close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

देश में फिर खिल रहा है 'कमल का फूल', भारत समेत 3 देशों का है राष्‍ट्रीय फूल, जानें खास बातें

लोकसभा चुनाव परिणाम 2019 (lok sabha elections results 2019) के रुझानों में बीजेपी 340 से अधिक सीटों पर आगे चल रही है. बीजेपी का चुनाव चिह्न कमल का फूल बेहद खास है.

देश में फिर खिल रहा है 'कमल का फूल', भारत समेत 3 देशों का है राष्‍ट्रीय फूल, जानें खास बातें
कमल का फूल बेहद खास होता है. फाइल फोटो

नई दिल्‍ली : लोकसभा चुनाव 2019 (lok sabha elections 2019) का मतदान सात चरण में पूरा होने के बाद आज (23 मई) लोकसभा चुनाव परिणाम 2019 (lok sabha elections results 2019) आ रहे हैं. रुझानों के अनुसार देश में फिर से 'कमल' खिल रहा है. यानी बीजेपी 340 से अधिक सीटों पर आगे चल रही है. बीजेपी की जीत लगभग तय हो चुकी है. ऐसे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को तमाम देशों के प्रमुख बधाइयां दे रहे हैं. बीजेपी का चुनाव चिह्न कमल का फूल भी बेहद खास है. कमल का फूल भारत समेत तीन देशों का राष्‍ट्रीय फूल है.


बीजेपी का चुनाव चिह्न. फाइल फोटो

कमल के फूल की खास बातें : 

1. संस्कृत में इसके नाम- कमल, पद्म, पंकज, पंकरुह, सरसिज, सरोज, सरोरुह, सरसीरुह, जलज, जलजात, नीरज, वारिज, अंभोरुह, अंबुज, अंभोज, अब्ज, अरविंद, नलिन, उत्पल, पुंडरीक, तामरस, इंदीवर, कुवलय, वनज हैं. फारसी भाषा में कमल के फूल को 'नीलोफर' कहते हैं. अंग्रेजी में कमल के फूल इंडियन लोटस या सैक्रेड लोटस, चाइनीज़ वाटर-लिली, ईजिप्शियन या पाइथागोरियन बीन.

2. जीवन में शुभ के आगमन का प्रतीक है कमल का फूल.

3. कमल का फूल भारत, मिस्र (इजिप्‍ट) और वियतनाम का राष्ट्रीय फूल है.

4. कमल प्राचीन काल से ही भारतीय संस्कृति का एक शुभ प्रतीक रहा है.

 

5. कमल का फूल बेहद सुंदर होता है. यह फूल देवत्व, धन और ज्ञान का प्रतीक है. 

6. कमल का फूल अशुद्धता से अछूता माना जाता है. कमल का फूल दिल और मन की पवित्रता का प्रतीक है.

7. प्राचीन भारतीय ग्रंथों में कमल के फूल को महत्वपूर्ण स्थान प्राप्त है. हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार कमल का फूल धन की देवी लक्ष्मी का आसन है.

8. कमल के तने लंबे, सीधे और खोखले होते हैं तथा पानी के नीचे कीचड़ में चारों ओर फैलते हैं.

9. भारतीय जनता पार्टी की स्‍थापना 6 अप्रैल, 2018 को हुई थी. पार्टी का पहला सत्र मुंबई में हुआ था. इस सत्र की अध्‍यक्षता पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी ने की थी. इसी दौर में बीजेपी ने कमल के फूल को पार्टी के चुनाव चिह्न के रूप में चुना गया.