ZEE जानकारी: जी न्यूज के जरिए 25 लाख से अधिक लोगों ने कहा- देश में लागू हो नागरिकता कानून

झारखंड की जनता का मत क्या है.ये आपने देखा और अब आपको देश की जनता के मत के बारे में जानना चाहिए. हमनें पिछले पूरे हफ्ते DNA में भारत के पहले डिजिटल दंगों का विश्लेषण किया था. 

ZEE जानकारी: जी न्यूज के जरिए 25 लाख से अधिक लोगों ने कहा- देश में लागू हो नागरिकता कानून

झारखंड की जनता का मत क्या है.ये आपने देखा और अब आपको देश की जनता के मत के बारे में जानना चाहिए. हमनें पिछले पूरे हफ्ते DNA में भारत के पहले डिजिटल दंगों का विश्लेषण किया था. ये दंगे नए नागरिकता कानून के विरोध में हो रहे थे . देश के मीडिया का एक बड़ा हिस्सा इन प्रदर्शनों की Live तस्वीरें दिखा रहा था..जिनमें हिंसा और आगजनी के दृश्य भी शामिल थे. लेकिन किसी ने भी उन लोगों की राय जानने की कोशिश नहीं की..जो इस नए कानून के समर्थन में हैं . और ये लोग अपनी बात रखने के लिए कानून को हाथ में नहीं लेते. इसलिए हमने फैसला किया कि हम उन लोगों की आवाज़ को एक मंच देंगे.

जो चाहते हैं कि देश में नागरिकता कानून लागू हो..और इसके लिए हमने मोबाइल फोन की ताकत का इस्तेमाल किया . हमें इस अभियान में अब तक 25 लाख से ज्यादा लोगों का समर्थन मिल चुका है . इसे आप भारत का पहला डिजिटल जनमत संग्रह भी कह सकते हैं . इसके जजनमत संग्रह के जरिए हम असल में ये जानना चाहते थे कि.. क्या हमारे देश में कुछ लोग इस कानून के समर्थन में भी हैं..या फिर पूरा र.ष्ट्र ही..इस नए कानून का विरोध कर रहा है .

हमने सच जानने के लिए एक मोबाइल नंबर जारी किया ..और नागरिकता कानून का समर्थन करने वालों से आग्रह किया कि वो इस नंबर पर Missed Call देकर अपनी राय दर्ज कराएं . ये नंबर था...7 8 3 6 8 0 0 5 0 0

हमने ये नंबर शनिवार रात.. 8 बजे जारी किया था . शुरुआत में कुछ सौ लोगों ने इस नंबर पर Missed Call दी..इसके बाद ये संख्या हज़ारों में बदल गई और अगले कुछ घंटों में तो लाखों लोग Missed Call देकर...नए कानून के समर्थन में अपनी आवाज़ बुलंद कर चुके थे . और अब ये संख्या बढ़कर 25 लाख से ज्यादा हो चुकी है . यानी अब भी हमें हर मिनट करीब 817 Calls आ रही हैं .

हमारे पहले मोबाइल नंबर पर Calls का ट्रैफिक इतना ज्यादा हो गया था...कि कई लोग Call कर ही नहीं पा रहे थे . इस मोबाइल नंबर पर हमें एक मिनट में 1500 से भी ज्यादा Missed Calls आ रहे थे.. इसलिए आज हमें एक नया नंबर भी जारी करना पड़ा..वो नंबर है 7 8 3 4 9 9 8 9 9 8

अगर आप भी ज्य़ादा Traffic की वजह से अभी तक Missed Call देकर...अपनी राय दर्ज नहीं करा सके हैं..तो आप अब इस नए नंबर पर भी Missed Call दे सकते हैं .

ये 25 लाख से ज्यादा लोग.. वो लोग हैं..जो अपनी बात कहने के लिए सड़कों पर नहीं उतरे..इन्होंने ट्रैफिक जाम नहीं किया..बसों में आग नहीं लगाई..पुलिस वालों पर हमले नहीं किए और शहरों को बंधक नहीं बनाया . इन लोगों ने डिजिटल माध्यम से अपनी बात..देश तक पहुंचाई .. और संविधान के नाम पर किए जा रहे..हिंसक विरोध प्रदर्शनों की पोल खोल कर रख दी.

