close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

सुशील मोदी का तेजस्वी यादव पर तंज, कहा- RJD को लोकतंत्र बचाने की शुरुआत घर से करनी चाहिए

सुशील मोदी ने कहा लोकसभा चुनाव में बिहार में एनडीए को 'वॉकओवर' मिला हुआ है, क्योंकि एनडीए और महागठबंधन के वोट में 20 प्रतिशत से ज्यादा का फासला है. महागठबंधन का बिहार में खाता भी नहीं खुल पाएगा.

सुशील मोदी का तेजस्वी यादव पर तंज, कहा- RJD को लोकतंत्र बचाने की शुरुआत घर से करनी चाहिए
सुशील मोदी का तेजस्वी यादव पर तंज. (फाइल फोटो)

पटना : बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने बिहार विधानसभा में विपक्ष के नेता और पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव द्वारा इस लोकसभा चुनाव में मतदान नहीं किए जाने पर कटाक्ष करते हुए कहा कि राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) को लोततंत्र बचाने की शुरुआत अपने घर से करनी चाहिए.

बीजेपी के वरिष्ठ नेता मोदी ने कहा, "वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव में बिहार में एनडीए को 'वॉकओवर' मिला हुआ है, क्योंकि एनडीए और महागठबंधन के वोट में 20 प्रतिशत से ज्यादा का फासला है. इस चुनाव में महागठबंधन का बिहार में खाता भी नहीं खुल पाएगा."

मोदी ने सोमवार को बिना नाम लिए तेजस्वी पर तंज कसते हुए ट्वीट किया, "जो लोग मतदाताओं को इमोशनल ब्लैकमेलिंग के जरिए गुमराह करने की कोशिश में लगे थे और केंद्र में नई सरकार के गठन के बजाय लालू प्रसाद को जेल से छुड़ाने के लिए वोट मांग रहे थे, उन्हें एक्जिट पोल पर टिप्पणी करने से पहले बताना चाहिए कि उन्होंने खुद वोट क्यों नहीं डाले?"

उन्होंने आगे लिखा, "क्या वे लालू प्रसाद को जेल में रखकर और बड़े भाई को अपमानित कर पार्टी पर कब्जा करना चाहते हैं? आरजेडी को लोकतंत्र बचाने की शुरुआत अपने घर से करनी चाहिए." 

मोदी ने यहां कहा, "2009 में जेडीयू और 2014 में लोजपा के साथ चुनाव लड़ने वाले एनडीए को बिहार में संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए) से करीब 11 प्रतिशत से ज्यादा मत मिले थे. इस बार एनडीए में जेडीयू और लोजपा के साथ आने से यह अंतर 20 प्रतिशत से ज्यादा का है." 

उन्होंने आगे कहा, "वर्ष 2009 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी जद(यू) के साथ चुनाव लड़ी थी तो 38 प्रतिशत वोट प्राप्त हुए थे और 32 सीटों पर जीत मिली थी, तब आरजेडी और लोजपा साथ थे और उन्हें 26 प्रतिशत मत और मात्र चार सीटें मिली थीं. उस समय एनडीए को यूपीए से 11 प्रतिशत से अधिक वोट मिले थे."