UP LIVE: लखनऊ हिंसा केस में बंगाल के मालदा के 6 लोग गिरफ्तार

गोरखपुर में हिंसा करने वाले कई उपद्रवियों की पहचान कर ली गई है. पुलिस ने ऐसे लोगों की तस्‍वीरें भी जारी हैं लोगों से इनके बारे में जानकारी मांगी है. इन उपद्रवियों की जानकारी देने वालों को सरकार की तरफ से इनाम भी दिया जाएगा.

 UP LIVE: लखनऊ हिंसा केस में बंगाल के मालदा के 6 लोग गिरफ्तार

लखनऊ:  नागरिकता (संशोधन) कानून (CAA) के खिलाफ उत्तर प्रदेश में हो रहे हिंसक प्रदर्शन हुए हैं. यूपी में हिंसा को लेकर डीजीपी ओपी सिंह को मुख्यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने शनिवार (2 दिसंबर) को तलब किया, जिसके बाद डीजीपी ओपी सिंह सीएम से मिलने पहुंचे. करीब 20 मिनट तक चली इस बैठक में उन्‍होंने सीएम को हिंसा को लेकर अपडेट दी. इस बातचीत में सीएम योगी ने डीजीपी को कड़ाई से कानून-व्यवस्था बनाए रखने के निर्देश दिए. इसके बाद सीएम योगी ने हिंसा की घटनाओं को लेकर राज्‍यपाल से मुलाकात की है. सीएम योगी राज्‍यपाल आनंदी बेन पटेल के साथ चर्चा की.

LIVE अपडेट
-  यूपी में सीएए के खिलाफ हुई हिंसा के तार पश्चिम बंगाल से जुड़ रहे हैं. यूपी पुलिस ने पश्चिम बंगाल के मालदा के 6 लोगों को गिरफ्तार किया है. पूरे यूपी से अब तक 5200 लोगों को गिरफ्तार किया है.

- दिल्ली के उत्तर प्रदेश भवन पर 3 लोग पहुंचे थे प्रर्दशन करने, तीनों को पुलिस अपने साथ ले गई.

- रामपुर में नागरिकता कानून के खिलाफ हो रहे हिंसक प्रदर्शन में 6 गाड़ियों में आगजनी की खबर है. प्रदर्शन के दौरान उपद्रवियों ने पत्थरबाजी की. कई पुलिसकर्मियों के घायल होने की खबर

- दिल्ली के चाणक्य पुरी इलाके में उत्तर प्रदेश भवन के बाहर भारी पुलिसफोर्स तैनात है..पुलिस को जानकारी मिली थी की यहां पर्दशनकारी पहुंच सकते हैं..लेकिन अभी तक कोई प्रदर्शन शुरू नहीं हुआ है..

- लखनऊ में शुक्रवार को हुए हिंसक प्रदर्शन में गिरफ्तार हुए लोगों की तस्वीरें इस प्रकार हैं. 

- लखनऊ में इंटरनेट सेवा शुरू की गई. पुराने लखनऊ के इलाके में दंगा करने वाले चिन्हित. ठाकुरगंज के बड़ी संख्या में उपद्रवी थे शामिल. एसएसपी ने जारी की उपद्रवियों की फोटो. पुलिस ने इन्हें गिरफ्तार करके जेल भेजा. 

- अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के छात्र और जवाहरलाल यूनिवर्सिटी के छात्र सीएएए के खिलाफ दिल्ली में उत्तर प्रदेश भवन पर प्रदर्शन करेंगे. प्रदर्शन की आशंकाओं को लेकर उत्तर प्रदेश भवन पर सुरक्षा का खासा इंतजाम.

- मुजफ्फरनगर में हिंसा करने वाले आरोपियों की 47 दुकानों को प्रशासन ने सील कर दिया है. मुजफ्फरनगर के एसपी सिटी सतपाल ने जी मीडिया को फोन पर बताया कि हमने हिंसा के दौरान जो वीडियोग्राफी की थी उसके आधार पर इन उपद्रवियों की पहचान की गई और सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाने वाले इन लोगोें की दुकानों को प्रशासन ने अब सील कर दिया है.

- डीजीपी ओपी सिंह ने बताय, 'प्रारंभिक जांच में कल हुए हिंसक विरोध प्रदर्शन के दौरान बाहरी तत्वों की मौजूदगी का पता चला है. हम सभी बिंदुओं की जांच की जा रही है. उन सभी क्षेत्रों में इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गई हैं जहां वरिष्ठ अधिकारियों ने जरूरत देखी.'

- मेरठ रेंज के आईजी आलोक सिंह के मुताबिक, 'पूरे मेरठ रेंज में 102 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. शुक्रवार को हुई हिंसा में 35 पुलिसकर्मी घायल हुए हैं. मेरठ रेंज में हिंसा के दौरान 2 लोगों की मौत हुई है, 2 लोग लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर हैं.' 

- यूपी पुलिस ने ट्वीट किया है कि सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाने वाले उपद्रवियों की संपत्तियों को जब्त करके नुकसान की भरपाई की जाएगी.

- यूपी में हिंसा फैलाने यूपी के जिलों में CAA के विरोध में हुई हिंसा में अबतक 10 की मौतें हो चुकी हैं. संभल - 2, मेरठ -2, बिजनौर - 2, वाराणसी - 1, फिरोजाबाद - 1( इलाज के दौरान आगरा मेडिकल कॉलेज में हुई मौत), कानपुर - 1, आगरा - 1

- यूपी के डीजीपी ओपी सिंह ने मीडिया से कहा, 'जिन्होंने हिंसा फैलाई है उन्हें बख्शा नहीं जाएगा.'

