पश्चिम बंगाल: लेफ्ट का गढ़ रही जंगलमहल लोकसभा सीट पर BJP कर सकती है बड़ा उलटफेर

झाड़ग्राम में भाजपा ने हाल के चुनावों में उन सभी क्षेत्रों में जीत दर्ज की थी जो कभी माओवादियों के गढ़ रहे थे. उसने लालगढ़, बेलपहाड़ी, जंबोनी, गोपीबल्लवपुर, नयाग्राम और सांकरेल ग्राम पंचायतें जीतीं थी.

पश्चिम बंगाल: लेफ्ट का गढ़ रही जंगलमहल लोकसभा सीट पर BJP कर सकती है बड़ा उलटफेर
जंगलमहल क्षेत्र से बांकुड़ा और पुरुलिया जिलों के साथ झाड़ग्राम और मेदिनीपुर में 12 मई को मतदान होगा.

मेदिनीपुर/झाड़ग्राम: लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Elections 2019) का सियासी रण अपने चरम पर है. इन सबके बीच पश्चिम बंगाल के जंगलमहल में 2019 के आम चुनाव में भाजपा (BJP) को सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस (Trinmool Congress) पर बढ़त मिलने की संभावना है. हालांकि इस क्षेत्र में वाममोर्चा का पर्याप्त वोट बैंक हैं. एक समय वाममोर्चा का गढ़ रहे जंगलमहल की झाड़ग्राम और मेदिनीपुर सीटों पर 2014 में तृणमूल कांग्रेस ने जीत दर्ज की थी. लेकिन इस बार फिर इस क्षेत्र में सत्तारूढ़ पार्टी से नाराजगी पैदा हुई है.

कई लोगों ने ‘पीटीआई’ से बातचीत में आरोप लगाया कि केवल उन्हीं लोगों को केन्द्र और पश्चिम बंगाल सरकार के कार्यक्रमों का लाभ मिला है जो तृणमूल कांग्रेस के साथ जुड़े हुए है. अन्य लोगों का कहना है कि राज्य सरकार उनके प्रति उदासीन है और इससे मतदाताओं की निष्ठा में बदलाव आया है. पिछले दो वर्षों में भाजपा की ओर झुकाव अधिक देखा गया है.

 

 

झाड़ग्राम में भाजपा ने हाल के चुनावों में उन सभी क्षेत्रों में जीत दर्ज की थी जो कभी माओवादियों के गढ़ रहे थे. उसने लालगढ़, बेलपहाड़ी, जंबोनी, गोपीबल्लवपुर, नयाग्राम और सांकरेल ग्राम पंचायतें जीतीं थी. झाड़ग्राम जिले के लालगढ़ गांव में एक समय सीपीआई (एमएल) के समर्थक रहे मोहिशो महतो ने कहा, ‘‘यह दुखद है लेकिन सच है.’’ 

जंगलमहल क्षेत्र से बांकुड़ा और पुरुलिया जिलों के साथ झाड़ग्राम और मेदिनीपुर में 12 मई को मतदान होगा. परंपरागत रूप से वामदलों का गढ़ रही झाड़ग्राम सीट पर 2014 में तृणमूल कांग्रेस की उमा सोरेन ने जीत दर्ज की थी. सोरेन ने मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के पुलिन बिहारी बास्के को हराकर वामपंथ के 42 वर्ष के वर्चस्व को समाप्त किया था. मेदिनीपुर सीट 2014 तक भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी का एक गढ़ रही थी. वर्ष 2014 के चुनाव में तृणमूल कांग्रेस की संध्या रॉय ने सीपीआई उम्मीदवार प्रबोध पांडा को हरा दिया था. पांडा 2001 से इस सीट का प्रतिनिधित्व कर रहे थे.

इस चुनाव में तृणमूल कांग्रेस ने मेदिनीपुर सीट से मानस भुइंया को चुनाव मैदान में उतारा है. उनका मुकाबला भाजपा की प्रदेश इकाई के अध्यक्ष दिलीप घोष से है. झाड़ग्राम में तृणमूल कांग्रेस ने बीरबाहा सोरेन को मैदान में उतारा है और उनका माकपा के उम्मीदवार देबलीना हेम्ब्राम से मुकाबला होने की संभावना है.