close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

उन्‍नाव कांड: ट्रक की नंबर प्‍लेट पर किसने पुतवाई थी कालिख? चालक ने खोला राज | CBI ने पूछे सवाल

उन्‍नाव रेप केस पीडि़ता और उसके वकील के साथ हुए सड़क हादसे के मामले में सीबीआई ने रविवार को आरोपी ट्रक चालक से पूछताछ की. सीबीआई को ट्रक चालक और क्‍लीनर की 3 दिन की रिमांड मिली हुई है. 

उन्‍नाव कांड: ट्रक की नंबर प्‍लेट पर किसने पुतवाई थी कालिख? चालक ने खोला राज | CBI ने पूछे सवाल
ट्रक चालक से सीबीआई ने की पूछताछ. फाइल फोटो

लखनऊ : उन्‍नाव रेप केस पीडि़ता और उसके वकील के साथ हुए सड़क हादसे के मामले में सीबीआई ने रविवार को आरोपी ट्रक चालक से पूछताछ की. सीबीआई को ट्रक चालक और क्‍लीनर की 3 दिन की रिमांड मिली हुई है. रविवार को पूछताछ में ट्रक चालक ने घटना के दिन की पूरी बातें सीबीआई को बताईं. उसने यह भी बता दिया कि आखिर उससे नंबर प्‍लेट पर कालिख पोतने के लिए किसने और क्‍यों कहा था. ट्रक चालक का नाम आशीष कुमार पाल है. वह फतेहपुर का रहने वाला है. उसने बताया कि घटना के दिन वह बांदा से मौरंग लादकर ला रहा था. सीबीआई और उसके बीच कुछ इस तरह से हुए सवाल जवाब...

सवाल- घटना के बाद कहां चले गए थे?
जवाब- घटना के बाद सर भाग गए थे. मालिक आए...तब मालिक के साथ चले गए...

सवाल- किस रास्ते से तुम यहां आए थे? 
जवाब- बांदा से 27 तारीख को चले सर, बंधवा, ललौली, छिल्ला, फतेहपुर, लालगंज.

सवाल- मौरंग कहां से लिए थे?
जवाब- बांदा, लांबा गांव से

सवाल - पैसा दिए उसको?
जवाब - जी पैसा दिया (कितना) 28000

सवाल - तुम्हारी कोई रिश्तेदारी उन्नाव ज़िले में?
जवाब - नहीं सर हमारी कोई रिश्तेदारी नहीं 

सवाल - कितने टाइम से मालिक का ट्रक चला रहे हो?
जवाब - चार महीना हो गया... 

सवाल - चार महीने में किस-किस रोड पर गए?
जवाब - ज़्यादातर इसी रोड से और हम कहीं चले ही नहीं.

सवाल - जब गाड़ी एक्सीडेंट हुई तो उस समय आपकी स्पीड कितनी रही होगी?
जवाब - 50-55 किमी/घंटा थी

देखें LIVE TV

सवाल - मौसम कैसा था?
जवाब - बारिश हो रही थी...अचानक निगाह चार पहिए की तरफ हुई...ब्रेक मारा... ब्रेक मारा तो आगे वाला हिस्सा मेरा बाएं की तरफ चला गया, पीछे वाला हिस्सा दाएं की तरफ चला गया... सामने से चार पहिए वाला आ रहा था... वो भी दाहिने दबा कर चल रहा था.. चार पहिए वाले ने जा कर मेरे पीछे वाले पहिए पर मार दिया... तब मेरी गाड़ी घूम गई.
 
सवाल - कौन सी गाड़ी थी?
जवाब - ध्यान नहीं, मालूम नहीं

सवाल - मौरंग गिराए हो जहां, उसका क्या नाम है?
जवाब - उसका नाम नहीं मालूम

सवाल - किसके माध्यम से गए? 
जवाब - सोहराब

सवाल - कौन हैं?
जवाब - दलाल है

सवाल - किस जगह गिराए हो?
जवाब - दो सड़का है, नो एंट्री जहां लगी है... पेट्रोल टंकी है... पेट्रोल टंकी से सौ मीटर पहले

सवाल - गाड़ी चलाते समय झपकी तो नहीं आ गई, शराब तो नहीं पिए थे? 
जवाब - नहीं सर, नहीं नहीं... 

सवाल - क्लीनर कहां है? 
जवाब - क्लीनर बैठा है

सवाल - जब गाड़ी एक्सीडेंट हो गई, उसकी कमानी कैसे टूट गई?
जवाब - कार ने पीछे वाले चक्के पर मारा ठोकर, तभी टूट गई... 

सवाल - तुम ट्रक छोड़कर कहां भाग गए?
जवाब - छोड़ के नहीं सर, हम ब्रेक मारा, जब देखा कार टकरा गई तो हम गाड़ी छोड़ के भाग गए 

सवाल - आपने देखा कार में घायल लोग हैं, कार देख ही नहीं पाए?
जवाब - बिल्कुल नहीं देखे, नहीं, हम तुरंत, जब गाड़ी तिरछा हुई तो हम तुरंत उतर के भागे, हम नहीं देखा कौन है, कौन नहीं कितने लोग हैं.

