close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद उत्तराखंड पहुंचे, हरिद्वार में की गंगा पूजा

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद शनिवार उत्तराखंड़ के दौरे पर पहुंचे और हरिद्वार में सपरिवार गंगा पूजा की. उनका पद संभालने के बाद यह पहला उत्तराखंड दौरा है. 

 राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद उत्तराखंड पहुंचे, हरिद्वार में की गंगा पूजा
गंगा पूजा से अभिभूत कोविंद ने गंगा सभा की आगंतुक पुस्तिका में अपनी हरिद्वार यात्रा को 'अविस्मरणीय यात्रा' लिखा. (FILE)

देहरादून/हरिद्वार : राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद शनिवार उत्तराखंड़ के दौरे पर पहुंचे और हरिद्वार में सपरिवार गंगा पूजा की. उनका पद संभालने के बाद यह पहला उत्तराखंड दौरा है. यहां जौलीग्रांट हवाई अड्डे पर भारी बारिश के बीच राष्ट्रपति कोविंद की अगवानी राज्यपाल डा कृष्णकांत पाल, मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत, मुख्य सचिव एस रामास्वामी और पुलिस महानिदेशक अनिल रतूडी ने की.

सपरिवार किया गंगा पूजन
लगातार हो रही बारिश के कारण हवाई अड्डे से राष्ट्रपति सड़क मार्ग से सीधे हरिद्वार पहुंचे जहां उन्होंने हर की पौडी पर सपरिवार गंगा पूजन किया और गंगा की पवित्रता के लिये गंगा रक्षा का संकल्प लिया. राष्ट्रपति गंगा दर्शन और पूजा अर्चना से अभिभूत दिखाई दिये. हर की पौडी पर आचार्य अवधेश भगत सहित अन्य पुरोहितों ने कोविंद को सपरिवार गंगा मैया की पूजा अर्चना कराई. हर की पौडी की प्रबंध संस्था गंगा सभा की ओर से पंडित अमित शास्त्री ने राष्ट्रपति, उनके परिवारजनों तथा अन्य सभी उपस्थित लोगों को गंगा की पवित्रता हेतु गंगा रक्षा संकल्प दिलवाया.

आगंतुक पुस्तिका में अपनी हरिद्वार यात्रा को 'अविस्मरणीय यात्रा' लिखा
गंगा पूजा से अभिभूत कोविंद ने गंगा सभा की आगंतुक पुस्तिका में अपनी हरिद्वार यात्रा को 'अविस्मरणीय यात्रा' लिखा. गंगा सभा की ओर से उसके अध्यक्ष पंडित पुरूषोत्तम शर्मा, महामंत्री रामकुमार मिश्रा तथा आशुतोष शर्मा ने राष्ट्रपति को चांदी की गंगाजली, रूद्राक्ष माला, दोशाला तथा अभिनंदन पत्र भेंट किया.

कोविंद कुष्ठ रोगियों और दिव्यांगों के लिये काम कर रहे सेवा कुंज आश्रम भी गये और कहा कि दिव्य प्रेम सेवा मिशन संस्था का सेवा कुंज आश्रम एक तीर्थ से कम नहीं है जो लोगों की सेवा में जुटा हुआ है. कल सुबह राष्ट्रपति का केदारनाथ एवं बदरीनाथ दर्शन के लिये जाने का कार्यक्रम है और उसके बाद वह दिल्ली के लिये रवाना हो जाएंगे.