बार मयूख महर ने विधानसभा के उपचुनाव को लड़ने से इंकार कर दिया और काफी मशक्कत के बाद कांग्रेस पार्टी ने अंजू लुंठी को उम्मीदवार बनाया है.

अयोध्या मुद्दे पर सबूतों के आधार पर दिया गया सुप्रीम कोर्ट का फैसला हमें मान्य होगा: मौलाना सैयद अरशद मदनी

अंजू लूंठी ब्लाक प्रमुख  रह चुकी हैं इस बार त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में वे जिला पंचायत सदस्य चुनी गई हैं.  भाजपा प्रदेश प्रवक्ता वीरेंद्र बिष्ट का कहना है कि मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत क्षेत्र के विकास के कई योजनाओं की घोषणाएं कर चुके हैं. पिथौरागढ़ के विकास को लेकर सरकार कभी गंभीर है. पार्टी बड़ी शिद्दत के साथ चुनाव लड़ रही है. एक बार फिर पार्टी को उपचुनाव में भारी जीत मिलेगी.

यहां आधी रात में लोगों ने शुरू किया राशन इकट्ठा करना, जानें क्या है पूरा माजरा

पिथौरागढ़ विधानसभा क्षेत्र में 1 लाख से अधिक मतदाता हैं. पिछले विधानसभा चुनाव के दौरान  60 फीसदी अधिक मतदान हुआ था. कांग्रेस पार्टी के उम्मीदवार को हार का मुंह देखना पड़ा था.  कांग्रेस पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह का कहना है कि कांग्रेस पार्टी ने भी क्षेत्र के विकास के लिए बहुत काम किया है.  मतदाताओं का  एक बार फिर पार्टी को समर्थन मिलेगा.

चिन्मयानंद केस: SIT ने दाखिल की चार्जशीट, BJP नेता डीपीएस राठौर का नाम भी शामिल

वे  प्रत्याशी की जीत का दावा कर रहे हैं. गौरतलब है कि दोनों राजनीतिक दलों ने महिला प्रत्याशी को चुनावी मैदान में उतारा है.  पिथौरागढ़ क्षेत्र में सपा, बसपा, यूकेडी जैसे क्षेत्रीय दलों की स्थिति बेहद कमजोर हैं. ऐसे में सत्ताधारी भाजपा और कांग्रेस के बीच एक बार फिर मुकाबला होना माना जा रहा है.