close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

लोकसभा चुनाव 2019: शरद यादव ने कहा- मोदी जीते तो मुझे जेल भिजवाएंगे या गोली मरवा देंगे

शरद यादव ने कहा है कि अगर नरेंद्र मोदी जीते तो उन्हें वह जेल भिजवा देंगे.

लोकसभा चुनाव 2019: शरद यादव ने कहा- मोदी जीते तो मुझे जेल भिजवाएंगे या गोली मरवा देंगे
शरद यादव ने पीएम मोदी पर निशाना साधा है. (फाइल फोटो)

मधेपुराः लोकतांत्रिक जनता दल (लोजद) के नेता शरद यादव को आरजेडी से मधेपुरा सीट के लिए टिकट दिया गया है. शरद यादव लगातार क्षेत्र में चुनाव प्रचार कर रहे हैं. लेकिन चुनाव प्रचार के दौरान उन्होंने कहा है कि इस चुनाव में उनकी जान को खतरा है. शरद यादव ने यह भी कहा, 'नरेंद्र मोदी अगर दोबारा चुनाव जीतते हैं तो मुझे जेल भिजवा देंगे या गोली मरवा देंगे'.

लोकसभा चुनाव 2019 में शरद यादव मधेपुरा से आरजेडी के सिंबल पर चुनाव लड़ रहे हैं. यह पहला मौका नहीं है जब शरद यादव ने इस प्रकार का विवादित बयान दिया है. 

हालांकि 2018 में राजस्थान के विधानसभा चुनाव के दौरान तत्कालीन मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे पर बहुत ही फूहड़ तंज कसते हुए कहा था कि "वसुंधरा को आराम दो, बहुत थक गई हैं, बहुत मोटी हो गई हैं, पहले पतली थीं। हमारे मध्य प्रदेश की बेटी हैं." 

13 लोक सभा क्षेत्र के सहरसा स्थित सौर बाजार में शरद यादव ने एक चुनावी सभा को सम्बोधित करते हुए पीएम मोदी पर जमकर बोला हमला कहा अगर पीएम मोदी जीत गया तो समझो मुझे या तो जेल भेजवा देंगे या फिर गोली भी मरवा देंगें इसलिए ऐसे लोगों से सावधान होकर महागठबंधन के हाथ को मजबूत करें.
 
बता दें कि शरद यादव पूर्व में जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) के अध्यक्ष भी रह चुके हैं लेकिन बाद में कुछ मतभेदों के बाद उन्होंने पार्टी छोड़ दी और महागठबंधन का हिस्सा बन गए. हालांकि उन्होंने पार्टी बनाई लेकिन उन्हें आरजेडी ने अपने सिंबल पर चुनाव लड़ने को कहा, साथ ही यह भी घोषणा की गई थी कि उनकी पार्टी का विलय आरजेडी में कर दिया जाएगा.

शरद यादव के लिए मधेपुरा में राह आसान नहीं है. मधेपुरा में महागठबंधन और बीजेपी उम्मीदवार के अलावा पप्पू यादव जो मधेपुरा से वर्तमान सांसद हैं, वह भी अपनी अलग पार्टी जाप से खड़े हुए हैं. ऐसे में शरद यादव के लिए पप्पू यादव मुश्किले खड़ी कर सकते हैं. पप्पू यादव पिछली बार आरजेडी से ही सांसद बने थे. लेकिन बाद में उन्हें पार्टी से निष्कासित कर दिया गया था.