- मेरठ में शुक्रवार को हुए हिंसक प्रदर्शन में अब तक 102 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. मेरठ हिंसा में हुई हिंसा में कई पुलिसवाले घायल हुए थे. इस हिंसा में दो लोगों की मौत हुई थी.

- बुलंदशहर में 800 अज्ञात लोगों पर केस दर्ज हुआ है. बुलंदशहर में 6 अलग अलग केस दर्ज हुए हैं. बुलंदशहर हिंस में अब तक 12 उपद्रवी गिरफ्तार हुए हैं. 25 उपद्रवियों पर केस दर्ज हुआ है.

- लखनऊ में हिंसा करने वाले 218 आरोपी गिरफ्तार किया गया है: डीजीपी 

- लखनऊ हिंसा मामला में पुलिस ने 1 लाख 25 हजार का नोटिस भेजा है. करीब एक दर्जन हिंसा करने वालों के घर नोटिस भेजा गया है. सभी को 1 लाख 25 हजार रूपये का नोटिस भेजा गया है. यूपी सरकार उपद्रवियों की पहचान करके नोटिस भेज रही है. 

- गोरखपुर में हिंसा करने वाले कई उपद्रवियों की पहचान कर ली गई है. पुलिस ने ऐसे लोगों की तस्‍वीरें भी जारी हैं लोगों से इनके बारे में जानकारी मांगी है. इन उपद्रवियों की जानकारी देने वालों को सरकार की तरफ से इनाम भी दिया जाएगा.

- लखनऊ में हिंसा करने वाले कुछ उपद्रवी बांग्ला में बात कर रहे थे. पुलिस के हाथ लगी वीडियो फुटेज से यह खुलासा हुआ. लिहाजा, लखनऊ हिंसा का बंगाल कनेक्शन खंगालने में लखनऊ पुलिस जुटी है.

बता दें कि शुक्रवार (20 दिसंबर) को जुमे की नमाज के बाद कई जिलों में जमकर बवाल हुआ. गोरखपुर, बिजनौर, फिरोजाबाद, संभल, कानपुर समेत कई जिलों में पुलिस पर पथराव और जगह जगह आगजनी की गई.

यूपी में संभावित विरोध-प्रदर्शनों और सोशल मीडिया पर अफवाहों को रोकने के लिए कई जिलों में इंटरनेट सेवाएं बंद रखी गई हैं. ये जिले हैं आगरा, अलीगढ़, मऊ, मुजफ्फरनगर, सहारनपुर, संभल, मेरठ, लखनऊ, बरेली, गाजियाबाद, फिरोजाबाद, वाराणसी, प्रयागराज, बिजनौर और शाहजहांपुर.

वहीं, लखनऊ हिंसा मामले में एक रिटायर आईपीएस अधिकारी एसआर दारापुरी को परिवर्तन चौक हिंसा मामले में को हज़रतगंज कोतवाली ने गिरफ्तार कर लिया, जिसके बाद उन्‍हें जेल भेज दिया गया है. इसके अलावा 70 और लोगों को जेल भेजा गया. इनमें 80  लोगों को धारा  151 में हिरासत में लिया गया.

उधर, प्रयागराज में धारा 144 के उल्लंघन में 100 नामजद सहित 10,000 से अधिक लोगों पर एफआईआर दर्ज हुई है. शहर के अलग-अलग थानों में केस दर्ज हुए हैं. थानाध्यक्षों की तहरीर पर एफआईआर दर्ज की गई हैं. यहां 150 से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया गया है.

हिंसा के बाद योगी सरकार का बड़ा फैसला, यूपी में आज सभी स्कूल-कॉलेज बंद
गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश में नागरिकता (संशोधन) कानून (CAA) के विरोध में हिंसक विरोध-प्रदर्शन के बाद सरकार ने आज (शनिवार) राज्य के सभी स्कूल-कॉलेजों बंद रखने का फैसला लिया है. साथ ही सीएम योगी आदित्यनाथ ने लोगों से शांति बनाए रखने और किसी भी अफवाहों पर विश्वास न करने की अपील की है. उन्होंने कहा है कि किसी को भी कानून हाथ में नहीं लेना चाहिए.

उधर, प्रदेश में CAA के विरोध के बीच एहतियात के तौर पर यूपी में होने वाली TET परीक्षा को स्थगित कर दिया गया है. 22 दिसंबर को होनी वाली परीक्षा में 75 जिलों के करीब 16 लाख छात्रों को शामिल होना था.

उत्तर प्रदेश के 13 जिलों में इंटरनेट बंद, अब तक 6 की मौत; TET परीक्षा भी हुई रद्द

नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में हिंसक विरोध जारी है. शुक्रवार को जुमे की नमाज के बाद कई जिलों में जमकर बवाल हुआ. गोरखपुर, बिजनौर, फिरोजाबाद, संभल, कानपुर समेत कई जिलों में पुलिस पर पथराव और जगह जगह आगजनी की गई. 

उधर, फिरोजाबाद में भी हुए हिंसक प्रदर्शन में अब तक 9 लोग घायल बताए जा रहे हैं. जिनमें 4 पुलिसकर्मी शामिल हैं. साथ ही 2 गंभीर रूप से घायलों को आगरा रेफर कर दिया गया है. एहतियात के तौर पर फिरोजाबाद में भी इंटरनेट सेवाएं बंद हैं.