मुरादाबाद: होटल में दारोगाओं का अनजान शख्स में चुकाया बिल, छोड़ा ये खास मैसेज

शहर में कड़ी ड्यूटी के बीच एक होटल में खाना खाने आए 3 ट्रेनी दारोगाओं का बिल एक अनजान शख्स ने दे दिया और खास मैसेज भी छोड़ा.

मुरादाबाद: होटल में दारोगाओं का अनजान शख्स में चुकाया बिल, छोड़ा ये खास मैसेज
होटल में ट्रेनी दारोगा द्वारा ली गई सेल्फी.

दीप चंद्र जोशी/ मुरादाबाद: उत्तर प्रदेश पुलिस (Uttar Pradesh Police) की कार्यशैली को लेकर अकसर सवाल उठते रहते हैं. लेकिन बदलते दौर में पुलिस की छवि बदल रही है. ताजा मामला मुरादाबाद जनपद का है. जहां, शहर में कड़ी ड्यूटी के बीच एक होटल में खाना खाने आए 3 ट्रेनी दारोगाओं का बिल एक अनजान शख्स ने दे दिया और खास मैसेज भी छोड़ा.

हालांकि, जब दारोगाओं को बिल दिए जाने की जानकारी हुई तो उन्होंने उस शख्स की काफी तलाश भी की, लेकिन कोई जानकारी नहीं मिल पाई. जिसके बाद, फेसबुक पर पोस्ट लिखकर एक दारोगा ने अपने अनुभव को शेयर किया और पोस्ट वायरल हो गया.

दरअसल, नागरिकता संशोधन कानून (CAA) को लेकर उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में हुए बवाल के बाद बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया था. इसी के तहत मुरादाबाद जनपद में बवाल की आशंका के बाद ट्रेनी दारोगा को भी ड्यूटी के लिए बुलाया गया.

पुलिस ट्रेनिंग कॉलेज में ट्रेनी दारोगा सुशील सिंह, विजय पांडे और गौरव को मुरादाबाद के सिविल लाइन थाना क्षेत्र में तैनात किया गया और इनकी ड्यूटी पीली कोठी चौराहे पर लगाई गई. ड्यूटी खत्म होने के बाद तीनों दारोगा पास के रेस्टोरेंट में खाना खाने गए. खाने का ऑर्डर देने के बाद तीनों दारोगा सेल्फी लेने लगे. खाना खाने के बाद जब तीनों ने बिल मांगा तो वेटर का जवाब सुनकर तीनों हैरान रह गए.

तीनों दारोगाओं को वेटर ने जानकारी दी कि उनका बिल उनके पास की टेबल पर बैठे परिवार ने दे दिया है. वेटर ने बताया कि बिल देने वाले परिवार ने एक मैसेज भी छोड़ा है. जिसमें कहा गया कि पुलिसकर्मी दिन रात मेहनत कर लोगों की सुरक्षा करते हैं, तो लोगों को भी इन पुलिसकर्मियों का ध्यान रखना चाहिए.

दारोगाओं ने बिल देने वाले शख्स को तलाश भी किया, लेकिन तब तक वो जा चुके था. इस वाकये को एक दारोगा ने फेसबुक पोस्ट के जरिए साझा भी किया, जिसके बाद पोस्ट को हर किसी ने सराहा भी. पुलिस के आलाधिकारियों ने भी इस पोस्ट को साझा किया तो लोगों के कमेंट आने शुरू हो गए. लोगों की प्रतिक्रिया से खुश दारगाओं ने भविष्य में पुलिस की छवि अच्छी बनाने को लेकर हर संभव कोशिश करने का दावा किया.

वहीं, दारोगा द्वारा किया गया पोस्ट फेसबुक पर तेजी से वायरल हो रहा है. पोस्ट वायरल होने के बाद दारोगाओं सहित पेमेंट देने वाले व्यक्ति की पहचान हो गई है.

पेमेंट करने वाले मुरादाबाद के कारोबारी राजेश भारतीय ने कहा कि वायरल पोस्ट में पुलिसकर्मियों ने जो दिल से मार्मिक शब्दों का इस्तेमाल किया, मेरा ऐसा कोई उद्देश्य नहीं था. वो तो उनके द्वारा ली गई एक सेल्फी में मेरी फोटो आ गई और लोगों ने मुझे पहचान लिया. लेकिन मेरा यही कहना है कि देश की सेवा में रात-दिन काम करने वाले के लिए यह मेरा कर्तव्य है.

हालांकि दारोगा अभी तक राजेश भारतीय से नहीं मिल पाए हैं. लेकिन मिलने के लिए लालायित हैं.