पूर्वांचल की घोसी लोकसभा सीट पर आसान नहीं है BJP की राह, मिलेगी कड़ी चुनौती

घोसी संसदीय सीट पर लोकसभा चुनाव 2019 के छठवें चरण में 12 मई को मतदान होना है. 

पूर्वांचल की घोसी लोकसभा सीट पर आसान नहीं है BJP की राह, मिलेगी कड़ी चुनौती
घोसी लोकसभा सीट पर कड़ा और रोमांचक मुकाबला होने की प्रबल संभावना है.

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Elections 2019) का सियारी रण अपने चरम पर है. इन सबके बीच पूर्वांचल की अहम सीटों में से एक घोसी लोकसभा सीट कभी किसी पार्टी विशेष का गढ़ नहीं रही. इस सीट पर 1957 में हुए पहले चुनाव में कांग्रेस के उमराव सिंह जीत हासिल कर संसद पहुंचे थे. वहीं, घोसी लोकसभा सीट पर 4 बार सीपीआई के उम्मीदवारों ने जीत दर्ज की थी. घोसी लोकसभा सीट पर करीब 6 दशक के बाद 2014 में पहली बार बीजेपी की टिकट पर हरिनारायण राजभर ने जीत हासिल की थी. 

घोसी लोकसभा क्षेत्र में कांग्रेस के दिग्गज नेता रहे दिवंगत कल्पनाथ राय का काफी नाम है. हालांकि, उनकी मृत्यु के बाद इस सीट पर कांग्रेस को कभी जीत नसीब नहीं हुई. पूर्वांचल की राजनीति के बड़े नेता रहे कल्पनाथ राय के प्रयासों के कारण ही मऊ को जिले का दर्जा मिला था. कल्पनाथ राय ने कांग्रेस के टिकट पर घोसी लोकसभा सीट से दो बार चुनाव जीता. वहीं, एक बार वह निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में भी चुनाव जीते थे. पूर्वांचल की घोसी लोकसभा सीट को वामपंथ का गढ़ कहा जाता था. घोसी लोकसभा सीट पर 1957 से अब तक 16 बार हुए आम चुनाव में कांग्रेस को 4, सीपीआई को 5 और बीजेपी को 1 बार जीत हासिल हुई है. 1999 में इस सीट पर बसपा, 2004 में सपा, 2009 में फिर बसपा और 2014 बीजेपी ने जीत हासिल की.

 

 

ये रहा था 2014 का जनादेश
2014 के आम चुनाव में घोसी लोकसभा सीट से बीजेपी की टिकट से पहली बार जीत दर्ज करते हुए हरिनारायण राजभर संसद पहुंचे. बीजेपी प्रत्याशी हरिनारायण राजभर ने बसपा के दारा सिंह चौहान को हराया था. हरिनारायण को चुनाव में 3,79,797 वोट हासिल हुए थे. वहीं, बसपा के दारा सिंह चौहान को 2,33,782 वोट मिले थे. हरिनारायण ने दूसरे स्थान पर रहे बसपा प्रत्याशी दारा सिंह को 1,46,015 वोटों से शिकस्त दी थी. घोसी लोकसभा सीट से 1,66,443 वोटों के साथ बाहुबली मुख्तार अंसारी तीसरे नंबर पर रहे थे. 

सातवें चरण में होगा मतदान
घोसी लोकसभा सीट पर मतदाताओं की संख्या 18,91,112 है. इनमें से 10,40,033 पुरुष मतदाता और 8,50,934 महिला मतदाता हैं. उत्तर प्रदेश में सपा-बसपा-रालोद गठबंधन से बीएसपी के खाते में आई घोसी लोकसभा सीट पर बसपा ने अतुल राय पर दांव लगाया है. इस सीट पर बीजेपी के शीर्ष नेतृत्व ने मौजूदा सांसद हरिनारायण राजभर पर फिर से भरोसा जताया है. वहीं, कांग्रेस ने घोसी लोकसभा सीट पर राष्ट्र कुंवर सिंह को प्रत्याशी बनाया है. घोसी संसदीय सीट पर लोकसभा चुनाव 2019 के छठवें चरण में 12 मई को मतदान होना है. घोसी लोकसभा सीट पर कड़ा और रोमांचक मुकाबला होने की प्रबल संभावना है.