चीन के बाजार में भारतीय ‘ब्लैक टी’ की बढ़ी मांग

माना जाता है कि भारत में चाय चीन से आई लेकिन आजकल भारतीय चाय, चीन के बाजार में धीरे धीरे, किंतु मजबूती के साथ अपनी पैठ बना रही है। बाजार विशेषज्ञों का कहना है कि वर्ष 2015 तक चीन में भारतीय चाय की मांग 10 करोड़ किलोग्राम तक पहुंच जायेगी। चीन के बाजार में भारतीय ‘ब्लैक टी’ की विशेष पूछ है।

बीजिंग : माना जाता है कि भारत में चाय चीन से आई लेकिन आजकल भारतीय चाय, चीन के बाजार में धीरे धीरे, किंतु मजबूती के साथ अपनी पैठ बना रही है। बाजार विशेषज्ञों का कहना है कि वर्ष 2015 तक चीन में भारतीय चाय की मांग 10 करोड़ किलोग्राम तक पहुंच जायेगी। चीन के बाजार में भारतीय ‘ब्लैक टी’ की विशेष पूछ है। भारत ने भी दार्जिलिंग और नीलगिरि की चाय का प्रचार बढ़ा दिया है और इसकी ओर चीन की युवा पीढ़ी आकषिर्त हुई है।
चीन के पेय बाजार में पारंपरिक तौर पर ‘ग्रीन टी’ का वर्चस्व है लेकिन ‘ब्लैक टी’ संस्कृति के आने के बाद वहां मांग में काफी इजाफा हुआ है। भारतीय दूतावास में ‘भारतीय चाय संवर्धन और टी टेस्टिंग’ समारोह के मौके पर विशेषज्ञों ने कहा कि भारतीय चाय की मांग वर्ष 2015 तक 10 करोड़ किग्रा पहुंचने की उम्मीद है। (एजेंसी)