close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

लोकसभा चुनाव 2019: सरगुजा से 10 प्रत्याशी मैदान में, क्या बच पाएगी बीजेपी की सीट?

सरगुजा सीट पर साल 2004 से बीजेपी ही काबिज है. लेकिन इस बार बीजेपी ने सरगुजा लोकसभा से मौजूदा सांसद कमलभान सिंह मराबी का टिकट काटकर रेणुका सिंह सरुता को उम्मीदवार घोषित किया है. इस वजह से ये सीट कांग्रेस के लिए बड़ी आस वाली सीट बन चुकी है

लोकसभा चुनाव 2019: सरगुजा से 10 प्रत्याशी मैदान में, क्या बच पाएगी बीजेपी की सीट?

नई दिल्ली: सरगुजा लोकसभा सीट अनुसूचित जनजाति (एसटी) के लिए आरक्षित है. सरगुजा जिले का अंबिकापुर छ्त्तीसगढ़ के पुराने शहरों में से एक है. सरगुजा स्टेट के राजपरिवार से ताल्लुक रखने वाले टीएस सिंहदेव छत्तीसगढ़ के सबसे अमीर विधायक हैं. वहीं अब इस संसदीय क्षेत्र के चुनाव पर लोगों की निगाह टिकी हुई है. 

सरगुजा सीट पर साल 2004 से बीजेपी ही काबिज है. लेकिन इस बार बीजेपी ने सरगुजा लोकसभा से मौजूदा सांसद कमलभान सिंह मराबी का टिकट काटकर रेणुका सिंह सरुता को उम्मीदवार घोषित किया है. इस वजह से ये सीट कांग्रेस के लिए बड़ी आस वाली सीट बन चुकी है. साल 2014 के लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के कमलभान सिंह मराबी ने जीत दर्ज की थी. उन्होंने अपने करीबी कांग्रेस प्रत्याशी राम देव राम को करारी शिकस्त दी थी.

पिछले लोकसभा चुनाव यानी साल 2014 में कमलभान सिंह मराबी को 5 लाख 85 हजार 336 यानी 49.29 फीसदी वोट मिले थे, जबकि कांग्रेस के राम देव राम को 4 लाख 38 हजार 100 यानी 36.90 फीसदी वोटों से संतोष करना पड़ा था. साल 2014 के लोकसभा चुनाव में 75.92 फीसदी मतदान हुआ था.

अगर इसके पहले साल 2009 पर नजर डालें तो इस चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के मुरारीलाल सिंह को जीत मिली थी. उन्होंने 4 लाख 16 हजार 532 वोट हासिल किए थे और कांग्रेस के भानु प्रताप सिंह को हराया था. साल 2009 के लोकसभा चुनाव में भानु प्रताप सिंह को 2 लाख 56 हजार 983 वोट मिले थे. साल 2009 के लोकसभा चुनाव सरगुजा लोकसभा सीट पर 61.62 फीसदी मतदान हुआ था.

सरगुजा लोकसभा सीट अनुसूचित जनजाति (एसटी) के लिए आरक्षित है. सरगुजा जिले का अंबिकापुर छ्त्तीसगढ़ के पुराने शहरों में से एक है. सरगुजा स्टेट के राजपरिवार से ताल्लुक रखने वाले टीएस सिंहदेव छत्तीसगढ़ के सबसे अमीर विधायक हैं. साल 2018 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी की रमन सिंह सरकार के चौथी बार सत्ता में काबिज होने के सपने को तोड़ते हुए कांग्रेस ने शानदार जीत दर्ज की. छत्तीसगढ़ की मौजूदा कांग्रेस सरकार में सरगुजा संभाग से दो विधायक टीएस सिंहदेव और डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम को कैबिनेट में जगह दी गई है.

इस लोकसभा सीट पर 2014 में पुरुष मतदाताओं की संख्या 7 लाख 71 हजार 303 थी, जिनमें से 6 लाख 10 हजार 877 ने वोटिंग में भाग लिया. वहीं, पंजीकृत 7 लाख 51 हजार 769 महिला वोटर्स में से 5 लाख 76 हजार 444 महिला वोटर्स ने भाग लिया था. इस सीट पर 15 लाख 23 हजार 072 मतदाता हैं, जिनमें से 11 लाख 87 हजार 321 ने पिछले लोकसभा चुनाव में मतदान किया था.