ब्रिटिश महिला ने FB पर पूर्व पति की नई पत्नी को कहा कुछ ऐसा कि हो गई 2 साल की जेल

शाहरवेश ने अपने पूर्व पति की दूसरी शादी की तस्वीरों पर फेसबुक पर कमेंट किया था. कमेंट में शाहरवेश ने अपने पूर्व पति की दूसरी पत्नी समाह-अल-हम्मादी को 'घोड़ा' और अपने पूर्व पति को 'इडियट' कहा था. 

ब्रिटिश महिला ने FB पर पूर्व पति की नई पत्नी को कहा कुछ ऐसा कि हो गई 2 साल की जेल
शाहरवेश ने अपने पूर्व पति की दूसरी शादी की तस्वीरों पर फेसबुक पर कमेंट किया था.

नई दिल्ली: एक ब्रिटिश महिला को हाल ही में अपने पूर्व पति की पत्नी को सोशल मीडिया पर ''घोड़ा'' बोलने के अपराध में दुबई में 2 साल की सजा और 45 लाख का जुर्माना हुआ है. ब्रिटिश नागरिक, ललेह शाहरवेश को मार्च में दुबई के सख्त साइबर अपराध कानूनों के तहत गिरफ्तार किया गया था. शाहरवेश को दुबई पुलिस द्वारा उस वक्त गिरफ्तार किया गया जब वह दुबई अपने पूर्व पति पेड्रो मैनुअल कोर्रेया डॉस सैंटोस के अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए पहुंची. 

दरअसल, शाहरवेश ने अपने पूर्व पति की दूसरी शादी की तस्वीरों पर फेसबुक पर कमेंट किया था. कमेंट में शाहरवेश ने अपने पूर्व पति की दूसरी पत्नी समाह-अल-हम्मादी को 'घोड़ा' और अपने पूर्व पति को 'इडियट' कहा था. शाहरवेश ने यह कमेंट गुस्से में किए थे क्योंकि उनके पति ने उनकी 18 साल की शादी को तोड़कर 2016 में दूसरी शादी कर ली थी. 

ललेह शाहरवेश, जिसे फेसबुक के माध्यम से पता चला था कि उसके पूर्व पति ने दूसरी शादी की है, तो उसने फारसी में लिखा, "मुझे आशा है कि आप जमीन के अंदर जाएंगे, आप बेवकूफ हैं. आपपर धिक्कार है. आपने मुझे इस घोड़े के लिए छोड़ दिया.'' शाहरवेश ने जब यह कमेंट किया था तब वह यूके में थी. अब शाहरवेश की 14 वर्षीय बेटी, पेरिस ने दुबई के शासक से अपनी मां को छुड़ाने  की अपील की है. उसने पत्र में लिखा, "मैं इस बात पर जोर नहीं दे सकती कि मुझे कितना डर लगा, खासकर अपने पिता को खोने के बाद, क्योंकि मुझे अपनी मां को खोने के बारे में भी चिंता हो रही थी. मैं आपसे विनम्र आवेदन करती हूं कि कृपया, आप मेरी मां का पासपोर्ट लौटा दें और उन्हें वापस आने दें. 

समाह-अल-हम्मादी ने शाहरवेश के खिलाफ साइबरबुलिंग के आरोप में शिकायत दर्ज की थी जिस कारण जब वह 10 मार्च को अपने पूर्व पति के अंतिम संस्कार के लिए पहुंची तो दुबई पुलिस द्वारा उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया. हम्मादी ने कहा कि वह शाहरवेश को दंडित देखकर अच्छा महसूस कर रही हैं. ब्रिटिश टैब्लॉइड डेली मेल से बात करते हुए, उन्होंने कहा, "यह दुबई में एक अपराध है. यह सही है. मुझे इसका खेद नहीं है. उसने सैंटोस के आखिरी वक्त में उसे परेशान किया. इसलिए कानून को अपना काम करने दें. 

वहीं अपने बचाव में शाहरवेश ने कहा, "मैं घबरा गई थी. मैं सो नहीं पा रही थी न ही खाना खा पा रही थी. मैं तनाव में थी. उसने अपने कार्यों पर पछतावा भी व्यक्त किया, शाहरवेश ने कहा, "मुझे पता है कि मुझे ऐसा नहीं करना चाहिए था. मुझे बेहतर व्यवहार करना चाहिए था, लेकिन मुझे गुस्सा आ गया. मुझे विश्वासघात और चोटिल महसूस हुआ. शादी के 18 साल बाद, हमारी शादी खत्म होने के थोड़े ही वक्त में उसने दूसरी शादी कर ली और उसने मुझे पहले से बताना भी जरूरी नहीं समझा.

कोर्ट की सुनवाई का इंतजार करने के कारण शाहरवेश को दुबई छोड़ने की अनुमति नहीं दी गई है. वह एक महीने से अधिक समय से देश में है और उसका दावा है कि विदेश में रहने के कारण वह ऋण में है. उसने यह भी दावा किया है कि उसे ब्रिटिश प्राधिकरण से भी कुछ मदद मिली है. हालांकि, शाहरवेश को दुबई में अंतरराष्ट्रीय एनजीओ में एक वकील मिल गया है. मानवाधिकार के सीईओ राधा स्टर्लिंग ने कहा, "इंग्लैंड में शाहरवेश द्वारा की गई पोस्ट को अपराध नहीं माना जाएगा, और अगर यूएई शाहरवेश को इंग्लैंड से पोस्ट करने के कारण हिरासत में रखता है तो इससे यह खुद को विदेशियों के लिए नो गो जोन बना लेगा''.