close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

वाराणसी: PM मोदी ने रैली में लोगों से कहा, आप कहेंगे तो मैं नामांकन भरूंगा, मिला ये जवाब

पीएम मोदी ने कहा मैं अपने समय का एक एक पल और जीवन का एक एक कण आपके नाम कर कल नामांकन भरने जाऊंगा.

वाराणसी: PM मोदी ने रैली में लोगों से कहा, आप कहेंगे तो मैं नामांकन भरूंगा, मिला ये जवाब

वाराणसी: पीएम मोदी गुरुवार को अपनी दो दिन की यात्रा पर पहुंचे. यहां उन्‍होंने रात में एक चुनावी रैली को संबोधित कि‍या. चुनावी रैली में उन्‍होंने जहां आतंकवाद पर निशाना साधा, वहीं उन्‍होंने अपने काम का भी हिसाब दिया. भाषण के अंत में उन्‍होंने रैली में मौजूद अपने समर्थकों से कहा, अगर आप लोग कहेंगे तो मैं कल नामांकन भरूंगा. पीएम मोदी शुक्रवार 26 अप्रैल को काशी से नामांकन भरेंगे.

पीएम मोदी ने जैसे ही कहा, क्‍या मैं कल नामांकन भरने जाऊं. इस पर रैली में मौजूद लोगों पूरे जोर से उनका समर्थन कि‍या. इसके बाद पीएम मोदी ने वाराणसी की रैली में कहा, तो अब मैं समझूं कि इस चुनाव की जिम्‍मेदारी आप लोगों ने ले ली है. अब मैं आपसे जीत के बाद ही‍ मिलने आउंगा.

पीएम मोदी ने अंत में कहा, मेरा कर्तव्य बनता है कि आपसे दूसरे पांच साल मांगूं उससे पहले पांच साल का हिसाब दूं. लोग 70 साल का नहीं दे रहे हों, ये उनकी मर्जी. मेरा जीवन ऐसा है कि शरीर का कण-कण और समय का पल-पल, उसका पाई-पाई का हिसाब आपके चरणों में रखता हूं.

इससे पहले पीएम मोदी ने रैली को संबोधित करते हुए कहा, आत्मविश्वास वो पूंजी होती है, जिसके बल से किसी भी चुनौती से पार पाया जा सकता है. गरीबी जैसे अभिशाप से भी बाहर निकलने के लिए भी यही एक तरीका है. नए भारत का आत्मविश्वास विकसित भारत का विश्वास बनेगा. हम परिवर्तन के साथ हर वो काम कर रहे हैं जो देश को सशक्त करें. ऐसे काम भी, जो मेरे विरोधियों को छोटे लगते थे, उन कामों को करने का बीड़ा मैंने उठाया.

बीते 5 वर्ष ईमानदारी के प्रयास के थे. आने वाले पांच वर्ष उन प्रयासों को विस्तार देने के होंगे. बीते पांच वर्ष परिवर्तन की शुरुआत के थे. आने वाले पांच वर्ष देश की प्रतिष्ठा के होंगे. हम देश के हर हिस्से, हर वर्ग को मजबूत करने के संकल्प के साथ लगे हैं. बीते पांच वर्ष पुरुषार्थ के थे, आने वाले पांच वर्ष परिणाम के होंगे.

सारनाथ में पिछले 5 साल में हुआ विकासकार्य भी अभूतपूर्व है. मैं अपने कार्यकाल के दौरान मैंने काशी के किसानों, बुनकरों और युवाओं के लिए एक ऐसे मॉडल को आत्मसात करने की कोशिश की है जो सर्वसमावेशी, सर्वस्पर्शी, सर्वहितैषी, सर्वसंतोषी और सर्वांगीण हो: पीएम मोदी मैंने पहले भी कहा है कि बाबा की इच्छा के बगैर यहां एक पत्ता भी नहीं हिलता. मैं तो निमित्त मात्र हूं.