• 542/542 लक्ष्य 272
  • बीजेपी+

    354बीजेपी+

  • कांग्रेस+

    89कांग्रेस+

  • अन्य

    99अन्य

ZEE Jankari: पीएम मोदी ने इंटरव्यू देने के लिए आखिर अक्षय कुमार को क्यों चुना?

आज से पहले तक आम तौर पर यही होता आया है, कि देश के प्रधानमंत्री का इंटरव्यू, पत्रकार लेते हैं और पत्रकार हमेशा सामने वाले पर हावी होने और खुद को बुद्धिजीवी बताने की कोशिश करते हैं. ऐसे में Interview भी एक Interrogation बन जाता है. और ऐसे इंटरव्यूज़ में गंभीर प्रश्नों की मात्रा थोड़ी ज़्यादा होती है. पिछले कुछ हफ्तों के दौरान अलग-अलग News Channels ने प्रधानमंत्री मोदी का साक्षात्कार किया और देश को दिखाया.

ZEE Jankari: पीएम मोदी ने इंटरव्यू देने के लिए आखिर अक्षय कुमार को क्यों चुना?
Play

आज हम आपको प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का एक इंटरव्यू दिखाएंगे... ये इंटरव्यू किसी पत्रकार ने नहीं लिया है. बल्कि ये इंटरव्यू फिल्मस्टार अक्षय कुमार ने लिया है. वैसे प्रधानमंत्री मोदी और अक्षय कुमार के बीच हुई बातचीत को Interview की संज्ञा देना सही नहीं होगा. बल्कि आप इसे दो लोगों के बीच हुआ एक ऐसा संवाद कह सकते हैं, जिसमें राजनीतिक सवालों की बंदिशें नहीं थीं. बल्कि, अनौपचारिक और हल्के-फुल्के सवालों की बौछार थी. आज से पहले तक आम तौर पर यही होता आया है, कि देश के प्रधानमंत्री का इंटरव्यू, पत्रकार लेते हैं और पत्रकार हमेशा सामने वाले पर हावी होने और खुद को बुद्धिजीवी बताने की कोशिश करते हैं. ऐसे में Interview भी एक Interrogation बन जाता है. और ऐसे इंटरव्यूज़ में गंभीर प्रश्नों की मात्रा थोड़ी ज़्यादा होती है. पिछले कुछ हफ्तों के दौरान अलग-अलग News Channels ने प्रधानमंत्री मोदी का साक्षात्कार किया और देश को दिखाया.

लेकिन नरेंद्र मोदी ने अपने दम पर एक नई संचार नीति की रचना की है और ये संचार नीति, ये कहती है, कि अब साक्षात्कार लेने वाला व्यक्ति सिर्फ पत्रकार ही हो, ये ज़रूरी नहीं है. आम जनता से लेकर देश की युवा पीढ़ी तक और फिल्मी सितारों से लेकर बुद्धिजीवियों तक, कोई भी उनसे सवाल पूछ सकता है. उनकी राय जान सकता है. ये एक अलग और बिल्कुल नई Thought Process है. कम से कम भारत की राजनीति में पहले ऐसा कभी नहीं हुआ होगा. नरेंद्र मोदी और अक्षय कुमार के बीच हुए संवाद में हर वो बात थी, जो आप अपने परिवार के सदस्यों के साथ घर में बैठकर करते हैं.

आज के इस इंटरव्यू में नरेंद्र मोदी आपको सिर्फ प्रधानमंत्री के रूप में नहीं बल्कि एक इंसान के रूप में दिखाई देंगे. चुनाव के तनावपूर्ण माहौल के बीच में चुटकुले सुनाना, फैशन की बातें करना, कपड़ों और अपनी आदतों के बारे में बात करना. नींद और फिटनेस का हिसाब किताब करना. ये सब देखने और सुनने में अजीब लगता है. लेकिन नरेंद्र मोदी राजनीतिक संवाद के मास्टर हैं. वो जानते हैं कि लोग, पत्रकारों के एक जैसे सवाल और उनके एक जैसे जवाब लगातार सुन रहे हैं, ऐसे में इस इंटरव्यू में हुई बातें, लोगों को अच्छी लगेंगी.

यहां आपके मन में सवाल आएगा कि प्रधानमंत्री मोदी ने इंटरव्यू देने के लिए आखिर अक्षय कुमार को क्यों चुना ? इसके पीछे है नरेंद्र मोदी की सबसे अनोखी और सबसे शक्तिशाली संचार नीति.