सवाल - तुम कौन सा मोबाइल यूज़ करते हो?
जवाब - ये बड़ा वाला कैमरा

सवाल - उसका सिम नंबर क्या है?
जवाब - 83189***

सवाल - कितने दिन से तुम्हारे पास है?
जवाब - ये तो सर अभी लिया है, 15 दिन हो गए

सवाल -  तुम्हारे साथ क्लीनर कौन था और क्या नाम था उसका?
जवाब - मोहन लाल

सवाल - घटना के समय वो कहां था, सो रहा था कि बैठा था?
जवाब - बैठा था 

सवाल - वो कितने दिन से तुम्हारे साथ है?
जवाब - 2 दिन हुए, 27 तारीख को ही आया वो, और उसके पहले रहता था वो... बारिश हो गई तो गाड़ी खड़ी हो गई थी तो घर चला गया

सवाल - इतनी तेजी से गाड़ी तू लापरवाही से क्यों चला रहा था कोई तो कारण होगा?
जवाब - कारण कुछ नहीं था 

सवाल - ट्रक की आम स्पीड क्या होनी चाहिए?
जवाब - 40-45 होती है

सवाल - और तुम चल कितने पर रहे थे?
जवाब - हम 60-65 पर चल रहे थे

सवाल - जबकि आसपास के लोगों ने बताया कि 80-90 पर चल रहा था
जवाब - 80 के ऊपर गाड़ी नहीं जाती है, कट मार जाती है

सवाल - तुम कहां कहां मौरंग गिराए हो अभी तक?
जवाब - ज़्यादातर इसी रूट पर गिराए हैं

सवाल  - लखनऊ गए हो?
जवाब - लखनऊ तो काफी दिन हो गए

सवाल - उन्नाव?
जवाब - उन्नाव तो जाते ही नहीं हैं

सवाल - बाराबंकी?
जवाब - उधर तो जाते ही नहीं हैं, ज़्यादातर जगदीशपुर, अमेठी, फ़ैज़ाबाद ज़्यादातर जाते हैं

सवाल - तुम्हारे मालिक की कहां कहां गाड़ी है?
जवाब - मालिक का नहीं मालूम

सवाल - तुम्हारी ससुराल कहां है?
जवाब - शादी नहीं हुई है

सवाल - ननिहाल कहां है तुम्हारा?
जवाब - घरौली

सवाल - पापा क्या करते हैं?
जवाब - ट्रक चलाते हैं

सवाल - कितना पैसा मिल जाता है तुमको?
जवाब - चक्कर का है (कितना मिल जाता है) 4000 रुपया, उसी में खुराकी, उसी में लेबर उसी में कंडक्टर

सवाल - तुम्हें अब तक लगा कि तुम्हारी गाड़ी से किसी का टक्कर हो गया है तो तुम्हें उसकी मदद करनी चाहिए घायल की
जवाब - सर हमको मालूम ही नहीं कौन है...(कुछ देखा ही नहीं) कुछ नहीं देखा... 

सवाल - डीएल कबका है तुम्हारा?
जवाब - 2014 का (कहां से बनवाए) फतेहपुर से

सवाल - तुम्हारे मालिक के पास कितनी गाड़ी है?
जवाब - छह गाड़ी है

सवाल - मालिक क्या करते हैं?
जवाब - मालिक वही देखभाल करते हैं

सवाल - तुम्हारी गाड़ी की आगे वाली नंबर पर कालिख पुती है, क्यों?
जवाब - गाड़ियां खड़ीं थी, किस्त नहीं जमा हुई... 4 किस्त लेट थी, बीच में मालिक हमारे जमा कर दिए 2 किस्त, 2 किस्त बाकी है... वही बोले कि अभी 2-4 बाकी हैं इसको चल कर भर देंगे... वहीं पे नंबर अंबर लिख लेना... 

सवाल - कोई नशा करते हो?
जवाब - नहीं सर पुड़िया खाते हैं

सवाल - शराब?
जवाब - शराब नहीं पीते

सवाल - क्लीनर तुम्हारा?
जवाब - नहीं वो भी नहीं पीता है

सवाल - उस समय डीएल था तुम्हारे पास?
जवाब - जी था

सवाल - जहां तुम्हारे एक्सीडेंट हुआ उससे पहले थोड़ा सा कस्बा है, वहां किसी ने तुम्हें हाथ दिया था?
जवाब - नहीं किसी ने नहीं दिया

सवाल - जब तुम्हारा एक्सीडेंट हुए उससे एक दो घंटे पहले चार घंटे पहले किसी का unknown number का फोन आया था तुम्हारे पास?
जवाब - नहीं सर, किसी का नहीं

सवाल - कोई ऐसा फोन आया हो जो तुम जानते पहचानते ना हो?
जवाब - नहीं

सवाल - तुमने किसी unknown व्यक्ति से बात की थी...?
जवाब - ट्रक खाली होकर चली, हम अपने मालिक से बताए खाली हो गई है इतना माल निकला है, तो बोले ठीक है खाली हो के आओ, ईंटा लोड करना है...

सवाल - ईंटा कहां से लोड करना है?
जवाब - दो सड़का के पास से

सवाल - इसके बाद ईंटा कहां ले जाते?
जवाब - अब सर बांदा-वांदा जहां होता... 

सवाल - ये चीज़ क्लियर है कि इसकी नंबर प्लेट पर कालिख तुमने पोती थी या मालिक ने की थी?
जवाब - मालिक ने कहा था तब हमने किया (कब) अरे हो गए यही 15-20 दिन

सवाल - फाइनेंसर कौन है?
जवाब - फाइनेंसर तो सर हमको नहीं मालूम कौन है

सवाल - मालिक ने तुमको बताया तो होगा ना कि फलाने आदमी खीचेंगे गाड़ी?
जवाब - कोई जैसे मिलता है सर तो मालिक को फोन करके बता देते हैं, पहली बात तो नंबर पोता रहता है कोई ध्यान नहीं देता... 

सवाल - मालिक तुम्हारे कितने भाई है?
जवाब - मालिक हमारे 4 भाई हैं

सवाल - क्या करते हैं वो लोग?
जवाब - वो भी यही काम करते हैं

सवाल - सब लोग, कौन सी गाड़ी?
जवाब - यही ट्रक का करते हैं... मोरंग वोरंग...