इसलिए आज आपको भी जनता के मत की ताकत को समझना चाहिए . जो लोग नए कानून का विरोध कर रहे हैं वो तो सड़कों पर दिख रहे हैं. उन्हें मीडिया से कवरेज भी मिल रही है.लेकिन जो इस कानून के समर्थन में हैं उनका किसी को पता नहीं चलता . यानी जो तोड़-फोड़ करते हैं उन्हें कवरेज मिलती है और जो शांति प्रिय तरीके से अपनी बात रखते हैं उन्हें कोई मंच नहीं देना चाहता . लेकिन आज हमने इस प्रथा को बदल दिया है .

ये संभवत: देश की जनता की राय जानने के लिए की गई अब तक की सबसे बड़ी कोशिश है . और हमें खुशी है कि हम इस कोशिश में पूरी तरह सफल रहे . देश में अक्सर बड़े मुद्दों पर संवादहीनता की एक स्थिति उत्पन्न हो जाती है .और इसी संवादहीनता या Communication Gap का फायदा..वो लोग उठा लेते हैं जो देश को हिंसा की आग में झोंकना चाहते हैं.

लेकिन हमारी ये कोशिश उन लोगों को रास नहीं आई..जो देश में नफरत का एजेंडा चलाना चाहते हैं. इन लोगों ने हमारे अभियान के खिलाफ सोशल मीडिया पर एक नकारात्मक माहौल बनाने की कोशिश की . और हमें रोकने के लिए Hashtag-Getwell Soon Zee News... Trend कराने लगे . लेकिन 25 लाख से ज्यादा भारतीयों ने हमारा साथ देकर. टुकड़े टुकड़े गैंग और उसके समर्थकों को उनकी असलियत बता दी है.

नफरत फैलाने वाले इस गैंग ने दावा किया कि हमने लोगों को इस कानून का समर्थन करने के अलावा कोई विकल्प ही नहीं दिया . लेकिन इन लोगों को हमारा जवाब ये है कि जब देश भर में हिंसा हो रही थी, पुलिस वालों को पीटा जा रहा था , सार्वजनिक संपत्ति में आग लगाई जा रही थी...तब इन लोगों ने विकल्प की चिंता क्यों नहीं की.

ये लोग देश को सिर्फ विरोध की तस्वीरें दिखाने की कोशिश कर रहे थे..और उन लोगों की बात कोई नहीं कर रहा था..जो इस कानून के समर्थन में हैं और देश में शांति चाहते हैं . ज़ी न्यूज़ के इस अभियान को लेकर...देश की जनता ने क्या प्रतिक्रिया दी है..आज आपको ये भी देखना चाहिए.

दरअसल इस मुद्दे पर देश का टुकड़े टुकड़े गैंग और उन्हें समर्थन देने वाले लोग...देश को सिक्के का एक पहलू दिखाने की कोशिश कर रहे थे और हमारी एक पहल ने..इन लोगों की सच्चाई दुनिया के सामने ला दी . इसलिए हम ईश्वर से कामना करते हैं कि इन लोगों को सदबुद्धि प्राप्त हो..और ये सही गलत में पहचान करना सीखें . Zee News के इस डिजिटल जनमत संग्रह का देश के नेता भी स्वागत कर रहे हैं .

भारत एक लोकतांत्रिक देश है.और भारतीयों को अपने देश की इस पहचान पर बहुत गर्व है . लेकिन कई बार देश के नेता भी लोकतंत्र में जनता की नब्ज़ नहीं पहचान पाते . ऐसे में मीडिया की भूमिता बहुत महत्वपूर्ण हो जाती है . मीडिया का कर्तव्य है कि वो जनता के मन की बात..सरकार और नेताओं तक पहुंचाए.

हमारा ये Missed Call अभियान..उसी दिशा में उठाया गया एक कदम है..और हम आगे भी..जनता की राय को नया मंच प्रदान करते रहेंगे . हमारी इस कोशिश की तारीफ समाज के उस वर्ग ने भी है ...जो सबसे ज्यादा टैक्स चुकाता है . आज हमने डॉक्टर्स, इंजीनियर्स और वकीलों से भी इस बारे में बात की..इस विषय पर उनका क्या कहना है..आपको सुनना चाहिए .

इन लोगों को आप देश का असली बुद्धिजीवी कह सकते हैं..क्योंकि ये लोग महत्वपूर्ण मुद्दों पर अपनी राय तो रखते हैं..लेकिन इसके लिए हिंसा का सहारा नहीं लेते.