• 0/542 लक्ष्य 272
  • बीजेपी+

    0बीजेपी+

  • कांग्रेस+

    0कांग्रेस+

  • अन्य

    0अन्य

देखते-देखते बन बैठा 47 बच्चों का बाप, अब पत्नी बोली- मुझे तलाक चाहिए

महिला को डर है कि जब सभी बच्चे 18 साल के हो जाएंगे तो उनके पास अधिकार होगा कि वे अपने पिता के बारे में जानकारी हासिल करें, तब क्या होगा.

देखते-देखते बन बैठा 47 बच्चों का बाप, अब पत्नी बोली- मुझे तलाक चाहिए
यह कहानी 'विकी डोनर' फिल्म की याद दिलाती है.

नई दिल्ली: क्या आपने 'विकी डोनर' फिल्म देखी है. अगर देखी है तो बहुत अच्छी बात है. जो लोग नहीं देखे हैं उन्हें बता दें कि यह कहानी है एक स्पर्म डोनर की. आयुष्मान खुराना ने फिल्म में शानदार अभिनय किया था. एक ऐसी ही कहानी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म (Reddit) पर तेजी से वायरल हो रही है. इसमें एक महिला ने खुलासा किया कि उसके पति तकरीबन 50 बच्चों के स्पर्म फादर हैं.

महिला ने सोशल मीडिया पर अपनी कहानी लिखते हुए बताया कि उसके पति ने शादी से पहले ही उसे बताया कि वह स्पर्म डोनर है. उस दौरान मैंने ही उन्हें इसके बारे में कुछ और नहीं बताने को कहा था. अब जब मुझे पता चला है कि वे 50 बच्चों के स्पर्म फादर हैं तो मैं हैरान हूं, परेशान हूं. हमारा आठ साल का रिश्ता तलाक की कगार पर आ पहुंचा है. उसने कमेंट के जरिए लोगों से उनकी राय भी मांगी है.

Period अब समस्या नहीं, यह कंपनी देती है एक दिन की 'पेड लीव'

महिला ने कहा कि जब उसके पति ने बताया कि वह स्पर्म डोनेट करते हैं तो मुझे लगा कि ज्याद से ज्याद वे 2-3  बच्चों के स्पर्म फादर होंगे. इसमें उनकी कोई गलती नहीं है. गलती तो मेरी ही है, लेकिन मैं अब तक अधूरा सच जानती थी. पूरा सच जानने के बाद मैं परेशान हूं. महिला का कहना है कि कानून कहता है कि 18 साल के बाद बच्चों को यह अधिकार होता है कि वह अपने पिता के बारे में जानकारी हासिल करे. ऐसे में जब हम बूढ़े हो जाएंगे तब हमारा क्या होगा.

VIDEO: भारत और पाकिस्तान को लेकर बनाया गया यह रैप सॉन्ग हुआ वायरल, आप भी देखिये

सोशल मीडिया पर लोगों ने इस कहानी को पढ़ने के बाद महिला को कई तरह के सुझाव दिए हैं. कुछ लोगों ने कहा कि इसमें उसकी कोई गलती नहीं है. क्योंकि, वह शादी से पहले ही इसके बारे में बता चुका था. दूसरी बात कि उसने स्पर्म डोनेट किया है. किसी भी महिला से शारीरिक संबंध नहीं बनाए हैं. दोनों की आठ साल की बेटी भी है. ऐसे में लोगों ने यही सलाह दी है कि तलाक लेना अच्छी बात नहीं होगी. बेवजह उनकी बेटी की जिंदगी तबाह होगी.

स्पर्म डोनेशन कई देशों में कानूनी है
स्पर्म डोनेशन का बहुत बड़ा बाजार है और कई देशों में यह कानूनी भी है. दरअसल, भागम दौड़ वाली जिंदगी में कई लोग तनाव में होते हैं. इसका असर फर्टिलिटी पर पड़ता है और वे एक समय के बाद बच्चे पैदा करने में अक्षम हो जाते हैं. ऐसे में स्पर्म डोनेशन के जरिए ऐसे दंपत्ति को मां-बाप बनने का सुख मिलता है. अगर आपने 'विकी डोनर' फिल्म देखी है तो आप इस कहानी को और बेहतर तरीक से समझ पाएंगे और महिला की बातों को महसूस कर पाएंगे.