पौड़ी: बढ़ते अपराधों के चलते स्कूली छात्राओं को सिखाए जा रहे आत्मरक्षा के गुर

छात्राओं को आत्मरक्षा के गुर सिखाए जा रहे हैं, ताकि ये समय आने पर विभिन्न परिस्थितियों से डटकर मुकाबला कर सकें और उनके साथ किसी भी प्रकार का कोई अपराध न हो पाए

पौड़ी: बढ़ते अपराधों के चलते स्कूली छात्राओं को सिखाए जा रहे आत्मरक्षा के गुर
भारत सरकार द्वारा बेटियों के सशक्तिकरण के लिए ऐसे शिविर

पौड़ी: समाज में लड़कियों के खिलाफ बढ़ते अपराध को देख पौड़ी के राजकीय कन्या इंटर कॉलेज में पढ़ने वाली छात्राओं को मजबूत बनाने, परिस्थिति का डटकर मुकाबला करने और आत्मनिर्भर बनाने के लिए एक शिविर का आयोजन किया गया है. जिसमें सभी छात्राओं को आत्मरक्षा के गुर सिखाए जा रहे हैं, ताकि ये समय आने पर विभिन्न परिस्थितियों से डटकर मुकाबला कर सकें और उनके साथ किसी भी प्रकार का कोई अपराध न हो पाए. इस शिविर के आयोजन से न केवल छात्राएं बल्कि उनके साथ-साथ अभिभावक भी काफी खुश हैं. जिस तरह से हमारे समाज का माहौल बदल रहा है, उसके लिए अति आवश्यक है कि सभी बच्चों को आत्मरक्षा के गुर आने चाहिए ताकि जरूरत पड़ने पर वह इन सबका डटकर मुकाबला कर सकें. 

बता दें कि, भारत सरकार द्वारा बेटियों के सशक्तिकरण के लिए ऐसे शिविर की शुरूआत की गई है, बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना के तहत पौड़ी जिले में बाल विकास विभाग की वाहिनी कार्यक्रम के तहत बालिकाओं के लिए आत्मरक्षा शिविर आयोजित किया गया. जिसमें महिला पुलिस कर्मियों द्वारा बालिकाओं को आत्मरक्षा का प्रशिक्षण दिया गया. अभिभावक बालिकाओं को इस प्रशिक्षण के लिए प्रोत्साहित कर रहे हैं. ताकि बालिकाएं स्वयं में मज़बूत हों और अपनी सुरक्षा के लिए उन्हें किसी दूसरे पर आश्रित न रहना पड़े. 

प्रशिक्षिका हेमलता ने बताया, कि जिस तरह देश में बालिकाओं के साथ घटनाएं घट रही हैं उसे देखते हुए भारत सरकार ने पूरे देश में इन शिविर का आयोजन किया है, जिसमें बालिकाओं को आत्मनिरभर व अपनी सुरक्षा के लिए तैयार किया जा रहा है, ताकि बेटियों पर होने वाले अपराधों को रोका जा सके और बेटियां विपरीत परस्थितियों में अपनी रक्षा कर सकें. प्रशिक्षण ले रही छात्राओं ने बताया कि आज समाज में जिस तरह से अपराध बढ़ते जा रहा है, उसको देखते हुए सभी छात्राओं को आत्मरक्षा के गुर सीखने चाहिए ताकि जरूरत पड़ने पर सभी छात्राएं डटकर मुकाबला कर सकें.