close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

फांसी से ठीक पहले अफजल ने बीवी को लिखा था खत

फांसी पर चढाए जाने से चंद घंटे पहले अफजल गुरु ने बीवी के नाम अपना आखिरी खत लिखा था। तिहाड़ जेल के अधिकारियों ने सोमवार को बताया कि उर्दू में लिखे गए इस खत को शनिवार को ही भेज दिया गया, लेकिन कश्मीर में उसकी बीवी के पास अभी तक यह खत नहीं पहुंचा है।

नई दिल्ली : फांसी पर चढाए जाने से चंद घंटे पहले अफजल गुरु ने बीवी के नाम अपना आखिरी खत लिखा था। तिहाड़ जेल के अधिकारियों ने सोमवार को बताया कि उर्दू में लिखे गए इस खत को शनिवार को ही भेज दिया गया, लेकिन कश्मीर में उसकी बीवी के पास अभी तक यह खत नहीं पहुंचा है। तिहाड़ जेल के अधिकारियों ने बताया कि 2001 में संसद पर हुए हमला मामले में दोषी ठहराए गए अफजल गुरु को 8 फरवरी की शाम को बताया गया कि उसे कल सुबह फांसी दे दी जाएगी।
अपना नाम जाहिर नहीं होने देने की शर्त पर अधिकारी ने कहा, जब उसे फांसी की जानकारी दी गई तब वह शांत और प्रतिक्रिया विहीन था। उसने इच्छा जाहिर की कि वह अपनी बीवी को खत लिखना चाहता है। जेल अधीक्षक ने उसे कलम और कागज दिया। अधिकारी ने बताया, उसने उर्दू में खत लिखा जिसे उसी दिन कश्मीर में रह रहे परिवार के पते पर भेज दिया गया।
जब घाटी के सोपोर में रह रहे उसके परिवार से खत के बारे में पूछताछ की तो उन्होंने कहा कि अभी तक उन्हें यह खत नहीं मिला है। अफजल गुरु के चचेरे भाई यासीन गुरु ने बताया, हमें अभी तक खत नहीं मिला है। आज जो खत हमें मिला है वह शायद उसकी फांसी दिए जाने की जानकारी से संबंधित है। वह खत हमें बाद में मिलेगा। परिवार ने मांग की है कि उन्हें अफजल गुरु का अंतिम संस्कार करने की इजाजत मिलनी चाहिए। एक अन्य अधिकारी ने कहा, सरकार इस बारे में फैसला लेगी।
जेल में अकेलेपन के दौरान पढ़ते लिखते हुए समय गुजारने वाला अफजल गुरु ढेर सारी किताबें और हाथ से लिखे लेख छोड़ गया है। परिवार ने जेल अधिकारियों से कहा है कि अफजल के सभी सामान उन्हें सौंपे जाएं। अधिकारी ने कहा, इस मामले पर फैसला सरकार ले सकती है। (एजेंसी)