ज़रा सोचिए - ट्विटर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के Followers की संख्या है 4 करोड़ 70 लाख. जबकि
अक्षय कुमार के Followers की संख्या है 3 करोड़. इस तरह सात करोड़ लोग तो सिर्फ Twitter के ज़रिए ही जुड़ गये और यही प्रधानमंत्री की नयी सोच है.
नरेंद्र मोदी ये जानते हैं कि भारत में, जो दो सबसे बड़े क्षेत्र हैं, वो हैं राजनीति और बॉलीवुड और इस इंटरव्यू में उन्होंने दोनों का मिश्रण कर दिया. और जब मिश्रण हुआ तो ऐसा इंटरव्यू निकलकर सामने आया, जो पहले ही दिन सुपरहिट हो गया. ये न्यूज़ और मनोरंजन की दुनिया को मिलाने वाला इंटरव्यू है. नरेंद्र मोदी इस इंटरव्यू को एक नये Level पर ले गये हैं.

आप याद कीजिए कि नरेंद्र मोदी ने डिजिटल दुनिया और सोशल मीडिया की ताकत को सबसे पहले पहचाना था, वो दूसरे नेताओं के मुकाबले पहले ही Twitter, facebook और Instagram पर आ गये थे और इस डिजिटल मैदान में उन्होंने युद्ध की तैयारी बहुत पहले शुरू कर दी थी. अगर पूरे सोशल मीडिया को मिला दिया जाए, तो वो दुनिया में सबसे ज़्यादा लोगों द्वारा Follow किए जाने वाले नेता हैं. उन्होंने अपनी पहुंच मोबाइल फोन तक बढ़ाने के लिए अपना NaMo App लॉन्च किया. रेडियो के ज़रिए अपनी बात रखने के लिए अपना रेडियो शो - मन की बात शुरू किया और अब इस इंटरव्यू से उन्होंने टीवी की दुनिया में राजनीतिक संवाद के नये नियम लिख दिए हैं. उन्होंने सबको ये बता दिया है कि वो अपना Content खुद बनाते हैं और उन्हें इस Content को घर-घर तक पहुंचाना भी बहुत अच्छी तरह आता है.

ये इंटरव्यू बताता है कि नरेंद्र मोदी राजनीतिक संचार के नये नये नियम लिख रहे हैं. दुनिया के कई दूसरे देशों के नेता भी संवाद और संचार के नये नये नियम लिख रहे हैं.
 
चीन में करोड़ों लोग 'Study the Great Nation' नामक App का इस्तेमाल करते हैं. इस App को इस्तेमाल करने वाले लोगों को राष्ट्रपति शी जिनपिंग के बारे में जानकारियां मिलती है. इस App पर राष्ट्रपति के भाषण प्रसारित किए जाते हैं. और तमाम लोग उनसे सरकार की नीतियों के बारे में सवाल पूछते हैं. सवाल पूछने के लिये लोगों को points भी मिलते हैं. इस App को जनवरी में लॉन्च किया गया है. ये अब चीन में सबसे ज़्यादा download की जाने वाली App बन चुकी है.
 
डॉनल्ड ट्रंप ने अमेरिका के मेन स्ट्रीम मीडिया का कॉलर पकड़कर रखा है और वो लगातार फेक न्यूज़ और एजेंडा चलाने वाले मीडिया Houses को करारा जवाब दे रहे हैं. ट्रंप के समर्थक उनकी इस आक्रामक छवि को पसंद करते हैं. इसी तरह रशिया में राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की ज़िंदगी पर आधारित एक Reality शो शुरू किया गया है. इसमें पुतिन की ग़ैर राजनीतिक ज़िंदगी के बारे में बताया जाता है. इस शो में कभी पुतिन को मछली पकड़ते हुए...कभी जंगलों में शिकार करते हुए...तो कभी झीलों में तैरते हुए दिखाया जाता है. ये एक weekly prime time शो है. सितंबर 2018 में लॉन्च हुए इस शो में दुनिया को पुतिन का एक नया अवतार देखने को मिला है. इस शो के एक हिस्से में राष्ट्रपति पुतिन के क़रीबी लोगों से बातचीत भी की जाती है...और इस तरह जनता के बीच पुतिन की एक नई छवि पेश की जाती है.

पुतिन दुनिया के पहले ऐसे राष्ट्रध्यक्ष नहीं हैं...जिनपर इस तरह का टीवी शो बनाया गया है. इससे पहले वेनेज़ुएला के पूर्व राष्ट्रपति Hugo Chavez एक रिएलिटी शो होस्ट किया करते थे. इसके अलावा Bolivia के राष्ट्रपति Evo Morales भी इस तरह का शो कर चुके हैं. मेक्सिको के नये राष्ट्रपति लोपेज़ ओबराडोर ने लोगों से जुड़े रहने के लिये नई प्रथा शुरू की है. वो रोज़ सुबह 7 बजे press conference करते हैं. यानी नये ज़माने के नेता, नये नये तरीकों से जनता का दिल जीतने की कोशिश कर रहे हैं. और नरेंद्र मोदी ऐसे नेताओं में सबसे Innovative हैं और सबसे आगे हैं.