close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

`हम चाहते थे कि राम सिंह को सरेआम फांसी दी जाती`

दिल्ली गैंगरेप के मुख्य आरोपी रामसिंह की खुदकुशी के बाद गैंगरेप पीड़िता के भाई ने कहा कि हम चाहते थे रामसिंह को सरेआम फांसी दी जाती तो ज्यादा अच्छा होता।

नई दिल्ली : राष्ट्रीय राजधानी में 16 दिसंबर को हुए सामूहिक बलात्कार कांड की पीड़िता के परिवार ने आज कहा कि वे मामले के मुख्य आरोपी के कथित तौर पर खुदकुशी कर लेने से ‘हतप्रभ हैं ,लेकिन दुखी नहीं’ हैं और उन्हें अन्य चारों को फांसी की सजा दिए जाने का इंतजार है । पीड़िता के भाई ने कहा कि परिवार चाहता है कि सुनवाई यथाशीघ्र पूरी हो ।
उन्होंने कहा कि खुदकुशी की खबर पर हम हतप्रभ हैं ,लेकिन दुखी नहीं है । उसे वैसे भी फांसी मिलनी ही थी । हम चाहते थे कि उसे सरेआम फांसी दी जाए । अब हम बाकी चारों को फांसी दिए जाने का इंतजार कर रहे हैं । भाई ने इस तरह का कोई संदेह होने से इंकार किया कि मामले में किसी तरह गड़बड़ी हुई है और कहा कि हो सकता है कि वह अपराध बोध से ग्रस्त हो गया हो । उन्होंने कहा कि सिंह जानता था कि उसके खिलाफ मजबूत सबूत हैं और यह भी कि उसे मौत की सजा मिलनी ही है ।
उन्होंने कहा कि बाकी बचे आरोपियों के लिए यह सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि वह रामसिंह जैसी खुदकुशी नहीं करे और उन्हें फांसी पर लटकाया जाना चाहिए।
गौरतलब है कि दिल्ली गैंगरेप के मुख्य आरोपी राम सिंह ने सोमवार सुबह 5 बजे के करीब तिहाड़ जेल में खुदकुशी कर ली है। वह उस बस का चालक था जिसमें लड़की के साथ बलात्कार हुआ था । सोलह दिसंबर की घटना के बाद उसे जल्द ही आरके पुरम स्थित उसके घर के पास से गिरफ्तार कर लिया गया था ।
उसने और एक नाबालिग सहित पांच अन्य लोगों ने दक्षिण दिल्ली में लड़की से दुष्कर्म किया था । उन्होंने लड़की को तथा उसके पुरुष मित्र को बर्बरता से पीटा था । पीड़िता की 29 दिसंबर को सिंगापुर के एक अस्पताल में मौत हो गई थी ।
राम सिंह और चार अन्य आरोपियों के खिलाफ यहां एक फास्ट ट्रैक अदालत में सुनवाई चल रही है जबकि किशोर घोषित किए गए एक अन्य आरोपी के खिलाफ मामला किशोर न्याय बोर्ड में चल रहा है । (एजेंसी)